ब्रेकिंग
बिलासपुर: कार्य की धीमी गति पर कंपनी के साथ जिम्मेदार अधिकारियों पर भी की जानी चाहिए थी कार्यवाही, स... बिलासपुर: महादेव और रेड्डी अन्ना बुक के सटोरियों पर पुलिस की बड़ी कार्यवाही बिलासपुर: जूनी लाइन स्थित सुरुचि रेस्टोरेंट के पास रहने वाले कृष्ण कुमार वर्मा के बड़े बेटे श्रीकांत ... बिलासपुर में UP65/ EC- 4488 नँबर की कार से जब्त हुए 5 लाख नकद बिलासपुर: सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़ की बैठक में संगठन की मजबूती पर चर्चा बिलासपुर: शैलेश, अर्जुन, रामशरण और विजय ने कहा- पूर्व मंत्री अमर अग्रवाल के कार्यकाल में भाजपा के पू... बिलासपुर: मुफ्त वैक्सीन के लिए अब केवल 7 दिन शेष, कलेक्टर ने की अपील, सभी लगवा लें टीका बिलासपुर: मोपका और चिल्हाटी के 845/1/न, 845/1/झ, 1859/1, 224/380, 1053/1 खसरा नँबरों की शासकीय भूमि ... बिलासपुर: क्या अमर अग्रवाल की बातों को गंभीरता से लेंगे कलेक्टर सौरभ कुमार? नेहरू चौक में लगी थी राज... बिलासपुर: इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के द्वारा नर्सिंग और गैर नर्सिंग स्टाफ़ के व्यक्तित्व विकास एवं कम्...

तीन राफेल विमान पहुूंचे भारत

 

देशभर में जब कांग्रेस पार्टी राफेल लड़ाकू विमान सौदे को लेकर हाय तौबा मचा रही है, ऐसे में पहली बार फ्रांस के 3 राफेल लड़ाकू विमान भारत में पहुंचे हैं। ये तीनों राफेल लड़ाकू विमान ग्वालियर एयरबेस पर अगले 3 दिन तक मौजूद रहेंगे, जिन पर भारतीय वायुसेना के पायलट ट्रेनिंग करेंगे।

फ्रांस वायुसेना के तीन राफेल लड़ाकू विमान ऑस्ट्रेलिया में एक अंतरराष्ट्रीय युद्धाभ्यास में शामिल होने गए थे और वापसी में ग्वालियर में रुके हैं। इस अभ्यास में भारतीय वायुसेना ने भी हिस्सा लिया था और ऐसे में अब एक साझा अभियान के तहत भारतीय वायुसेना के पायलट ग्वालियर में राफेल लड़ाकू विमान उड़ाएंगे, जबकि फ्रांस वायुसेना के पायलट मिराज दो हजार लड़ाकू विमानों पर हाथ अजमाएंगे।

ऑस्ट्रेलिया में हुए पिच ब्लैक युद्धभ्यास में भारतीय वायुसेना के ट्रांसपोर्ट और सुखोई-30 विमानों ने हिस्सा लिया था। ग्वालियर एयरबेस पर रविवार से शुरू हो रहे इस साझा अभ्यास के दौरान फ्रांस के पायलट उन्नत मिराज-2000 विमान उड़ाएंगे, जबकि भारतीय वायुसेना के पायलट राफेल लड़ाकू विमान पर अभ्यास करेंगे। आने वाले दिनों में राफेल लड़ाकू विमान भारत पहुंचने शुरू हो जाएंगे और इससे पहले भारतीय पायलटों के लिए यह एक अच्छा अनुभव होगा।

भारतीय वायुसेना को उम्मीद है कि सितंबर 2019 तक 36 राफेल लड़ाकू विमान देश में आने शुरू हो जाएंगे। पूरे विमान आने में कुछ और साल लगेंगे। इन लड़ाकू विमानों को भारतीय वायुसेना को दो स्क्वाड्रन में बांटा जाएगा। एक स्क्वाड्रन पाकिस्तान से मुकाबले कि लिए हरियाणा के अंबाला में तैनात होगी, जबकि दूसरी स्क्वाड्रन चीन का जवाब देने कि लिए पश्चिम बंगाल की हाशिमारा में तैनात की जाएगी। मोदी सरकार ने फ्रांस सरकार के साथ 36 विमानों का ये सौदा 60 हजार करोड़ में किया था। जिसको लेकर कांग्रेस पार्टी पिछले काफी समय से सरकार को घर रही है।

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772