ब्रेकिंग
बिलासपुर: कार्य की धीमी गति पर कंपनी के साथ जिम्मेदार अधिकारियों पर भी की जानी चाहिए थी कार्यवाही, स... बिलासपुर: महादेव और रेड्डी अन्ना बुक के सटोरियों पर पुलिस की बड़ी कार्यवाही बिलासपुर: जूनी लाइन स्थित सुरुचि रेस्टोरेंट के पास रहने वाले कृष्ण कुमार वर्मा के बड़े बेटे श्रीकांत ... बिलासपुर में UP65/ EC- 4488 नँबर की कार से जब्त हुए 5 लाख नकद बिलासपुर: सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़ की बैठक में संगठन की मजबूती पर चर्चा बिलासपुर: शैलेश, अर्जुन, रामशरण और विजय ने कहा- पूर्व मंत्री अमर अग्रवाल के कार्यकाल में भाजपा के पू... बिलासपुर: मुफ्त वैक्सीन के लिए अब केवल 7 दिन शेष, कलेक्टर ने की अपील, सभी लगवा लें टीका बिलासपुर: मोपका और चिल्हाटी के 845/1/न, 845/1/झ, 1859/1, 224/380, 1053/1 खसरा नँबरों की शासकीय भूमि ... बिलासपुर: क्या अमर अग्रवाल की बातों को गंभीरता से लेंगे कलेक्टर सौरभ कुमार? नेहरू चौक में लगी थी राज... बिलासपुर: इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के द्वारा नर्सिंग और गैर नर्सिंग स्टाफ़ के व्यक्तित्व विकास एवं कम्...

लूट व हत्या के आदतन आरोपी गिरफ्तार, सीसीटीवी से हुई पहचान, भेजे गए जेल

बिलासपुर। अलग-अलग जिलों में प्लानिंग के साथ लूटपाट एवं  हत्या की घटना को अंजाम देने वाले तीन आरोपियों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। 5 जिलों में लूटपाट व हत्या की घटना को अंजाम देने वाले अपराधियों में इनकी पहचान हुई है। इनमें से पहला आरोपी थानु राम निषाद पिता विजय निषाद उम्र 26 वर्ष निवासी नेवारी कला थाना बालोद का है जबकि दूसरा आरोपी देवेंद्र पिता देवराज विश्वकर्मा उम्र 26 वर्ष निवासी मालघोरी खपरी थाना बालोद का है। इनमें तीसरा आरोपी खोमनलाल साहू पिता फगुनराम साहू उम्र 23 वर्ष निवासी नेवारी कला थाना बालोद का रहने वाला है। तीनों आरोपी की गिरफ्तारी हुई है।

15 अगस्त की सुबह 9 बजकर 5 मिनट में चिल्हाटी के रहने वाले मनहरण लाल ने पचपेड़ी थाना में सूचना दर्ज कराई कि सेमराडीह जलाशय के मुहाने पर एक अज्ञात व्यक्ति का शव पड़ा हुआ है। मनहरण की सूचना पर पुलिस ने तत्काल मर्ग कायम कर जांच कर पंचनामा कार्यवाही में लिया और शव का पोस्टमार्टम कराया, पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मृत्यु गला दबाने से होना साबित हुआ। मृतक के परिजनों द्वारा मृतक की पहचान रमेश कुमार पैकरा के रूप में हुई। पतासाजी में यह बात सामने आई कि रमेश 14 अगस्त की सुबह scorpio (क्रमांक सीजी 22 जे 7714) को चलाने दशहरा मैदान बलौदा बाजार गया था। यहां तीन अज्ञात व्यक्तियों ने Scorpio को गिधौरी जाने के लिए बुक कराया, इस बुकिंग के बाद रमेश घर वापस नहीं आया, वहीं दूसरे दिन उसकी लाश मिली।

