फोरलेन सड़क निर्माण में PWD की गाइड लाइन का पालन ठेकेदार द्वारा नही किया जा रहा है…..

बिलासपुर। लोक निर्माण विभाग (लोनिवि) द्वारा कराए जा रहे राजस्व मंडल-उसलापुर 4 लेन रोड के निर्माण कार्य में सुरक्षा मानकों की जबरदस्त अनदेखी की जा रही है। यह अनदेखी किसी रोज बड़े हादसे का सबब भी बन सकती है।

लोक निर्माण विभाग ने इस 4 लेन सड़क के निर्माण कार्य के लिए लल्लन तिवारी को ठेका दिया हुआ है। निर्माण कार्य गुणवत्ता के लिहाज से तो रामभरोसे चल रहा है और साथ ही इसे बनाने के दौरान जो सुरक्षा मापदंड अपनाने चाहिए वे नहीं अपनाए जा रहे। ट्रैफिक संचालन के बीच सड़क का निर्माण करना चुनौतीपूर्ण होता है। ऐसे में जब सड़क के दोनों  साइड पर काम चल रहा हो तो उस पर ट्रैफिक को रोकने के लिए अवरोधक लगाए जाते हैं।

ठेकेदार के पास सुरक्षा मानक के लिहाज से अवरोधक ही नहीं हैं। लिहाजा कर्मचारियों को यातायात डायवर्सन के लिए जुगाड़ तरीकों का इस्तेमाल करना पड़ रहा है। शाम ढलने के बाद यह सड़क अंधेरे में गुम हो जाती है। दूर तक कहीं कुछ दिखाई नहीं पड़ती।

ऐसे में चल रहे वाहन भूलवश सड़क के दोनों तरफ सड़क निर्माण के किए  गए गड्ढे में गिर सकते हैं ।

लग रहा है ट्रैफिक जाम

सड़क के निर्माण कार्य के चलते  अकसर ट्रैफिक जाम की समस्या आ रही है। जब जाम लगता है तो काफी देर तक वाहन इसमें फंसे रहते हैं।

 क्षेत्रवासियों का कहना है कि निर्माण कार्य भीड़भाड़ और व्यस्त इलाके में हो रहा है तो कम्पनी की ओर से कार्यस्थल पर ख़तरा वाले क्षेत्र में बोर्ड,चेतावनी स्लोगन ,खतरा को चिन्हित कर लाल फीता से घेरना,दिन में धूलकण से बचने के लिए पानी छिड़कवाना, पुल में लगने वाले रॉड को चदरा से घेरना व् अन्य कई जरूरी काम है जो सेफ्टी के लिए किया जाता है उसमे से एक भी यहाँ नहीं किया गया है। धूलकण के कारण दुर्घटना ,बाहर निकले अनियंत्रित रॉड से कई लोगों का घायल होने की जानकारी मिली है । इस तरह का लापरवाही बरतने वाली कम्पनी को काम कैसे मिल गया ये समझ से बाहर है। अभी तक कम्पनी ने बोर्ड लगाकर स्टीमीट को सार्वजिक नही किया है।

उन्होंने कहा है कि कम्पनी को जो मन में आ रहा है जैसे मन में आ रहा है किये जा रहा । क्या मोर्चा और यहाँ के आम जन को स्टीमीट देखने का अधिकार नही है ? हो रहे कार्य में कोई कायदा कानून नाम का पालन ही नही है । सुरक्षा व्यवस्था किये बिना गढ्ढा खोद दिया ,जहां तहाँ रॉड फेका है जो किसी बड़ी घटना को आमन्त्रित कर रहा । क्या इससे किसी की मृत्य होगी तब ये सब किया जाएगा ? जिला मुख्यालय होने की वजह से हजारों की तादाद में लोग अपने काम से आते हैं यहाँ किसी के साथ भी दुर्घटना हो सकती है।

लोनिवि भी यही चाहता है कि कार्य जल्दी से जल्दी निपटा जाए। इसके कारण बहुत से लोग प्रभावित हो रहे हैं लेकिन सच तो यह भी है कि इस तरह के विकास कार्य से थोड़ी असुविधा तो होती ही है। हां, जहां तक सुरक्षा का सवाल है, वह वाजिब बात है। किसी भी कार्य के कारण किसी को क्षति व जान माल का नुकसान हो, यह कतई नहीं होना चाहिए। इस बारे में संज्ञान लेते हुए आवश्यक दिशा निर्देश देंगे।

– मधेश्वर प्रसाद , कार्यपालन  अभियंता, लोनिवि

ब्रेकिंग
बिलासपुर: प्रदेश का सबसे बड़ा पत्रकार संघ "सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़" के प्रतिनिधि मंडल से दूसरी बार... बिलासपुर: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, प्रभारी मंत्री जय सिंह अग्रवाल, कमिश्नर संजय अलंग, सांसद अरुण साव,... बिलासपुर: ताइक्वांडो नेशनल रैफरी सेमिनार एवँ Award का हुआ समापन बिलासपुर: कौन है यह विक्रम..? -अंकित बिलासपुर: भाजयुमो ने किया बिजली ऑफिस का घेराव बिलासपुर: शहीद की माता को पेंशन दिलाने महिला आयोग मुख्य सचिव और डीजीपी को लिखेगा पत्र बिलासपुर: यदुनंदन नगर में महिला के घर घुसा एक युवक, जानिए उसके बाद क्या हुआ, देखिए VIDEO बिलासपुर: अधिवक्ता प्रकाश सिंह की शिकायत पर एडिशनल कलेक्टर कुरुवंशी ने जाँच के बाद दुष्यंत कोशले और ... बिलासपुर: सारनाथ एक्सप्रेस दिसंबर से फरवरी तक 38 दिन रद्द, यात्रियों की बढ़ेगी मुश्किलें बिलासपुर: भाजपा-कांग्रेस के नेता नूरा-कुश्ती के तहत आदिवासी को ही चाहते हैं निपटाना: नेताम
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772