ब्रेकिंग
बिलासपुर: जिला पंचायत सभापति अंकित गौरहा को प्रदेश युवा संगठन चुनाव में मिली नई जिम्मेदारी बिलासपुर: मुख्यमंत्री जी! क्लेक्टर सौरभ कुमार को इस सड़क में हुआ भ्रष्टाचार नहीं आ रहा नजर. प्रियंका ... बिलासपुर: टिकरापारा मन्नू चौक निवासी रिशु घोरे को पुलिस ने चाकू के साथ किया गिरफ्तार बिलासपुर: पावर लिफ्टर निसार अहमद एवं अख्तर खान रविंद्र सिंह के हाथों हुए सम्मानित बिलासपुर: भाजपा पार्षद दल ने पुलिस ग्राउण्ड में जिला प्रशासन से रावण दहन की मांगी अनुमति बिलासपुर तहसीलदार अतुल वैष्णव का सक्ति और ऋचा सिंह का रायगढ़ हुआ ट्रांसफर बिलासपुर: आरोपी अमित भारते, जितेंद्र मिश्रा और संदीप मिश्रा को नहीं पकड़ पा रही है SSP पारूल माथुर की... बिलासपुर: कलेक्टर सौरभ कुमार ने सरकार हित में सरकारी जमीन बचाने वाले अधिवक्ता प्रकाश सिंह के साथ किय... बिलासपुर: उस्लापुर के रॉयल पार्क में नजर आएगी गरबा की धूम, थिरकने के लिए तैयार हैं शहरवासी बिलासपुर: कार्य की धीमी गति पर कंपनी के साथ जिम्मेदार अधिकारियों पर भी की जानी चाहिए थी कार्यवाही, स...

सीवरेज के सिरदर्द से जाने कब मिलेगा छुटकारा, चुनाव तक रुका रहेगा काम फिर खोदी जाएगी सड़कें

बिलासपुर। सीवरेज के गड्ढों को पाटकर चमकती सड़कों का निर्माण कर दिया गया है। बहरहाल यह निर्माण केवल चुनाव तक टिकाऊ रहेगा, चुनाव होते हैं फिर से खुदाई कार्यक्रम जोरों-शोरों से शुरू हो जाएगा। सीवरेज शहर की सबसे बड़ी और पुरानी समस्या बन चुकी है। आम नागरिक सीवरेज का नाम सुनते ही खौल उठता है। कईयों का यह भी कहना है कि शहर को बर्बाद करने के पीछे केवल सीवरेज का हाथ है। जो विकास के नाम पर भ्रष्टाचार की कमाई से गड्ढा पाट रहे हैं। वही ज्यादा दिन तक नहीं टिक पा रहा है।

आगामी चुनाव के मद्देनजर सीवरेज की खुदाई को रोक दिया गया है। निगम फिर से चुनाव से पहले सीवरेज को पूरा करने में कामयाब नहीं हो पाया। चुनावी आचार संहिता अब जल्द ही लागू हो जाएगी। बारिश की आड़ लेकर सीवरेज का काम रोक दिया गया। सीवरेज की वजह से सड़क के कैसे हालात हैं, यह किसी से छुपा नहीं है। जगह-जगह पर गड्ढे, नई सड़कों का भसकना सीवरेज का ही उपहार है। दुर्घटना की नई-नई स्थिति बनाता सीवरेज प्रोजेक्ट। यहां यह भी उल्लेखनीय है कि अगर चुनाव के दौरान सीवरेज का काम चला तो जनता चुनाव में अपना गुस्सा न दिखा दे। वहीं ठेकेदार को प्रॉपर्टी चेंबर बनाने के लिए कहा गया था वो भी ऐसी जगह है जहां लोगों को दिक्कत नहीं है। वहीं चुनाव के नजदीक आते ही आते ही यह भी बंद कर दिया जाएगा। इस निर्णय से निगम का काम और सीवरेज का प्रोजेक्ट और अटक जाएगा।

उल्लेखनीय है कि शहर में सीवरेज का काम अक्टूबर 2008 में शुरू हुआ था। काम पूरा करने के लिए अक्टूबर 2010 तक का समय मांगा गया था, यानी 2 वर्षों में सीवरेज का पूरा काम होना था। इसमें 267 किलोमीटर की लंबी पाइप लाइन बिछाने का ठेका सिंप्लेक्स प्राइवेट लिमिटेड को मिला था। मसलन अब 2018 हो चुका है और सीवरेज की लागत भी बढ़ती रही। शुरू में डीपीआर बनाने के लिए 5.22 करोड रुपए का खर्च किया गया था, लागत थी 206.36 करोड़ सुपरविजन कार्य के लिए भी करोड़ों खर्चे गए यहां 75.96 करोड़ की लागत पहली बार बढ़ी, फिर 13.47 करोड़ की लागत 115.27 करोड़ की लागत बढ़ी इस तरह कुल मिलाकर अबतक वर्तमान की लागत 422.27 करोड़ की है।

जनता को खुश करने के लिए सीवरेज के गड्ढे पाटकर सड़क बनाए जा रहे हैं। सीवरेज प्रोजेक्ट रोककर अब कोतवाली के सामने खुद ही हुई सड़क को निगम ने पटवा दिया है। इस जगह पर सड़क बनाने की तैयारी चल रही है। चुनाव के बाद फिर से काम चालू होगा तो यहां खुदाई कर दी जाएगी। इस तरह विद्यानगर विनोबा नगर के गड्ढों को भी पाट दिया गया। इस मामले में  सीवरेज सेल  अधिकारी कहते हैं काम फिलहाल बंद है, इसे कब शुरू करना है। इसकी जानकारी निगम अध्यक्ष द्वारा ही दी जाएगी।

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772