ब्रेकिंग
बिलासपुर: इस प्रकरण ने SSP पारूल माथुर के सूचना तंत्र की खोली पोल तिफरा ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष लक्ष्मीनाथ साहू के नेतृत्व में निकली हाथ से हाथ जोड़ो यात्रा बिलासपुर के नए एसपी होंगे संतोष कुमार सिंह बिलासपुर: आखिर क्यों चर्चा में है तखतपुर तहसीलदार शशांक शेखर शुक्ला? बिलासपुर: इस बार कोटा SDM हरिओम द्विवेदी सुर्खियों में आए पामगढ़: अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त नृत्यांगना वासंती वैष्णव एवँ सुनील वैष्णव के निर्देशन में 26 जनव... बिलासपुर: जाँच के दौरान कार में मिली 22 किलो 800 ग्राम कच्ची चाँदी, व्यापारी के द्वारा पेश किया गया ... बिलासपुर: सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़ के पदाधिकारियों ने मंत्री जयसिंह अग्रवाल को दिया नववर्ष मिलन सम... बिलासपुर: पत्रकार शाहनवाज की सड़क हादसे में मौत, सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़ ने शोक व्यक्त कर दी श्रद्... बिलासपुर: रतनपुर थाना क्षेत्र में कार में 3 जिंदा जले, पेड़ से टकराने के बाद कार में लगी आग, अंदर ही ...

2019 में कुम्भ का आयोजन इलाहाबाद में होगा , श्रद्धालुओं को स्नान के लिए पर्याप्त जल होगा उपलब्ध …..

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की पावन भूमि तीर्थराज प्रयाग (इलाहाबाद) में आयोजित होने वाले कुम्भ 2019 में श्रृद्धालुओं को स्नान के लिए पर्याप्त जल उपलब्ध हो सके इसके लिए सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग ने पुख्ता इंतजाम किए हैं। यह जानकारी देते हुए राज्य के सिंचाई एवं सिंचाई (यांत्रिक) मंत्री धर्मपाल सिंह ने बताया कि गर्मी में पानी की कमी की वजह से इलाहाबाद में गंगा नदी का जल स्तर काफी कम हो जाता है।

गत सात साल के 28 जून के इलाहाबाद में जल उपलब्धता के आंकड़े प्रस्तुत करते हुए उन्होंने बताया कि इलाहाबाद के फाफामऊ में गंगा नंदी का जल स्तर वर्ष 2012 में 75.730, 2013 में 78.760, 2014 में 76.290, 2015 में 75.920, 2016 में 75.990, 2017 में 76.650 तथा 2018 में 76.190 मीटर रहा है।

उन्होंने कहा कि इन आंकड़ों से स्पष्ट है वर्तमान में इलाहाबाद में गंगा नदी का जल स्तर विगत वर्षों के सापेक्ष लगभग सामान है। सिंह ने कहा कि वर्षा अवधि के समय जल स्तर में बढ़ोत्तरी होती रहती है। फिर भी कुम्भ मेले में स्नान हेतु मुख्य पर्वाें पर सामान्यता फाफामऊ में 76.60 मी. का जल स्तर बनाये रखने का प्रयास राज्य सरकार द्वारा किया जाएगा। सिंचाई मंत्री ने बताया कि इसी प्रकार से सरकार द्वारा बनारस में गंगा नदी के जल स्तर में भी बढ़ोत्तरी के लिए सार्थक प्रयास किए जाएंगे।

उन्होंने बताया कि कुम्भ मेंले के आयोजन के समय इलाहाबाद में गंगा नदी में जल उपलब्धता बनाए रखने के लिए उच्च न्यायालय में योजित पीआईएल के तहत उच्च न्यायालय के निदेर्शों की अनुपालन करने के लिए उत्तराखण्ड राज्य में स्थित टेहरी डैम से निरन्तर 1000 क्यूसेक जल अतिरिक्त जल प्राप्त कर नरौरा बैराज के डाउन स्ट्रीम में 4000 क्यूसेक जल का डिस्चार्ज सम्पूर्ण मेला अवधि में सुनिश्चित किया जाता है।

सिंचाई मंत्री ने यह भी बताया कि वर्तमान में टेहरी जलाशय से लगभग 8000 क्यूसेक पानी छोड़े जाने के लिए टेहरी हाइड्रो डेवलेपमेन्ट कॉरपोरेशन (टीएचडीसी) से उच्च स्तरीय अनुरोध किया गया है।

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772