ब्रेकिंग
बिलासपुर: इस प्रकरण ने SSP पारूल माथुर के सूचना तंत्र की खोली पोल तिफरा ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष लक्ष्मीनाथ साहू के नेतृत्व में निकली हाथ से हाथ जोड़ो यात्रा बिलासपुर के नए एसपी होंगे संतोष कुमार सिंह बिलासपुर: आखिर क्यों चर्चा में है तखतपुर तहसीलदार शशांक शेखर शुक्ला? बिलासपुर: इस बार कोटा SDM हरिओम द्विवेदी सुर्खियों में आए पामगढ़: अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त नृत्यांगना वासंती वैष्णव एवँ सुनील वैष्णव के निर्देशन में 26 जनव... बिलासपुर: जाँच के दौरान कार में मिली 22 किलो 800 ग्राम कच्ची चाँदी, व्यापारी के द्वारा पेश किया गया ... बिलासपुर: सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़ के पदाधिकारियों ने मंत्री जयसिंह अग्रवाल को दिया नववर्ष मिलन सम... बिलासपुर: पत्रकार शाहनवाज की सड़क हादसे में मौत, सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़ ने शोक व्यक्त कर दी श्रद्... बिलासपुर: रतनपुर थाना क्षेत्र में कार में 3 जिंदा जले, पेड़ से टकराने के बाद कार में लगी आग, अंदर ही ...

कर्मचारी-अधिकारी फेडरेशन के एक दिनी हड़ताल के समर्थन में आए शैलेश, जानिए क्या कहा…

बिलासपुर/प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता शैलेश पांडेय ने कर्मचारी-अधिकारी फेडरेशन का एक दिनी हड़ताल का समर्थन करते हुए कहा है कि प्रदेश की भाजपा सरकार और उसके मुख्यमंत्री संवेदनहीन हैं । यही कारण है कि भाजपा ने अधिकारी-कर्मचारी को झूठे वायदे करते हुए ऐन-केन-प्रकारेण उस वर्ग के वोट हथियाकर सरकार तो बना ली और उसके बाद आज तक उनके के हितों की अनदेखी की जा रही है।
कर्मचारी-अधिकारी फेडरेशन चार स्तरीय पदोन्नति वेतनमान, वेतन विसंगति, सहित अनेक मुद्दों पर किसी प्रकार की सकारात्मक पहल नहीं होने के कारण आज एक दिनी सांकेतिक हड़ताल पर हैं । जिनकी मांगे जायजा है, कांग्रेस फेडरेशन के मांगों की समर्थन करती है | इन मांगों को पूरा करना प्रदेश सरकार की ड्यूटी है, लेकिन झूठी, खोखली घोषणाओं के सहारे रेंग रही सरकार अपने उन वायदों को भी भूल गई है, जिनकी पूर्ति करने से समाज के एक महत्वपूर्ण कर्मचारी-अधिकारी वर्ग के हित पूरे हो सकते हैं, लेकिन भाजपा की दोगुली नीति के कारण प्रदेश के कर्मचारी-अधिकारी वर्ग के साथ लगातार अन्याय हो रहा है ।
प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता ने प्रदेश के मुख्य मंत्री से मांग की है कि कर्मचारी वर्ग प्रदेश के प्रशासनिक कार्यों से लेकर हरेक दायित्वों और जिम्मेदारियों का निर्वहन करते हैं, उनके वेतन में किसी प्रकार की विसंगति रखना गलती नहीं, बल्कि एक छलावा है । इसलिए प्रदेश में कर्मचारी-अधिकारी फेडरेशन द्वारा किये जा रहे उनके जायज आंदोलन पर गंभीरता से विचार करते हुए उनकी मांगों को तुरंत स्वीकार कर असमान वेतन की विसंगतियों को दूर किया जाना चाहिए ।
यदि प्रदेश की भाजपा सरकार ने कर्मचारी-अधिकारी फेडरेशन की मांग को पूरा नहीं किया तो आने वाले विधान सभा चुनाव में कर्मचारी-अधिकारी एवं उनके परिवारों द्वारा इसका करारा जवाब दिया जाएगा ।
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772