ब्रेकिंग
बिलासपुर: मुख्यमंत्री जी! क्लेक्टर सौरभ कुमार को इस सड़क में हुआ भ्रष्टाचार नहीं आ रहा नजर. प्रियंका ... बिलासपुर: टिकरापारा मन्नू चौक निवासी रिशु घोरे को पुलिस ने चाकू के साथ किया गिरफ्तार बिलासपुर: पावर लिफ्टर निसार अहमद एवं अख्तर खान रविंद्र सिंह के हाथों हुए सम्मानित बिलासपुर: भाजपा पार्षद दल ने पुलिस ग्राउण्ड में जिला प्रशासन से रावण दहन की मांगी अनुमति बिलासपुर तहसीलदार अतुल वैष्णव का सक्ति और ऋचा सिंह का रायगढ़ हुआ ट्रांसफर बिलासपुर: आरोपी अमित भारते, जितेंद्र मिश्रा और संदीप मिश्रा को नहीं पकड़ पा रही है SSP पारूल माथुर की... बिलासपुर: कलेक्टर सौरभ कुमार ने सरकार हित में सरकारी जमीन बचाने वाले अधिवक्ता प्रकाश सिंह के साथ किय... बिलासपुर: उस्लापुर के रॉयल पार्क में नजर आएगी गरबा की धूम, थिरकने के लिए तैयार हैं शहरवासी बिलासपुर: कार्य की धीमी गति पर कंपनी के साथ जिम्मेदार अधिकारियों पर भी की जानी चाहिए थी कार्यवाही, स... बिलासपुर: महादेव और रेड्डी अन्ना बुक के सटोरियों पर पुलिस की बड़ी कार्यवाही

संविदाकर्मी के बेटे ने मुख्यमंत्री से कहा, मेरे पापा को परमानेंट करो……

 

 

बिलासपुर। ‘रमन दादा मेरे पापा को नियमित कर दो, मुझे भी बड़ा होकर कलेक्टर बनना है, तस्वीर में दिख रहा यह मासूम एक अनियमित कर्मचारी का बेटा’ यह अपील एक संविदाकर्मी के बेटे ने एक पोस्टर को दोनों हाथ में रखकर एक तस्वीर में की है। मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह को दादा कहकर अपनी अपील में इस बच्चे ने अपनी पिता को नियमित करने की मांग की है।

यहां उल्लेखनीय है कि विगत कुछ दिनों से छत्तीसगढ़ अनियमित कर्मचारी-अधिकारी संघ के आव्हान पर संविदाकर्मी हड़ताल पर रहे। सरकार द्वारा इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं आई कुछ दिन पूर्व ही सरकार ने संविदाकर्मियों को हड़ताल बंद कर काम पर लौटने के चेतावनी दी। नहीं मानने पर कुछ संविदाकर्मियों को बर्खास्त भी कर दिया।

अब शिक्षाकर्मियों की तरह संविदाकर्मी भी विरोध के नए-नए हथकंडे अपना रहे हैं। अनियमित कर्मचारी महासंघ के आह्वान पर सभी 54 विभागों के संविदाकर्मी प्रतिनिधियों एवं विकास खंड अध्यक्षों द्वारा अपने-अपने विभाग की सहभागिता से हड़ताल को अंतिम लक्ष्य तक पहुंचाने का संकल्प लिया गया है। इस दौरान विशेष महायज्ञ का आयोजन, छत्तीसगढ़ समृद्धि महायज्ञ, सद्बुद्धि महायज्ञ, हस्ताक्षर अभियान जैसे हथकंडे अपनाए जा रहे हैं।

गौरतलब है कि 12 जुलाई से 4 दिनों तक 4 सूत्रीय मांगों को लेकर संविदाकर्मियों ने काली पट्टी लगाकर कार्य किया गया। इसके पश्चात 16 जुलाई से 3 दिनों तक जिला मुख्यालय में कलमबंद हड़ताल एवं धरना प्रदर्शन जारी रहा व शासन द्वारा इन 7 दिनों में भी किसी भी प्रकार की सकारात्मक पहल नहीं की गई।

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772