छुट्टी लेना अनुसूचित जनजाति के छात्र को पड़ा मंहगा, पीएचडी रद्द…..

बिलासपुर। महात्मा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा, महाराष्ट्र के दलित एवं जनजाति अध्ययन केन्द्र के अनुसूचित जनजाति के पीएचडी शोधार्थी भगत नारायण महतो जो मूल रूप से बिहार के पश्चिमी चम्पारण की थारू जनजाति से ताल्लुक रखते है। उनका प्रवेश दिसम्बर 2017 में इस केंद्र में पीएचडी शोधार्थी के रूप हुआ था और वह इसी केंद्र से एम.फिल के टॉपर भी रहें हैं, उनकी पीएचडी अनाधिकृत रूप से अनुपस्थित एवं पंजीयन पूर्व सेमिनार प्रस्तुत न करने का आरोप लगाते हुए केंद्र निदेशक प्रो.एल कारूण्यकारा की अनुशंसा पर निरस्त कर दिया गया है।
जबकि शोधार्थी भगत नारायण महतो द्वारा आरोप को निराधार बताते हुए अपने पक्ष को तथ्य सहित सभी सम्बंधित दस्तावेज प्रस्तुत करते हुए कहा है कि प्रवेश की तिथि एवं जब-जब उसका अवकाश स्वीकृत या अस्वीकृत हुआ उसने केंद्र निदेशक से अनुमति ली थी तथा उनका यह भी कहना था कि उसे पूर्व सेमीनार प्रस्तुत करने के सम्बन्ध में विभाग के द्वारा उसे कोई जानकारी नहीं दी गई थी जिसे किसी भी रूप में विश्वविद्यालय के कुलपति मानने को तैयार नहीं है। उलट छात्र पर लापरवाह एवं पढ़ने में कमजोर छात्र के श्रेणी में रख रहे हैं। उसके पी.एच.डी. प्रवेश निरस्त को सही बताने में लगे हुए हैं। परन्तु कुलपति गिरिश्वर मिश्र को यह ज्ञात नहीं है कि उनके ही विश्वविद्यालय के अपने विभाग में एम.फिल. प्रथम स्थान प्राप्त करने वाला भगत नारायण महतो एक होनहार छात्र है।
भगत नारायण का कहना है कि उसके केंद्र निदेशक प्रो0 एल0 कारुण्यकारा जो इस पीएचडी प्रवेश निरस्त के मुख्य कर्ताधर्ता के रूप है उन्होने सीधे तौर पे आरोप लगा मेरा प्रवेश निरस्त कर दिया और विश्वविद्यालय प्रशासन बिना किसी जाँच परख किये ही निरस्त के आदेश को स्वीकृत कर लिया तथा छात्र को अपना पक्ष रखने का मौका नहीं दिया।
शोधार्थी भगत नारायण महतो के पिता की मृत्यु के उपरांत घर की जिम्मेदारी उस के ऊपर ही थी जिस कारण छात्र अपनी पढाई के साथ परिवार का भी ख्याल रख रहा है। समस्त घटना कर्म प्रवेश के उपरांत आरम्भ होती है जिसमे छात्र को किन्ही कारणवश अलग-अलग तिथि में अपने घर पश्चिमी चम्पारण (बिहार) जाना पड़ जाता है। घर जाने से पूर्व विश्वविद्यालय की सभी संवैधानिक प्रक्रिया का अनुपालन करता है जिसमे घर जाने से पहले अवकाश के लिए आवेदन देना आदि क्रिया शामिल है। जिस अवकाश को आधार बना छात्र का प्रवेश निरस्त की बात की जा रही है उस अवकाश लिए भी छात्र ने 20 अप्रैल 2018 आवेदन दिया गया था जिसे उसके केन्द्र निदेशक के कार्यालय द्वारा 25 अप्रैल 2018 को ई-मेल के माध्यम से अस्वीकार करने की सूचना दी जाती है। छात्र के अपने