छत पर पार्टी करने पर एनएमडीसी ने लगाया प्रतिबंध…..

नई दिल्ली/ दिल्ली के पॉश लुटियन इलाकों में अब छत पर पार्टियां कर पाना संभव नहीं होगा। लोगों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए नई दिल्ली नगर परिषद ने तुरंत ही इस पर प्रतिबंध लगा दिया है। ये प्रतिबंध कनॉट प्लेस और खान मार्केट के अलावा बाकी इलाकों के रेस्तंरा पर लागू होगा। इस प्रतिबंध के अंतर्गत इन क्षेत्रों में क्लब और सांस्कृतिक केंद्र भी शामिल हैं। एनडीएमसी  ने यह कदम कमला मिल्स में लगी भीषण आग के बाद लिया है। 

सुप्रसिद्ध सूत्रों ने बताया कि इस क्षेत्र में रहने वाले संसद सदस्यों (सांसदों) को टेरेस पार्टियों के आयोजन के बारे में सलाह दी जाएगी या सुरक्षा के दृष्टिकोण से मिलकर उन्हें आमंत्रित किया जाएगा। यह कदम पुराने बंगलों और फ्लैटों की संरचनात्मक सुरक्षा के मद्देनजर ये कदम उठाया जा रहा है।

केन्द्रीय सार्वजनिक कार्य विभाग (सीपीडब्ल्यूडी) पहले से ही मौजूदा फ्लैटों को ध्वस्त करने और उत्तर और दक्षिण एवेन्यू में सांसदों के लिए कम वृद्धि वाली इमारतें बनाने की प्रक्रिया में है। 30 दिसंबर को नागरिक निकाय द्वारा यह आदेश जारी किया गया था।

आदेश में कहीं ये बात

आदेश में स्पष्ट रूप से कहा गया है कि किसी भी तरह का उल्लंघन होने पर तुरंत ही लाइसेंस रद्द कर दिया जाएगा। रेस्तरां और बार मालिकों को व्यापार लाइसेंस शर्तों का पालन करना चाहिए और अग्नि सुरक्षा उपायों पर कोई ढिलाई नहीं रखनी चाहिए। उन्हें प्रत्येक रेस्तरां में बैठने की क्षमता का सख्ती से पालन करना चाहिए। यह सुनिश्चित करना चाहिए कि अग्निशामक उपकरण चल रहे है की नहीं और संचालन किसी भी परेशानी को अच्छे तरीक से सुलझा ले। ऐसे में छत का उपयोग सख्त से वर्जित है।

वहीं, एनडीएमसी के एक अधिकारी ने कहा कि यह आदेश संस्थागत संपत्तियों और क्लबों को अपने अधिकार क्षेत्र में लागू करने के लिए भी लागू है, और किसी भी उल्लंघन से लाइसेंस रद्द किया जाएगा। उदाहरण के लिए, भारतीय राष्ट्रीय खेल क्लब के छत और छत पर भोजन और पेय तत्काल प्रभाव से रोका गया है, प्रबंधन समिति के एक सदस्य ने बताया।

साथ ही स्रोत  का कहना है कि “लेटिएन्स बंगला जोन (एलबीजेड) में आवासीय इलाकों में छत पार्टी का आयोजन किया जा रहा है, इसमें कुछ सांसद बंगले और फ्लैट शामिल हैं, जहां ऐसे सम्मेलन हुए हैं। हम सभी निवासियों को टैरेस पार्टियों से बचने के लिए सलाह दे रहे हैं सार्वजनिक सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए ऐसा किया जा रहा है।

कनॉट प्लेस की बिल्डिंगों के ये है हाल

यह हम आपको बता दें कि दिल्ली की कनॉट प्लेस बिल्डिंग 70 साल से ज्यादा पुरानी है और यह हेरिटेज बिल्डिंग है।  यह पूरी बिल्डिंग सामान्य ईंट और चूने से बनी हुई है ऐसे में इसकी छत पर निर्माण करना पूरी तरह से गैर कानूनी है। पिछले कुछ दिनों अवैध निर्माण की वजह से एक दुकान की छत ढह तक गई थी, उसके बाद कनॉट प्लेस में छतों पर निर्माण कर चुकी तमाम दुकानें एनडीएमसी की नजर पर आ गई थीं। हालांकि मई में डेमोलिशन ऑर्डर निकालने के बावजूद एनडीएमसी ने इस पर कार्रवाई नहीं की थी। 

कमला मिल्स की घटना के बाद नींद से जागी 

जिसके बाद अब शुक्रवार सुबह एनडीएमसी की एंटी एनक्रोचमेंट टीम कनॉट प्लेस जा पहुंची और अवैध रूप से किए गए अतिक्रमण को हटाया। इस दौरान टीम ने 19 ऐसी प्रॉपर्टीज पर कार्रवाई की है जिसको लेकर पहले ही अवैध निर्माण और अतिक्रमण करने का नोटिस निकाला जा चुका था। लेकिन बीते 6 महीने से इस नोटिस पर कोई कार्रवाई नहीं हो रही थी लेकिन कमला मिल्स में हुई घटना को देखने के बाद NDMC ने 19 प्रॉपर्टी के अवैध निर्माण को ध्वस्त कर दिया गया।

ब्रेकिंग
बिलासपुर: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, प्रभारी मंत्री जय सिंह अग्रवाल, कमिश्नर संजय अलंग, सांसद अरुण साव,... बिलासपुर: ताइक्वांडो नेशनल रैफरी सेमिनार एवँ Award का हुआ समापन बिलासपुर: कौन है यह विक्रम..? -अंकित बिलासपुर: भाजयुमो ने किया बिजली ऑफिस का घेराव बिलासपुर: शहीद की माता को पेंशन दिलाने महिला आयोग मुख्य सचिव और डीजीपी को लिखेगा पत्र बिलासपुर: यदुनंदन नगर में महिला के घर घुसा एक युवक, जानिए उसके बाद क्या हुआ, देखिए VIDEO बिलासपुर: अधिवक्ता प्रकाश सिंह की शिकायत पर एडिशनल कलेक्टर कुरुवंशी ने जाँच के बाद दुष्यंत कोशले और ... बिलासपुर: सारनाथ एक्सप्रेस दिसंबर से फरवरी तक 38 दिन रद्द, यात्रियों की बढ़ेगी मुश्किलें बिलासपुर: भाजपा-कांग्रेस के नेता नूरा-कुश्ती के तहत आदिवासी को ही चाहते हैं निपटाना: नेताम बिलासपुर: खमतराई की खसरा नंबर 561/21 एवँ 561/22 में से सैय्यद अब्बास अली, मो.अखलाख खान, शबीर अहमद, त...
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772