ब्रेकिंग
बिलासपुर: SECL के गेस्ट हाउस की बिजली गुल, केन्द्रीय राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे पसीना पोंछते हु... कला विकास केंद्र बिलासपुर की छात्रा साई श्री इजारदार कथक में केंद्रीय छात्रवृत्ति के लिए चयनित बिलासपुर: कोटवार, पटवारी और राजस्व अधिकारी के रहते रमतला की सरकारी जमीन आरोपी प्रवीण पाल के नाम से क... बिलासपुर: 5 सरपंच एवं 12 पंच पदों के लिए 27 जून को उप चुनाव बिलासपुर: इस TI ने पुलिस की छवि को किया धूमिल, आम लोग दहशत में बिलासपुर के कराते खिलाड़ियों ने 44 स्वर्ण, 22 रजत एवं 21 कांस्य पदक जीतकर जिले का नाम किया रोशन बिलासपुर: यूपीएससी की प्रारंभिक परीक्षा 28 मई को बिलासपुर में, 36 दिव्यांग सहित 5532 परीक्षार्थी 22 ... बिलासपुर: जिला पंचायत सभापति अंकित गौरहा की माँग पर दो सड़कों के लिए 61 लाख रुपए हुए स्वीकृत बिलासपुर: दिल्ली की तरह छत्तीसगढ़ में भी मिले शहीद जवानों को एक करोड़ मुआवाजा- उज्वला कराड़े बिलासपुर: अरपापार पृथक नगर निगम की माँग को जनता का मिल रहा पूर्ण समर्थन- पिनाल

इन फिल्मों में प्रभावशाली ढंग से दर्शाया गया पिता का किरदार …..

बॉलीवुड के फिल्मकारों ने अपनी फिल्मों में पिता के किरदार को प्रभावशाली ढंग से कम ही पेश किया है लेकिन जब-जब पिता का दमदार किरदार सिल्वर स्क्रीन पर नजर आया है उसे दर्शकों की भरपूर सराहना मिलती है। बॉलीवुड की फिल्मों में सदी के महानायक अमिताभ बच्चन पिता का प्रभावशाली किरदार निभाने में महारत हासिल रखते हैं। पिता की दमदार भूमिका वाली उनकी फिल्मों में रवि चोपडा निर्देशित बागवान खास तौर पर उल्लेखनीय है। इसके अलावा ऐसी भूमिका वाली उनकी फिल्मों में इंद्रजीत, कभी खुशी कभी गम, मोहब्बतें, कभी अलविदा ना कहना, सरकार, एक रिश्ता द बांड ऑफ लव वक्त, सरकार राज और फैमिली शामिल हैं।

इतिहास के पन्नों को पलटने पर पता चलता है कि वर्ष 1951 में प्रदर्शित आवारा में पृथ्वीराज कपूर ने पिता का रोबदार किरदार निभाया था। इस फिल्म में उन्होंने राजकपूर के पिता की भूमिका निभाई थी। पिता-पुत्र के आपसी द्वंद को प्रदर्शित करती फिल्म आवारा में दोनों दिग्गज कलाकारों ने अपने अभिनय से दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया था। पिता के दमदार किरदार वाली पृथ्वीराज की फिल्मों में मुगल-ए-आजम भी शामिल है जिसमें उन्होंने ट्रेजेडी किंग दिलीप कुमार के पिता की भूमिका निभाई थी। इसके अलावा वर्ष 1971 में प्रदर्शित कल आज और कल में उन्होंने एक बार फिर से राजकपूर के पिता की भूमिका निभाई।

वर्ष 1982 में प्रदर्शित फिल्म शक्ति में दिलीप कुमार ने पिता के किरदार को सशक्त तरीके से रूपहले पर्दे पर पेश किया। इस फिल्म में उन्होंने अमिताभ बच्चन के पिता की भूमिका निभाई थी जो फर्ज की खातिर अपने पुत्र को गोली मारने से भी नहीं हिचकता। इसी तरह वर्ष 1983 में प्रदर्शित फिल्म मासूम में नसीरउद्दीन शाह ने जुगल हंसराज के पिता का भावात्मक किरदार निभाया था। बॉलीवुड के हीमैन कहे जाने वाले धर्मेन्द्र ने कई फिल्मों में पिता की दमदार भूमिका निभाई है। इनमें सन्नी, सल्तनत, अपने और यमला पगला दीवाना शामिल हैं। इन फिल्मों में वह सन्नी देओल के पिता की भूमिका में नजर आए। जुबली कुमार राजेन्द्र कुमार ने लवस्टोरी में कुमार गौरव के पिता की भूमिका निभाई।

वहीं सुनील दत्त की पिता के किरदार वाली फिल्मों में रॉकी, क्षत्रिय, दर्द का रिश्ता और मुन्ना भाई एमबीबीएस शामिल हैं। मौजूदा दौर में आलोक नाथ पिता के दमदार किरदार को निभाने में अग्रणी रहे हैं। उन्होंने मैंने प्यार किया, विवाह- एक विवाह ऐसा भी, कभी खुशी कभी गम, हम आपके है कौन जैसी फिल्मों में पिता का भावपूर्ण किरदार निभाया है। इसके अलावा अशोक कुमार, नसिर हुसैन, ओम प्रकाश, उत्पल दत्त, कादर खान, परेश रावल और अनुपम खेर जैसे कई दिग्गज अभिनेताओं ने भी कई फिल्मों में पिता की भूमिका को रूपहले पर्दे पर जीवंत किया है।समय समय पर बॉलीवुड की कई फिल्मों में पिता के प्रभावशाली किरदार को रूपहले पर्दे पर पेश किया गया है।

इनमें आमिर खान की अकेले हम अकेले तुम, संजय दत्त की पिता, बलराज साहनी की वक्त, राजेश खन्ना की अवतार, प्राण की शराबी और सनम बेवफा, अमरीश पुरी की दिलवाले दुल्हिनियां ले जाएंगे, संजीव कुमार की कोशिश अनुपम खेर की दिलवाले दुल्हिनियां ले जाएंगें, हम आपके हैं कौन, क्या कहना, डैडी, अनिल कपूर की रिश्ते और अभिषेक बच्चन की पा शामिल हैं। उल्लेखनीय है कि पिता के प्रति भावनाओं को दर्शाने के लिए अमेरिका समेत विश्व के अधिकतर देशों में हर वर्ष जून के तीसरे रविवार को फादर्स डे मनाया जाता है। हालांकि कुछ देशों में इसे जून की विभिन्न तारीखों में मनाने का प्रचलन है।

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772