इस घटना को गंभीरता से लेते हुए पुलिस अधीक्षक बिलासपुर आरिफ एच शेख के निर्देश पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ग्रामीण अर्चना झा, उप पुलिस अधीक्षक नवीन शंकर चौबे एवं उप पुलिस अधीक्षक क्राइम ब्रांच प्रवीण चंद्र राय के नेतृत्व में टीम बनी। जो इस संबंध में पतासाजी करती गई। इसी बीच सूचना मिली कि सफेद रंग का scorpio (क्रमांक सीजी 22 जे 7714) से दिनांक 14 मार्च 2018 की रात करीब 11:00 बजे डबरा जिला जांजगीर-चांपा के रानी सती पेट्रोल पंप से नगद 60,000 और 15 अगस्त की सुबह सारंगढ़ जिला रायगढ़ में अज्ञात आरोपियों द्वारा पेट्रोल पंप से 1,60,000 नगदी लूट की घटना को अंजाम दिया गया है। इस घटना से पुलिस टीम और सक्रिय हो गई, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ग्रामीण अर्चना झा द्वारा सभी जिला पुलिस से संपर्क कर आरोपियों की जानकारी जुटाई गई। इस क्रम में सीसीटीवी फुटेज मिला, जिसके आधार पर आधार पर राज्य भर में आरोपियों की तलाश की गई।

पतासाजी के दौरान फुटेज में आए संदिग्ध आरोपियों की पहचान थानुराम निषाद, देवेंद्र उर्फ़ देवराज विश्वकर्मा निवासी मालीघोरी के रूप में हुई। यह आरोपी पहले भी बालोद पेट्रोल पंप में लूट की घटना में चालान हो चुके थे, बालोद पुलिस द्वारा दोनों संदेहियों को पकड़कर पूछताछ की गई जिसमें उन्होंने अपने एक अन्य साथी खोमन साहू के साथ मिलकर घटना को अंजाम देना स्वीकार किया। तीनों आरोपियों को बालोद पुलिस द्वारा अभिरक्षा में लेकर आरिफ शेख को सूचित किया। इसके पश्चात पुलिस अधीक्षक ने तत्काल टीम भेजकर आरोपियों को बिलासपुर लाया। पूछताछ पर तीनों आरोपियों द्वारा बलौदा बाजार से Scorpio लूट करने के बाद थोड़ी दूर जाकर पेशाब करने के बहाने गाड़ी रुकवाना तथा मृतक रमेश से चाबी छीनने की कोशिश करना एवं चालक द्वारा विरोध करने पर तीनों के द्वारा गाड़ी में ही रखें रुमाल से गला दबा कर उसकी हत्या उसकी हत्या कर उसकी हत्या करना और उसके शव को चिल्हाटी डेम के पास फेंककर शिवरीनारायण, गिधौरी होते हुए डबरा जाना स्वीकार किया।

उन्होंने डबरा के पेट्रोल पंप से नगदी रकम लूट करना, इसके बाद और भार के पास शराब भट्टी के रकम लूटने का प्रयास किए, असफल होने पर सारंगढ़ जाना, वहां भी सारंगढ़ से नगदी रकम लूटना बताया गया। इसके बाद रायपुर से और आगे जाकर दो पेट्रोल पंप में डीजल डलवाकर बिना पैसे दिए भाग जाना भी बताया गया। उन्होंने 15 अगस्त की सुबह करीब 7:00 बजे के आसपास पिथौरा जंगल में उन्होंने Scorpio को लावारिस हालत में छोड़कर अपने घर वापस आना स्वीकार किया। उल्लेखनीय है कि तीनों आरोपी पूर्व में आर्म्स एक्ट के प्रकरण में 23 फरवरी 2014 को गिरफ्तार कर जेल भेजे गए थे जो ढाई माह के बाद जमानत पर रिहा हुए थे। इसके अतिरिक्त आरोपी थानु पहले भी लूट चोरी में तीन बार बंद हो चुका है तथा आरोपी देवेंद्र विश्वकर्मा भी हत्या के प्रयास में पूर्व में चालान हो चुका है।

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772