ब्रेकिंग
तखतपुर क्षेत्र की तीन नाबालिग छात्राओं को दो युवकों ने झांसे में लिया और अरब सागर ले गए, जानिए उसके ... CG: स्वामी आत्मानंद शासकीय इंग्लिश स्कूल की छात्रा रितिका ध्रुव का इसरो में चयन बिलासपुर: नगर निगम कमिश्नर अजय कुमार त्रिपाठी को मिली भिलाई-चरौदा की कमान, SDM तुलाराम भारद्वाज को भ... बिलासपुर: जिला पंचायत सभापति अंकित गौरहा को प्रदेश युवा संगठन चुनाव में मिली नई जिम्मेदारी बिलासपुर: मुख्यमंत्री जी! क्लेक्टर सौरभ कुमार को इस सड़क में हुआ भ्रष्टाचार नहीं आ रहा नजर. प्रियंका ... बिलासपुर: टिकरापारा मन्नू चौक निवासी रिशु घोरे को पुलिस ने चाकू के साथ किया गिरफ्तार बिलासपुर: पावर लिफ्टर निसार अहमद एवं अख्तर खान रविंद्र सिंह के हाथों हुए सम्मानित बिलासपुर: भाजपा पार्षद दल ने पुलिस ग्राउण्ड में जिला प्रशासन से रावण दहन की मांगी अनुमति बिलासपुर तहसीलदार अतुल वैष्णव का सक्ति और ऋचा सिंह का रायगढ़ हुआ ट्रांसफर बिलासपुर: आरोपी अमित भारते, जितेंद्र मिश्रा और संदीप मिश्रा को नहीं पकड़ पा रही है SSP पारूल माथुर की...

पीएनबी ने फंसे कर्ज में से चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में वसूले 7 हजार 700 करोड़ रुपए……

नई दिल्ली। घोटाले से प्रभावित पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) ने चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में 7,700 करोड़ रुपए से अधिक फंसे कर्ज की वसूली की। यह आंकड़ा पूरे वित्त वर्ष 2017-18 में वसूली गई राशि से अधिक है। यह बैंक की स्थिति पटरी पर आने का संकेत है।

पीएनबी के एक शीर्ष अधिकारी ने यह बात कही। अधिकारी ने कहा कि ऋण शोधन एवं दिवाला संहिता (आईबीसी) समाधान प्रक्रिया से पंजाब नेशनल बैंक को काफी लाभ हुआ। बैंक जौहरी नीरब मोदी और उसके सहयोगियों द्वारा कथित रूप से 2 अरब डालर की धोखाधड़ी का शिकार है। पीएनबी के प्रबंध निदेशक सुनील मेहता ने पीटीआई भाषा से कहा कि पहली तिमाही में 2-3 बड़े खातों का समाधान किया गया है।

इसके परिणामस्वरूप बैंक को केवल समाधान प्रक्रिया के जरिए 3,000 करोड़ रुपए से अधिक मिले हैं। चालू वित्त वर्ष की अप्रैल – जून तिमाही में दो बड़े खातों … भूषण स्टील तथा इलेक्ट्रोस्टील … को आईबीसी प्रक्रिया के जरिये समाधान किया गया। उन्होंने कहा कि पिछले वित्त वर्ष में बैंक ने 5,400 करोड़ रुपए की वसूली की।

इसके विपरीत हमने चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में ही 7,700 करोड़ रुपए से अधिक की वसूली की। इस बड़ी वसूली में आईबीसी की भूमिका महत्वपूर्ण रही। मेहता ने कहा कि आने वाले समय में एस्सार स्टील तथा भूषण पावर एंड स्टील (बीपीएसएल) समेत अन्य खातों के समाधान से बेहतर मूल्य मिलने की उम्मीद है।

पहली सूची के 12 खातों के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि बैंक का इनमें से कुल नौ खातों में 12,000 करोड़ रुपए का कर्ज बकाया हैं। इन नौ खातों में 9,000 रुपए के कर्ज वाले पांचों खाते इस्पात क्षेत्र से जुड़े हैं। उन्होंने कहा कि दूसरी सूची में कुल 28 खातों में से बैंक ने 20 खातों को कर्ज दे रखे हैं। इसमें कुल बकाया 6,500 करोड़ रुपए है और हम चालू वित्त वर्ष में इसके समाधान की उम्मीद कर रहे हैं। 

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772