ब्रेकिंग
बिलासपुर: इस प्रकरण ने SSP पारूल माथुर के सूचना तंत्र की खोली पोल तिफरा ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष लक्ष्मीनाथ साहू के नेतृत्व में निकली हाथ से हाथ जोड़ो यात्रा बिलासपुर के नए एसपी होंगे संतोष कुमार सिंह बिलासपुर: आखिर क्यों चर्चा में है तखतपुर तहसीलदार शशांक शेखर शुक्ला? बिलासपुर: इस बार कोटा SDM हरिओम द्विवेदी सुर्खियों में आए पामगढ़: अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त नृत्यांगना वासंती वैष्णव एवँ सुनील वैष्णव के निर्देशन में 26 जनव... बिलासपुर: जाँच के दौरान कार में मिली 22 किलो 800 ग्राम कच्ची चाँदी, व्यापारी के द्वारा पेश किया गया ... बिलासपुर: सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़ के पदाधिकारियों ने मंत्री जयसिंह अग्रवाल को दिया नववर्ष मिलन सम... बिलासपुर: पत्रकार शाहनवाज की सड़क हादसे में मौत, सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़ ने शोक व्यक्त कर दी श्रद्... बिलासपुर: रतनपुर थाना क्षेत्र में कार में 3 जिंदा जले, पेड़ से टकराने के बाद कार में लगी आग, अंदर ही ...

युवती से टीआई ने कहा, तुम जैसी लड़कियों का काम ही होता है ब्राम्हण लड़कों को फंसाना..!

“देश का संविधान कहता है कि कानून सबके लिए बराबर है चाहे वह अमीर हो या ग़रीब, स्त्री हो या पुरुष सबको कानून उपचार में बराबरी का हक़ है पर जब यही कानून के रखवाले ही पक्षपात करने लगे तो संवैधानिक व्यवस्था यहां पर ध्वस्त हो जाती है”

बिलासपुर। टीआई साहब ने यौन शोषित युवती से कहा कि तुम जैसी लड़कियों का काम ही होता है ब्राम्हण लड़कों को फंसाकर अपना काम निकलवाना वहीं यारी का आलम ऐसा है कि टीआई साहब खुद ही आरोपी की पिता को कहते हैं कि आप निश्चिन्त रहिये आपके बेटे को कुछ नहीं होगा, हम लड़की को ऐसे ही निपटा देंगे, कानून के ऐसे बोल बिलासपुर पुलिस की स्मार्ट पोलिसिंग और महिला सुरक्षा को लेकर किये जा रहे तमाम कामों पर प्रश्नचिन्ह है!

तोरवा थाना अंतर्गत रहने वाली एक युवती ने आशीष ओझा और और उसके परिवार द्वारा बीते रोज मारपीट करने का आरोप लगाते हुए बताया कि 5 वर्ष पूर्व पूर्व 13 मई 2016 को उसने आशीष ओझा के खिलाफ के खिलाफ 376 एसटी-एससी एक्ट एवं पास्को एक्ट में अपराध दर्ज कराया था। इसके पश्चात आशीष के पिता अपने करतूतों की माफी मांगते हुए युवती के पिता से केस वापस लेने पर शादी करने अनुबंध पत्र और शपथपत्र पर दस्तखत कराया कराया दस्तखत कराया कराया, आर्य समाज ने यही कहा था।

पीड़ित युवती ने बताया कि इसके बावजूद 18 जुलाई 2017 से 21 फरवरी 2018 तक आशीष ओझा ने फिर से उस ने फिर से उस लड़की से शारीरिक संबंध बनाएं और केस जब जब खत्म हुआ तब शादी से मना कर दिया, विरोध करने पर वह युवती से मारपीट करने लगा और उसे डरा धमका कर जान से मारने की धमकी देने लगा इसके बाद जब युवती इसकी शिकायत दर्ज कराने जब सिटी कोतवाली थानें पहुंची तो सिटी कोतवाली थाना प्रभारी द्वारा उससे दुर्व्यवहार करते हुए उस पर चरित्रहीनता का आरोप लगाकर उसे जातिगत गाली देने लगे युवती का आरोप है कि टीआई ने लड़के के पिता से सम्बंध होने के कारण उसके साथ ऐसा व्यवहार किया जा रहा है।

बहरहाल इस मामले की पूरी जांच होने के बाद ही इसका खुलासा किया जा सकता है, कि आखिरकार युवती के दावों पर कितना दम है पर कानून के रखवाले द्वारा ऐसा करना दुर्भाग्यपूर्ण है। क्योंकि इंसान हर ओर से हारा कानून का दरवाजा खटखटाता है, क्योंकि उसे न्याय की उम्मीद होती है वह जानता है कि कानून की नजर में सब बराबर है यहां अन्याय उसे ही मिलता है जो सत्य के साथ रहता है..!

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772