ब्रेकिंग
बिलासपुर: महादेव और रेड्डी अन्ना बुक के सटोरियों पर पुलिस की बड़ी कार्यवाही बिलासपुर: जूनी लाइन स्थित सुरुचि रेस्टोरेंट के पास रहने वाले कृष्ण कुमार वर्मा के बड़े बेटे श्रीकांत ... बिलासपुर में UP65/ EC- 4488 नँबर की कार से जब्त हुए 5 लाख नकद बिलासपुर: सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़ की बैठक में संगठन की मजबूती पर चर्चा बिलासपुर: शैलेश, अर्जुन, रामशरण और विजय ने कहा- पूर्व मंत्री अमर अग्रवाल के कार्यकाल में भाजपा के पू... बिलासपुर: मुफ्त वैक्सीन के लिए अब केवल 7 दिन शेष, कलेक्टर ने की अपील, सभी लगवा लें टीका बिलासपुर: मोपका और चिल्हाटी के 845/1/न, 845/1/झ, 1859/1, 224/380, 1053/1 खसरा नँबरों की शासकीय भूमि ... बिलासपुर: क्या अमर अग्रवाल की बातों को गंभीरता से लेंगे कलेक्टर सौरभ कुमार? नेहरू चौक में लगी थी राज... बिलासपुर: इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के द्वारा नर्सिंग और गैर नर्सिंग स्टाफ़ के व्यक्तित्व विकास एवं कम्... बिलासपुर: गौरांग बोबड़े हत्याकांड के आरोपी रहे किशुंक अग्रवाल के पास से जब्त हुए 20 लाख

डागा कॉलेज के नाम 1486 मोबाइल ले गया अज्ञात, छात्रों को नहीं मिला, कुणाल ने भाजपा नेताओं को ठहराया जिम्मेदार

रायपुर। सामाजिक कार्यकर्ता व आरटीआई एक्टिविस्ट कुणाल शुक्ला से जानकारी मिली कि रायपुर के डागा कॉलेज के प्रिंसिपल श्री दुबे जब संचार क्रांति योजना अंतर्गत बंटने वाले मोबाइल फ़ोन लेने जिला पंचायत पहुंचे, तो उन्हें पता चला कि कोई व्यक्ति पहले ही वहां से बड़ी मात्रा में मोबाइल फ़ोन लेकर चला गया है। परिणामस्वरूप अपने छात्रों को मोबाइल वितरित करने के लिए मोबाइल लेने गए डागा कॉलेज के प्रिंसिपल श्री दुबे को यह कहा गया कि आपका ही कोई व्यक्ति मोबाइल फ़ोन लेकर चला गया है।

पूरा मामला, रायपुर के डागा कॉलेज के प्रिंसिपल श्री दुबे संचार क्रांति योजना (SKY ) का मोबाइल लेने 22 सितंबर की सुबह 10:30 बजे जिला पंचायत पहुंचे। यहां उन्हें इंतज़ार करने कहा गया, दिन भर इंतज़ार के बाद उन्हें बताया गया कि 1,486 मोबाइल हैंड सेट नरेश गुप्ता नामक व्यक्ति ले गया है। श्री दुबे ने कहा कि ऐसे व्यक्ति का कॉलेज से कोई संबंध नहीं है। डागा कॉलेज के प्रिंसिपल श्री दुबे द्वारा विरोध करने पर भी कोई नतीजा नहीं निकला।

एक्टिविस्ट कुणाल शुक्ला ने बताया कि रविवार को कॉलेज बिल्डिंग में छात्रों को नहीं बल्कि बाल आश्रम में सुबह 10:30 बजे मोबाइल को बांटने का प्लान है। उन्होंने कहा कि भाजपा के विधायक श्रीचंद सुंदरानी के करकमलों से आश्रम में इस मोबाइल का वितरण किया जाना है। रविवार होने से छात्राएं गांव और घरों को चली जाती हैं। मतलब साफ़ है कि मोबाइल वास्तविक हाथों तक पहुंच नहीं पाएंगे। छात्रों को लाभांवित करने के लिए स्काई मोबाइल का वितरण पूरे प्रदेश में किया जा रहा है। उसी पार्टी के चंद नेताओं की मिलीभगत से जिन छात्रों को वास्तविक में इस मोबाइल की जरुरत है। उनके हाथ में यह नहीं पहुंच पा रहा है। जो दुर्भाग्यजनक है।

एक्टिविस्ट कुणाल ने कहा कि वे इस मामले में मुख्य निर्वाचन अधिकारी से शिकायत करेंगे। उन्होंने बताया कि सबसे बड़ा यहां सवाल इस बात का उठता है कि आखिर में नरेश गुप्ता को मोबाइल फोन ले जाने की ऑथिरिटी किसने दी। या फिर बिना ही किसी स्वीकृति पत्र की उन्होंने जिला पंचायत से मोबाइल ले लिया। मोबाइल आश्रम में बटे या ना बटे पर जिन छात्रों के लिए इन मोबाइल को बांटा जा रहा है। जब उन्हें ही नहीं मिलेगा तो इसका लाभ कैसा। इन सबके लिए उन्होंने भाजपा नेताओं को जिम्मेदार ठहराया है।

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772