ब्रेकिंग
बिलासपुर: पावर लिफ्टर निसार अहमद एवं अख्तर खान रविंद्र सिंह के हाथों हुए सम्मानित बिलासपुर: भाजपा पार्षद दल ने पुलिस ग्राउण्ड में जिला प्रशासन से रावण दहन की मांगी अनुमति बिलासपुर तहसीलदार अतुल वैष्णव का सक्ति और ऋचा सिंह का रायगढ़ हुआ ट्रांसफर बिलासपुर: आरोपी अमित भारते, जितेंद्र मिश्रा और संदीप मिश्रा को नहीं पकड़ पा रही है SSP पारूल माथुर की... बिलासपुर: कलेक्टर सौरभ कुमार ने सरकार हित में सरकारी जमीन बचाने वाले अधिवक्ता प्रकाश सिंह के साथ किय... बिलासपुर: उस्लापुर के रॉयल पार्क में नजर आएगी गरबा की धूम, थिरकने के लिए तैयार हैं शहरवासी बिलासपुर: कार्य की धीमी गति पर कंपनी के साथ जिम्मेदार अधिकारियों पर भी की जानी चाहिए थी कार्यवाही, स... बिलासपुर: महादेव और रेड्डी अन्ना बुक के सटोरियों पर पुलिस की बड़ी कार्यवाही बिलासपुर: जूनी लाइन स्थित सुरुचि रेस्टोरेंट के पास रहने वाले कृष्ण कुमार वर्मा के बड़े बेटे श्रीकांत ... बिलासपुर में UP65/ EC- 4488 नँबर की कार से जब्त हुए 5 लाख नकद

कोटा में भगवा हुआ प्रबल

बिलासपुर(शशांक दुबे)। सत्ता पक्ष की उछलकूद से इस बात के संकेत मिलते हैं कि अब 22 तारीख के बाद कभी भी आचार संहिता की घोषणा हो सकती है। यही कारण है कि वर्ष 2019 के चुनाव में विपक्ष के अस्तित्व से ही इनकार करने वाले मोदी शाह की जोड़ी छत्तीसगढ़ में उतर गई है। इससे यह पता चलता है कि छ.ग का विधानसभा चुनाव भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व के लिए कितना अहम है।

बिलासपुर जिले की 2 सीट भाजपा के लिए विशेष है, पहली कोटा और दूसरी बिल्हा, इन दोनों सीट पर पार्टी विशेष रणनीति पर चल रही है। कोटा का अब तक का इतिहास है कि यहां भाजपा के आला ने मुंह के खाये हैं। अविभाजित म.प्र के वक्त सुंदरलाल पटवा का प्रत्याशी यहां हारा, छ.ग में नंदकुमार साय इसे प्रभावित करने पड़ोसी विधानसभा मरवाही से लड़े और भाजपा ने दोनों सीट हारी। उपचुनाव में तो पूरा मंत्रिमंडल यहां डटा और हारा, फिर प्रदेश के कद्दावर मंत्री बृजमोहन अग्रवाल को यहां निराशा मिली। जिले के क्षत्रप अमर की पसंद भी यहां हारी। इतनी संख्या में हार के बाद भाजपा के केंद्रीय व प्रादेशिक नेतृत्व को यहां अपना पुराना परंपरागत भगवा कार्ड याद आ रहा है। 18 ता. की सभा में इसे चलाया जाएगा।

कोटा के राजनीतिक परिदृश्य में पिछले 4 वर्षों से हिंदुत्व कार्ड जमकर चल रहा है। गौ-सेवा से लेकर शोभायात्रा और मंगल गुरु की खिचड़ी के पत्ते चले। फिर जूदेव की पुरानी मुछे दिखाकर उनकी आन और शान को बताया जा रहा है। भाजपा का प्रयास है कि हिंदू तरंग छेड़कर जंगल से शहर तक अपने ढहते किले की दीवार को बचाया जाए।

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772