ब्रेकिंग
बिलासपुर: इस प्रकरण ने SSP पारूल माथुर के सूचना तंत्र की खोली पोल तिफरा ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष लक्ष्मीनाथ साहू के नेतृत्व में निकली हाथ से हाथ जोड़ो यात्रा बिलासपुर के नए एसपी होंगे संतोष कुमार सिंह बिलासपुर: आखिर क्यों चर्चा में है तखतपुर तहसीलदार शशांक शेखर शुक्ला? बिलासपुर: इस बार कोटा SDM हरिओम द्विवेदी सुर्खियों में आए पामगढ़: अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त नृत्यांगना वासंती वैष्णव एवँ सुनील वैष्णव के निर्देशन में 26 जनव... बिलासपुर: जाँच के दौरान कार में मिली 22 किलो 800 ग्राम कच्ची चाँदी, व्यापारी के द्वारा पेश किया गया ... बिलासपुर: सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़ के पदाधिकारियों ने मंत्री जयसिंह अग्रवाल को दिया नववर्ष मिलन सम... बिलासपुर: पत्रकार शाहनवाज की सड़क हादसे में मौत, सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़ ने शोक व्यक्त कर दी श्रद्... बिलासपुर: रतनपुर थाना क्षेत्र में कार में 3 जिंदा जले, पेड़ से टकराने के बाद कार में लगी आग, अंदर ही ...

तेज बारिश ने रोका अमरनाथ यात्रा का रास्ता, सड़कों पर हुई फिसलन, यात्रा स्थगित….

 

श्रीनगर। गुरुवार को ही अमरनाथ यात्रा शुरू हुई थी, लेकिन तेज बारिश की वजह से यात्रा को स्थगित करना पड़ा। भारी बारिश के चलते सडक़ों पर फिसलने हो गई, जिसकी वजह से यात्रा स्थगित हो गई। खबरों के मुताबिक कश्मीर घाटी में गुरुवार रात से हो रही भारी बारिश से सडक़ों पर फिसलन की वजह से शुक्रवार को अमरनाथ यात्रा स्थगित कर दी गई।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि अमरनाथ गुफा के लिए पारंपरिक मार्ग पहलगाम और नजदीकी मार्ग बालटाल से यात्रा स्थगित कर दी गई है। दोनों ही मार्ग पर किसी भी श्रद्धालु को आगे बढऩे की अनुमति नहीं दी गई है। इसके साथ ही गुरुवार की शाम तक जो श्रद्धालु पवित्र गुफा के दर्शन कर चुके हैं उन्हें वहीं रोक दिया गया है।

मौसम में सुधार के बाद ही अमरनाथ यात्रियों को गंतव्य के लिए रवाना होने की अनुमति दी जाएगी। उन्होंने बताया कि बालटाल मार्ग से 1316 और पहलगाम मार्ग से 60 श्रद्धालु अमरनाथ की यात्रा के लिए तैयार हैं। इससे पहले अमरनाथ यात्रा के पहले दिन गुरुवार को जम्मू कश्मीर के राज्यपाल एन एन वोहरा और महिलाओं एवं साधुओं समेत 1300 श्रद्धालुओं ने स्वनिर्मित हिमशिवलिंग के दर्शन किए।

इससे पहले अमरनाथ की पवित्र गुफा की मुश्किल यात्रा के लिए 592 महिलाओं और 160 साधुओं समेत करीब 3500 श्रद्धालुओं का दूसरा जत्था गुरुवार को यहां से कश्मीर घाटी के आधार शिविरों के लिए रवाना हुआ। केन्द्र सरकार ने आतंकवादी घटनाओं को ध्यान में रखते हुए अमरनाथ यात्रा पर जगह-जगह सुरक्षा के चाक-चौबंद किए हैं।

हर वर्ष होने वाली 60 दिनों की यह तीर्थयात्रा अनंतनाग जिले के पहलगाम और गंदेरबाल जिले के बालटाल के दोहरे मार्गों से सुबह शुरू होने वाली थी लेकिन बारिश के चलते इसमें देरी हुई। जम्मू -कश्मीर के कई हिस्से बुधवार शाम से हल्की से भारी बारिश के चलते प्रभावित हुए हैं। बारिश के चलते पीरा के पास जम्मू – श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर भूस्खलन भी हुआ। हालांकि सम्बंधित अधिकारियों द्वारा समय पर उठाए गए कदमों के चलते सडक़ यातायात सामान्य बना रहा।

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772