ब्रेकिंग
तखतपुर क्षेत्र की तीन नाबालिग छात्राओं को दो युवकों ने झांसे में लिया और अरब सागर ले गए, जानिए उसके ... CG: स्वामी आत्मानंद शासकीय इंग्लिश स्कूल की छात्रा रितिका ध्रुव का इसरो में चयन बिलासपुर: नगर निगम कमिश्नर अजय कुमार त्रिपाठी को मिली भिलाई-चरौदा की कमान, SDM तुलाराम भारद्वाज को भ... बिलासपुर: जिला पंचायत सभापति अंकित गौरहा को प्रदेश युवा संगठन चुनाव में मिली नई जिम्मेदारी बिलासपुर: मुख्यमंत्री जी! क्लेक्टर सौरभ कुमार को इस सड़क में हुआ भ्रष्टाचार नहीं आ रहा नजर. प्रियंका ... बिलासपुर: टिकरापारा मन्नू चौक निवासी रिशु घोरे को पुलिस ने चाकू के साथ किया गिरफ्तार बिलासपुर: पावर लिफ्टर निसार अहमद एवं अख्तर खान रविंद्र सिंह के हाथों हुए सम्मानित बिलासपुर: भाजपा पार्षद दल ने पुलिस ग्राउण्ड में जिला प्रशासन से रावण दहन की मांगी अनुमति बिलासपुर तहसीलदार अतुल वैष्णव का सक्ति और ऋचा सिंह का रायगढ़ हुआ ट्रांसफर बिलासपुर: आरोपी अमित भारते, जितेंद्र मिश्रा और संदीप मिश्रा को नहीं पकड़ पा रही है SSP पारूल माथुर की...

बिलासा कला मंच ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल को दी श्रद्धांजलि

बिलासपुर। बिलासा कला मंच ने आज शोकसभा कर देश के पूर्व प्रधानमंत्री एवं कविकुलभूषण महान राजनेता अटल बिहारी वाजपेयी जी के विचारों, संस्मरणों को याद किया वहीं उनके गीतों को सस्वर पाठ कर उन्हें श्रद्धाजंलि दी गई। शोकसभा में छत्तीसगढ़ राजभाषा आयोग के अध्यक्ष डॉ विनय कुमार पाठक ने बताया कि अटल जैसा व्यक्तित्व ना ही कोई है, ना कोई होगा। भारत माता के सच्चे सपूत के रूप में युग-युगांतर अटल बिहारी वाजपेयी का योगदान याद किया जाएगा। उन्होंने छत्तीसगढ़ राज्य बनाया, एनटीपीसी की स्थापना की, बिलासपुरवासियों ने यहां एक न्याय खंडपीठ की मांग की थी, जबकि उन्होंने पूरा उच्च न्यायालय बिलासपुर को उपहार दिया। बिलासपुर का रेलवे जोन जो आज देश के सबसे ज्यादा कमाऊ जोन में आता है, वह अटल बिहारी वाजपेयी का ही उपहार है।
वहीं इस अवसर पर वरिष्ठ साहित्यकार व लेखक द्वारिका प्रसाद अग्रवाल ने कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी सरल स्वभाव के असाधारण व्यक्ति थे। जिन्होंने पूरी दुनिया में भारतीय राजनीति को उच्च शिखर तक पहुंचाया, उनके रहते हुए संसद सदैव जनहित के कार्यों के प्रति समर्पित रहा। अटल बिहारी वाजपेयी का व्यक्तित्व, उनके विचार, उनके आदर्शों को आत्मसात करना ही उन्हें हमारी सच्ची श्रद्धांजलि होगी। इस अवसर पर बेनी गुप्ता ने अटल बिहारी वाजपेयी से जुड़े अपने संस्मरण में बताया कि किस तरह उन्हें वाजपेयी के सत्संग में जिंदगी की सिख मिली, उन्होंने कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी जी व्यक्तित्व से निराले थे, वे इशारों-इशारों में बड़ी-बड़ी बातें कर जाते थे, जिससे लोग हैरान रहते थे।
                       वहीं इस अवसर पर बिलासा कला मंच के संस्थापक डॉ सोमनाथ यादव, अध्यक्ष डॉ सुधाकर बिबे, जी आर चौहान, राजेन्द्र मौर्य, अजय शर्मा, प्रमोद सोनी, नितेश पाटकर, महेश श्रीवास ने वाजपेयी जी को याद करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ राज्य के निर्माता के रूप में उन्हें हमेशा याद किया जायेगा।सरल एवं सहज व्यक्तित्व के धनी वाजपेयी जी से जो भी मिलते थे वे उन्हीं के हो जाया करते थे। शोकसभा में वाजपेयी जी के धान से निर्मित चित्र पर पुष्प अर्पित कर मौनधारण कर श्रद्धाजंलि दी गई। इस अवसर पर देवानंद दुबे, अश्विनी पांडे, रामेश्वर गुप्ता, नितेश पाटकर, किशोर शर्मा, अनूप श्रीवास, सतीश पांडेय, गोपाल यादव सहित मंच के सदस्यगण, साहित्यकार उपस्थित रहे।
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772