ब्रेकिंग
बिलासपुर: जूनी लाइन स्थित सुरुचि रेस्टोरेंट के पास रहने वाले कृष्ण कुमार वर्मा के बड़े बेटे श्रीकांत ... बिलासपुर में UP65/ EC- 4488 नँबर की कार से जब्त हुए 5 लाख नकद बिलासपुर: सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़ की बैठक में संगठन की मजबूती पर चर्चा बिलासपुर: शैलेश, अर्जुन, रामशरण और विजय ने कहा- पूर्व मंत्री अमर अग्रवाल के कार्यकाल में भाजपा के पू... बिलासपुर: मुफ्त वैक्सीन के लिए अब केवल 7 दिन शेष, कलेक्टर ने की अपील, सभी लगवा लें टीका बिलासपुर: मोपका और चिल्हाटी के 845/1/न, 845/1/झ, 1859/1, 224/380, 1053/1 खसरा नँबरों की शासकीय भूमि ... बिलासपुर: क्या अमर अग्रवाल की बातों को गंभीरता से लेंगे कलेक्टर सौरभ कुमार? नेहरू चौक में लगी थी राज... बिलासपुर: इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के द्वारा नर्सिंग और गैर नर्सिंग स्टाफ़ के व्यक्तित्व विकास एवं कम्... बिलासपुर: गौरांग बोबड़े हत्याकांड के आरोपी रहे किशुंक अग्रवाल के पास से जब्त हुए 20 लाख बिलासपुर: बिल्हा क्षेत्र से गायब हुई नाबालिग लड़की तेलंगाना में मिली

देखें फोटो:बिलासपुर पुलिस ने इतना पीटा की 3 दिन बाद भी नहीं मिटे डंडे के निशान

बिलासपुर/तीन दिन पहले 18 सितंबर को कांग्रेस भवन में घुसकर कांग्रेसियों पर पुलिस कर्मियों ने ताबड़तोड़ लाठियां बरसाई थी.

इस घटना में कांग्रेस के पदाधिकारियों  को भी पुलिस कर्मियों ने जमकर पीटा. बुरी तरह से जख्मी प्रदेश महामंत्री अटल श्रीवास्तव और एआईसीसी मेंबर विष्णु यादव को स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया. आज विष्णु यादव अस्पताल से छुट्टी होने के बाद कांग्रेस भवन में   डंडों से हुई पिटाई के निशान मीडिया  को दिखाए . 

विष्णु  के शरीर पर कई जख्म

विष्णु  के शरीर पर कई जगह चोट के निशान झलक रहे हैं. सबसे ज्यादा डंडे उनकी  बाजुओं पर पड़े हैं. राष्ट्रीय पार्टी के नेताओं की    इस तरह से हुई पिटाई को लेकर पुलिस प्रशासन सवालों के घेरे में है. बताया जाता है कि मौके पर मौजूद  एएसपी नीरज चंद्राकर ने अति उत्सुकतावश लाठी चार्ज के निर्देश पुलिस कर्मियों को दे दिए.

अफसर का कहना मानकर पुलिस कर्मियों ने भी कांग्रेस पदाधिकारी और उनके समर्थकों को दौड़ा-दौड़कर पीटा. आमतौर पर किसी संवेदनशील मामले या फिर भीड़ को नियंत्रित करने के लिए सीधा निर्देश मैजिस्ट्रेट द्वारा दिया जाता है. किसी पुलिसकर्मी या अफसर के द्वारा नहीं. यही नहीं लाठी चार्ज के पहले नियमानुसार भीड़ को खदेड़ने के लिए उन्हें सचेत किया जाता है और चेतावनी भी दी जाती है. लेकिन इस प्रक्रिया का पालन नहीं किया गया.

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772