ब्रेकिंग
बिलासपुर: कार्य की धीमी गति पर कंपनी के साथ जिम्मेदार अधिकारियों पर भी की जानी चाहिए थी कार्यवाही, स... बिलासपुर: महादेव और रेड्डी अन्ना बुक के सटोरियों पर पुलिस की बड़ी कार्यवाही बिलासपुर: जूनी लाइन स्थित सुरुचि रेस्टोरेंट के पास रहने वाले कृष्ण कुमार वर्मा के बड़े बेटे श्रीकांत ... बिलासपुर में UP65/ EC- 4488 नँबर की कार से जब्त हुए 5 लाख नकद बिलासपुर: सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़ की बैठक में संगठन की मजबूती पर चर्चा बिलासपुर: शैलेश, अर्जुन, रामशरण और विजय ने कहा- पूर्व मंत्री अमर अग्रवाल के कार्यकाल में भाजपा के पू... बिलासपुर: मुफ्त वैक्सीन के लिए अब केवल 7 दिन शेष, कलेक्टर ने की अपील, सभी लगवा लें टीका बिलासपुर: मोपका और चिल्हाटी के 845/1/न, 845/1/झ, 1859/1, 224/380, 1053/1 खसरा नँबरों की शासकीय भूमि ... बिलासपुर: क्या अमर अग्रवाल की बातों को गंभीरता से लेंगे कलेक्टर सौरभ कुमार? नेहरू चौक में लगी थी राज... बिलासपुर: इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के द्वारा नर्सिंग और गैर नर्सिंग स्टाफ़ के व्यक्तित्व विकास एवं कम्...

नोबेल पुरस्कार विजेता और मशहूर लेखक वीएस नायपॉल का निधन

 

नोबेल पुरस्कार विजेता लेखक वीएस नायपॉल नहीं रहे. उन्होंने 85 साल की उम्र में लंदन स्थित अपने घर में आखिरी सांस ली. नायपॉल को साल 1971 में बुकर प्राइज़ और साल 2001 में साहित्य के लिए नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था. उनकी पहली किताब ‘द मिस्टिक मैसर’ साल 1951 में प्रकाशित हुई थी. अपने सबसे चर्चित उपन्यास ए हाउस फॉर मिस्टर बिस्वास को लिखने में उन्हें तीन साल से ज़्यादा वक्त लगा.

भारतीय मूल के नायपॉल का जन्म साल 1932 में त्रिनिडाड में हुआ था. ऐसी धारणा है कि इनके पूर्वज गोरखपुर के भूमिहार ब्राह्मण थे जिन्हें ट्रिनिडाड ले जाया गया. त्रिनिडाड में पले-बढ़े नायपॉल ने ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी से पढ़ाई की थी. 2008 में ‘द टाइम्‍स’ ने 50 महान ब्रिटिश लेखकों की सूची में नायपॉल को 7वां स्‍थान दिया था.  नायपॉल की पहली किताब ‘द मिस्टिक मैसर’ 1951 में प्रकाशित हुई थी. ‘ए बेंड इन द रिवर’ और ‘अ हाउस फॉर मिस्टर बिस्वास’ उनकी चर्चित कृतियां हैं.

उनकी कुछ और मशहूर कृतियों में ‘इन ए फ्री स्‍टेट’ (1971), ‘ए वे इन द वर्ल्‍’ड (1994), ‘हाफ ए लाइफ’ (2001) और ‘मैजिक सीड्स’ (2004) हैं.  1950 में उन्होंने एक सरकारी स्कॉलरशिप जीती थी. इससे उन्हें कॉमनवेल्थ यूनिवर्सिटी में दाखिला मिल सकता था, लेकिन उन्होंने ऑक्सफोर्ड यूनवर्सिटी को चुना.  छात्र जीवन में उन्होंने कसम खायी थी की वे सिर्फ लेखनी से अपनी जीविका चलाएंगे.  छात्र जीवन में उन्होंने अवसाद की वजह से खुदकुशी करने की कोशिश की थी.

वे अपने पूर्वजों के देश भारत घुमने आये थे और उन्हें भारत भ्रमण के अपने अनुभवों पर एक trilogy लिखी, जिसकी तीनों किताबों के नाम हैं:

  • An Area of Darkness (1964)
  • India: A Wounded Civilization (1977)
  • India: A Million Mutinies Now (1990)

अपनी इन किताबों में उन्होंने भारतीय सभ्यता, संस्कृति और परम्परों की जमकर आलोचना की और पश्चिमी सभ्यता की तुलना में कमतर आंका. उन पर ये आरोप भी लगाए गए कि वे अपने विचारों में कट्टर हिंदुत्व का पोषण करते हैं, और इस्लाम धर्म के प्रति  ख़राब सोच रखते हैं.

नोबल पुरस्कार के अलावा वे अपनी साहित्यिक कृतियों के लिए कई अन्य पुरस्कारों से सम्मानित किये गए.  इनमे जोन लिलवेलीन रीज पुरस्कार (1958), दी सोमरसेट मोगम अवाङँ (1980), दी होवथोरडन पुरस्कार (1964), दी डबलु एच स्मिथ साहित्यिक अवाङँ (1968), दी बुकर पुरस्कार (1971), तथा दी डेविड कोहेन पुरस्कार (1993) आदि पुरस्कार शामिल हैं.

उनके पिताजी श्रीप्रसाद नैपाल, छोटे भाई शिव नायपॉल , भतीजे नील बिसुनदत, चचेरे भाई   कपिलदेव सभी नामी लेखक रहे हैं. पहले पत्रकार रह चुकीं पाकिस्तानी मूल की श्रीमती नादिरा नायपॉल उनकी पत्नी हैं.

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772