ब्रेकिंग
बिलासपुर: इस प्रकरण ने SSP पारूल माथुर के सूचना तंत्र की खोली पोल तिफरा ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष लक्ष्मीनाथ साहू के नेतृत्व में निकली हाथ से हाथ जोड़ो यात्रा बिलासपुर के नए एसपी होंगे संतोष कुमार सिंह बिलासपुर: आखिर क्यों चर्चा में है तखतपुर तहसीलदार शशांक शेखर शुक्ला? बिलासपुर: इस बार कोटा SDM हरिओम द्विवेदी सुर्खियों में आए पामगढ़: अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त नृत्यांगना वासंती वैष्णव एवँ सुनील वैष्णव के निर्देशन में 26 जनव... बिलासपुर: जाँच के दौरान कार में मिली 22 किलो 800 ग्राम कच्ची चाँदी, व्यापारी के द्वारा पेश किया गया ... बिलासपुर: सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़ के पदाधिकारियों ने मंत्री जयसिंह अग्रवाल को दिया नववर्ष मिलन सम... बिलासपुर: पत्रकार शाहनवाज की सड़क हादसे में मौत, सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़ ने शोक व्यक्त कर दी श्रद्... बिलासपुर: रतनपुर थाना क्षेत्र में कार में 3 जिंदा जले, पेड़ से टकराने के बाद कार में लगी आग, अंदर ही ...

जबड़ापारा में असामाजिक तत्वों का लग रहा जमावड़ा, रहवासी परेशान…..

बिलासपुर / सरकंडा क्षेत्र स्थित जबड़ापारा के रहवासी असामाजिक तत्वों से परेशान हैं , वहीं कॉलोनी में दिन दहाड़े जुआ , दारूबाजी , पुलिस की गश्त भी न के बराबर आस-पास मैदानी इलाका है साथ ही शाम होते ही असमाजिक तत्वों का जमावड़ा लगा रहता है लेकिन अब तो आलम ये है कि दिनदहाड़े जुआ खेलने और तरह तरह की माँ बहनों की गालिया आपस में दी जाती है , जिस से आसपास की कॉलोनी वालो को रहना मुश्किल हो रहा है शिकायत करने की बात पर चुप्पी साध ली जाती है , पुलिस प्रशासन पर कई बार सवाल खड़े किये जाते रहे है लेकिन इस से किनारा भी नहीं किया जा सकता पुलिस सक्रियता दिखाती जरूर है लेकिन जबड़ापारा और आस-पास के पॉस इलाके में गश्त लगाना आवश्यक है कहीं किसी बड़ी घटना को रोकना अत्यंत जरुरी है , यहाँ का माहौल इतना भयावह हो चुका है कि रात के अंधेरे में आना जाना तक कॉलोनी वासियो का दुर्भर हो चूका है, कॉलोनीवासी किसी कारण पुलिस की बात करते है तो यह असामाजिक तत्व पुलिस पर ही रिश्वत लेने व अपने मित्र जैसा व्यवहार बताने से भी नहीं चूकते ,शहर के इस इलाके का माहौल का जायजा लेने पर ये पता चला की आसपास के रहने वाले पुलिस अधिकारी भी इधर आने से कतराते है क्या यही है सरकंडा की पुलिस की छवि इस विषय पर ध्यान न देना या उचित कार्यवाही न करना शासन प्रशासन की जिम्मेदारी है या नहीं ?
क्या यहाँ के रहने वालों के लिए सुरक्षा के मद्दे नज़र पुलिस पेट्रोलियम की गश्त जरुरी नहीं है आस पास अवैध नशीली दवाइयों की बिक्री का भी खेल जोरो से चल रहा जिसमे नाबालिक बच्चे भी लिप्त नज़र आरहे हैं ?
कुछ ऐसे ही तरीके से सरकंडा पुलिस की छवि पर अपना चरित्रप्रमाण पत्र देते नज़र आरहे हैं असमाजिक तत्व ?

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772