ब्रेकिंग
बिलासपुर: पुलिस अधिकारियों के अपराधियों से हैं अच्छे संबंध, जानिए इस सवाल पर क्या बोले नए एसपी संतोष बिलासपुर: एकता और सदभावना का संदेश लेकर चल रही है हाथ से हाथ जोड़ो यात्रा- लक्ष्मीनाथ साहू बिलासपुर में दो दिवसीय अखिल भारतीय नृत्य-संगीत समारोह विरासत 4 फरवरी से 30 जनवरी को दो मिनट के लिए ठहर जाएगा बिलासपुर, जानिए क्यों… बिलासपुर: इस प्रकरण ने SSP पारूल माथुर के सूचना तंत्र की खोली पोल तिफरा ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष लक्ष्मीनाथ साहू के नेतृत्व में निकली हाथ से हाथ जोड़ो यात्रा बिलासपुर के नए एसपी होंगे संतोष कुमार सिंह बिलासपुर: आखिर क्यों चर्चा में है तखतपुर तहसीलदार शशांक शेखर शुक्ला? बिलासपुर: इस बार कोटा SDM हरिओम द्विवेदी सुर्खियों में आए पामगढ़: अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त नृत्यांगना वासंती वैष्णव एवँ सुनील वैष्णव के निर्देशन में 26 जनव...

पागल कुत्ते ने मचाया आंतक, 30 लोगों को किया घायल……..

बिलासपुर। राजीव गाँधी चौक के पास में आवारा कुत्तों का आतंक नागरिकों को भयभीत कर रहा है। आज इसी प्रकार के एक पागल कुत्ते ने लगभग 30 लोगों को काट कर घायल कर दिया। इस घटना से चौक में अफरा-तफरी मच गयी। उक्त पागल कुत्ते के राह में जो भी पड़ा उसे वह काटते चला गया। 

30 लोग पहुंचे सिम्स

कुत्ता काटने के बाद कई लोग टीका लगवाने के लिए सिम्स पहुंचे। जहां एंटी रैबीज का इंजेक्शन लगाया गया। निगम के पास अब तक कोई प्लान नहीं।

दूसरी ओर आवारा कुत्तों की संख्या में लगातार होती जा रही वृद्धि ने गली कूचों को कौन कहे मुख्य सड़क पर इनका आतंक कायम हो गया। शाम ढ़लने के बाद बाइक की कौन कहे मोटरकार के पीछे भी कुत्तों का झुंड भौंकते हुये काफी दूर तक दौड़ता है। यहा दृश्य देखते ही पैदल यात्रियों की हालत खराब हो जाती है। कुत्ते का काटना आज के विकसित मेडीकल साइंस के युग में भी भय का कारण बना हुआ है। एक जमाना वह भी था जब कुत्ता के काटने पर लोग सात अलग-अलग कुंए में झांक कर टोटका किया करते थे और झाड़फूंक कराया करते थे। तब भी कुत्ते का काटना ठीक नहीं माना जाता था। तब से अब तक इस भय में कोई अंतर नहीं पड़ा है। इधर नगर निगम के अधिकारी आवारा कुत्तों को पकड़ने में कोई इंट्रेस्ट नहीं दिखाते हैं चर्चा का विषय बना हुआ है।

कैसे पहचानें पागल कुत्ते को

जिला अस्पताल के सीएस डा. व्हीके अग्रवाल ने बताया कि पागल कुत्ता एक जगह पर नहीं बैठता। इसके अलावा वह सीधा नहीं चलता, इसके अलावा उसे खाने पीने की सुध नहीं रहती इस वजह से वह सूख जाता है, उसकी पूंछ सीधी हो जाती है और व आड़े-तिरछे भागते हुए सामने में जो भी मिल जाता है उसे अपना शिकार बना लेता है। जब कोई कुत्ता ऐसी हरकत करे तो लोगों को सावधान व सतर्क हो जाना चाहिए।

एंटी रैबीज है बेहतर इलाज

डॉ.का कहना है कि पागल कुत्ते के काटने पर एंटी रैबीज ही उसका बेहतर इलाज है। अस्पताल में यह टीका पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है, किसी को कुत्ते काटे तो तत्काल प्रभावित स्थान को साबुन या डेटाल से साफ कर दें इसके बाद अस्पताल आकर रैबीज का इंजेक्शन लगवाएं।

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772