ब्रेकिंग
बिलासपुर: मुख्यमंत्री जी! क्लेक्टर सौरभ कुमार को इस सड़क में हुआ भ्रष्टाचार नहीं आ रहा नजर. प्रियंका ... बिलासपुर: टिकरापारा मन्नू चौक निवासी रिशु घोरे को पुलिस ने चाकू के साथ किया गिरफ्तार बिलासपुर: पावर लिफ्टर निसार अहमद एवं अख्तर खान रविंद्र सिंह के हाथों हुए सम्मानित बिलासपुर: भाजपा पार्षद दल ने पुलिस ग्राउण्ड में जिला प्रशासन से रावण दहन की मांगी अनुमति बिलासपुर तहसीलदार अतुल वैष्णव का सक्ति और ऋचा सिंह का रायगढ़ हुआ ट्रांसफर बिलासपुर: आरोपी अमित भारते, जितेंद्र मिश्रा और संदीप मिश्रा को नहीं पकड़ पा रही है SSP पारूल माथुर की... बिलासपुर: कलेक्टर सौरभ कुमार ने सरकार हित में सरकारी जमीन बचाने वाले अधिवक्ता प्रकाश सिंह के साथ किय... बिलासपुर: उस्लापुर के रॉयल पार्क में नजर आएगी गरबा की धूम, थिरकने के लिए तैयार हैं शहरवासी बिलासपुर: कार्य की धीमी गति पर कंपनी के साथ जिम्मेदार अधिकारियों पर भी की जानी चाहिए थी कार्यवाही, स... बिलासपुर: महादेव और रेड्डी अन्ना बुक के सटोरियों पर पुलिस की बड़ी कार्यवाही

दुष्कर्म के लिए फांसी संबंधी विधेयक को विपक्ष का मिला साथ

 

नई दिल्ली। दुष्कर्म के मामलों में फांसी तक की सजा के प्रावधान वाले विधेयक पर सोमवार को लोकसभा में चर्चा शुरू हुई, जिसका सत्ता पक्ष के साथ लगभग सभी विपक्षी दलों ने समर्थन किया। गृह राज्य मंत्री किरेन रिजिजू ने आपराधिक कानून (संशोधन) विधेयक, 2018 सदन में चर्चा के लिए रखते हुए कहा कि यह महत्त्वपूर्ण समय है जब सभी दलों को एक साथ आना चाहिए। उन्होंने कहा कि देश में बलात्कार के, विशेषकर 16 साल तथा 12 साल से कम उम्र की बालिकाओं के साथ दुष्कर्म के, काफी मामले सामने आ रहे हैं।

ऐसे मामलों में बेहद कठोर सजा की जरूरत है। यह विधेयक 23 जुलाई को लोकसभा में पेश किया गया था और आपराधिक कानून (संशोधन) अध्यादेश , 2018 का स्थान लेगा जो 21 अप्रैल को लागू किया गया था। रिवॉल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी के एन.के. प्रेमचंद्रन ने अपना सांविधिक संकल्प पेश करते हुए कहा कि वह विधेयक का समर्थन करते हैं, लेकिन जिस प्रकार इसे अध्यादेश के रूप में लाया गया वह इसके खिलाफ हैं। उन्होंने कहा कि वह दुष्कर्म के मामलों में कड़ी सजा के प्रावधानों का समर्थन करते हैं।

साथ ही ऐसे मामलों में समयबद्ध जांच, समयबद्ध सुनवाई और अपील निपटान की व्यवस्था तथा अग्रिम जमानत नहीं देने संबंधी प्रावधानों का भी उन्होंने समर्थन किया। विधेयक के अनुसार 12 साल से कम उम्र की बालिकाओं के साथ दुष्कर्म के दोषियों को कम से कम 20 साल की सजा तथा अधिकतम प्राणदंड दिए जाने तथा 16 साल से कम उम्र की किशोरियों के साथ दुष्कर्म के दोषियों को कम से कम 20 साल की सजा और अधिकतम ताउम्र कारावास का प्रावधान है।

बारह साल से कम उम्र की बालिकाओं के साथ सामूहिक दुष्कर्म की स्थिति में न्यूनतम सजा आजीवन कारावास एवं अधिकतम मृत्युदंड और 16 साल से कम उम्र की बालिकाओं के साथ सामूहिक दुष्कर्म की स्थिति में न्यूनतम सजा ताउम्र कारावास होगी। साथ ही दुष्कर्म के अन्य मामलों में भी न्यूनतम सजा सात साल से बढ़ाकर 10 साल की गई है। दुष्कर्म के सभी मामलों में सूचना मिलने के दो महीने के भीतर जांच पूरी करनी होगी। सुनवाई पूरी करने के लिए भी दो महीने की समय सीमा तय की गई है, जबकि अपील पर सुनवाई छह महीने के अंदर पूरी करनी होगी। प्रेमचंद्रन ने कहा कि विधेयक में यह स्पष्ट नहीं है कि सुनवाई पूरी करने की दो महीने की अवधि घटना के दिन से शुरू होगी या आरोप पत्र दाखिल करने के दिन से।

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772