ब्रेकिंग
बिलासपुर: जूनी लाइन स्थित सुरुचि रेस्टोरेंट के पास रहने वाले कृष्ण कुमार वर्मा के बड़े बेटे श्रीकांत ... बिलासपुर में UP65/ EC- 4488 नँबर की कार से जब्त हुए 5 लाख नकद बिलासपुर: सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़ की बैठक में संगठन की मजबूती पर चर्चा बिलासपुर: शैलेश, अर्जुन, रामशरण और विजय ने कहा- पूर्व मंत्री अमर अग्रवाल के कार्यकाल में भाजपा के पू... बिलासपुर: मुफ्त वैक्सीन के लिए अब केवल 7 दिन शेष, कलेक्टर ने की अपील, सभी लगवा लें टीका बिलासपुर: मोपका और चिल्हाटी के 845/1/न, 845/1/झ, 1859/1, 224/380, 1053/1 खसरा नँबरों की शासकीय भूमि ... बिलासपुर: क्या अमर अग्रवाल की बातों को गंभीरता से लेंगे कलेक्टर सौरभ कुमार? नेहरू चौक में लगी थी राज... बिलासपुर: इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के द्वारा नर्सिंग और गैर नर्सिंग स्टाफ़ के व्यक्तित्व विकास एवं कम्... बिलासपुर: गौरांग बोबड़े हत्याकांड के आरोपी रहे किशुंक अग्रवाल के पास से जब्त हुए 20 लाख बिलासपुर: बिल्हा क्षेत्र से गायब हुई नाबालिग लड़की तेलंगाना में मिली

पुलिस के आंदोलन से कांग्रेस के तार जुड़े थे क्या ?

बिलासपुर(शशांक दुबे )/राष्ट्रीय कांग्रेस के निर्देश पर छत्तीसगढ़ कांग्रेस में 1 से 7 अगस्त तक विधानसभा सीट पर चुनाव के लिए टिकट चाहने वाले कार्यकर्ता निर्धारित प्रोफार्मा पर आवेदन किया है । सभी आवेदकों ने  ब्लॉक अध्यक्ष से फार्म लिया और वहीं जमा किया । कांग्रेस देश की सबसे पुरानी पार्टी है और इसमें टिकट चाहने वालों के क्रेज़ में अभी भी कोई कमी नहीं। राज्य में इस बार कांग्रेस से टिकट चाहने वालों में पुलिस विभाग की नौकरी छोड़कर चुनाव लड़ने के इच्छुक अधिकारी हैं, उन सभी को टिकट मिलने का इतना भरोसा है कि तीनों ने शासकीय सेवा से इस्तीफा दे दिया है। पुलिस की रौबदार नौकरी छोड़कर घर-घर मतदाता को नमस्कार करने की इच्छा गिरजाशंकर जौहर, विभोर सिंह और किस्मत लाल नंद के मन में मचल रही है। तीनों पुलिस अधिकारियों में से दो बिलासपुर जिले की विधानसभा सीट से चुनाव का आवेदन किए हैं विभोर सिंह को कोटा तो गिरिजाशंकर को मस्तूरी से टिकट चाहिए।
कांग्रेस पार्टी के वे नेता जिन्हें मापदंड का पालन करके अपने पार्टी के लिए प्रत्याशी चुनना है। उनके सामने यह प्रश्न जरूर आएगा कि कोटा और मस्तूरी उनकी जीती हुई सीट है यहां से निर्वाचित विधायक को हटाकर किसी अन्य को टिकट क्यों दें ? कोटा और मस्तूरी दो अलग-अलग मसले हैं प्रथम कोटा सामान्य है, मैडम जोगी के पूर्व मथुरा प्रसाद दुबे और फिर राजेंद्र प्रसाद शुक्ल जब तक रहे टिकट पर कोई संदेह नहीं हुआ। वर्तमान में अजीत जोगी के पृथक पार्टी छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस बना लेने और एक से अधिक वर्ष होने के बाद भी मैडम जोगी द्वारा उनका दल स्वीकार करने और कांग्रेस से ही टिकट मांगने से परिस्थिति उठी है। यदि टिकट बदलनी है तो विभोर सिंह क्यों, कोई स्वर्ण या ब्राह्मण क्यों नहीं। जानकार बताते हैं कि इस सीट पर भाजपा ठाकुर प्रत्याशी देती है पर विभोर सिंह उस वर्ग से नहीं आते।
मस्तूरी से गिरजाशंकर जौहर ने अपना आवेदन पत्र ब्लॉक कांग्रेस के पास जमा करवाया है। यहां भी कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अपने सूत्रों के माध्यम से इस आशय की जानकारी एकत्र कर रहे हैं कि वर्तमान विधायक का रिपोर्ट कार्ड को आधार बनाकर प्रत्याशी बदलने से पार्टी को क्या लाभ-हानि होगी। प्रश्न यहां भी वही है कि एक पुलिस सेवा को छोड़कर राजनीति शुरू करने वाले व्यक्ति को टिकट क्यों दी जाए ? इन दो स्थानों को छोड़ दें, तो तीसरी विधानसभा सरायपाली है यहां से किस्मत लाल नंद ने पुलिस सेवा की नौकरी छोड़ कांग्रेस से टिकट मांगी है। फिलहाल यहां भारतीय जनता पार्टी के रामलाल चौहान विधायक हैं सूत्रों की माने तो वर्ष 2013 में भी किस्मत लाल नंद को कांग्रेस ने टिकट के लिए इशारा किया था। किंतु वह तैयार नहीं थे इन 4 वर्ष की अवधि में किस्मत लाल नंद ने सरायपाली में अपना आधार व्यापक किया है। तभी स्वयं नौकरी से इस्तीफा देकर कांग्रेस से आवेदन किया है। यहां उन्हें टिकट देने में पार्टी नेताओं को ज्यादा सोचना नहीं होगा।
विपक्षी दल से लोग टिकट मांगे और वह भी सरकारी नौकरी छोड़कर यह भी अचरज़ लगता है खासकर तब और ज्यादा जब नौकरी पुलिस की हो। इसे इस तरह भी समझा जा रहा है कि कुछ दिन पूर्व ही छत्तीसगढ़ राज्य पुलिस बल में एक बड़ा आंदोलन हुआ था। तब कांग्रेस ने पुलिस के इस आंदोलन को खुला समर्थन दिया था। कहीं यह टिकट मांगना उसी का हिसाब तो नहीं।
कोटा मस्तूरी में कांग्रेस के विधायक हैं यदि वहां से वर्तमान विधायकों का पत्ता काट कर नए चेहरों को मौका देना है तो यह निर्णय प्रदेश अध्यक्ष का नहीं, हाईकमान का होगा। लिहाजा यह दोनों टिकट पर कोई भी निर्णय जल्दी होने की कोई संभावना नहीं है। बिलासपुर जिले में कुछ सीट की परिणाम घोषणा देर लगेगी। क्योंकि कांग्रेस का बसपा से समझौता अवेटिंग है और बसपा ने जिले की मस्तूरी, बेलतरा व तखतपुर पर अपनी रुचि दिखाई ऐसे में कांग्रेस को अपने नए दोस्त की इच्छा को भी रखना होगा।
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772