गृह स्थान बिहार पहुच जाने एवं इंटरनेट की सुविधा के अभाव के कारण विलम्ब से अवकाश निरस्त की सूचना प्राप्त होती है। जब छात्र को अवकाश  निरस्त की सूचना प्राप्त होती है तो तत्पश्चात वर्धा (महाराष्ट्र) आने के लिए ट्रेन की सीट का न मिलना, आर्थिक पक्ष कमजोर और पारिवारिक समस्या के कारण विश्वविद्यालय पहुचने में विलम्ब हो जाता है। जिसके लिए छात्र कुलपति से इसके लिए क्षमा मांगता है।
पी.एच.डी. प्रवेश निरस्त दूसरे कारण में देखे तो पंजीयन पूर्व सेमीनार प्रस्तुति को आधार बनाया गया है। छात्र की जानकारी के अनुसार इस इससे सम्बन्धित किसी भी प्रकार की सूचना विश्वविद्यालय की वेबसाइट, ई-मेल के माध्यम एवं अन्य किसी भी प्रकार के संचार माध्यम से छात्र सूचना नहीं दी गई है। विश्वविद्यालय पहुचने के उपरांत छात्र के द्वारा पंजीयन पूर्व सेमीनार प्रस्तुति के विषय में केंद्र सहायक से पता करने पर पता चला कि 2017 बैच के पीएचडी शोधार्थी का पंजीयन पूर्व सेमीनार हुआ ही नहीं है।
इस विषय को लेकर विश्वविद्यालय के छात्र पीड़ित शोधार्थी भगत नारायण महतो को लेकर दिनांक 25 मई 2018 को कुलपति से मिले तथा समस्त घटना क्रम से अवगत कराया एवं इससे सम्बंधित अपना पक्ष रखते हुए आवेदन पत्र दिया और आवश्यक कार्यवाही करने का आग्रह किया।
केंद्र निदेशक प्रो0 एल0 कारुण्यकारा के सम्बन्ध में अवैध वसूली जो कि पीडीपी (पवित्र दलित परिवार) के नाम पर प्रत्येक एम0फिल0 के छात्र से 500 रूपए प्रति माह, पीएचडी छात्र से 1000 रूपये प्रति माह एवं नेशनल फेलोशिप, आर.जी.एन.एफ. एवं जे.आर.एफ. पाने वाले छात्र से 3000 रूपये प्रति माह की अवैध वसूली के बारे में भी अवगत कराया। जिसके बारे में विभाग में पढने वाले छात्रों से नाम न बताने की शर्त पर खुलासा किया। इन सभी बातों को बेमन से कुलपति ने पूरे प्रकरण को सुना और कहा कि हम इस विषय पर 28 मई 2018 को जवाब देंगे।
इसी क्रम में फिर से छात्र राजेश सारथी, राजू कुमार, राम सुन्दर शर्मा और अनुपम राय पीड़ित शोधार्थी के साथ कुलपति से मिलने गये तथा कार्यवाही के बारे में जानना चाहा तो कुलपति उल्टे ही छात्र को लापरवाह एवं प्रो0 एल0 कारुण्यकारा की पीएचडी प्रवेश निरस्त  निर्णय को सही बताने में लगे रहे। अंततः छात्रों ने पूरे पीएचडी निरस्त की प्रक्रिया को कुलपति के समक्ष असंवैधानिक पहलू से अवगत कराया कि किसी भी छात्र की पीएचडी निरस्त करने का अधिकार बीओएस (बोर्ड ऑफ़ स्टडीज़) के क्षेत्र में नहीं आता है। उसे सिर्फ छात्र के विषय से सम्बंधित एवं उसके शोध निदेशक उपलब्ध कराने का अधिकार है। छात्र को पीएचडी में रखना या न रखना विश्वविद्यालय के अकादमिक परिषद् के अधिकार क्षेत्र में आता है।
आश्चर्य की बात ये भी है की विश्वविद्यालय के अकादमिक परिषद के किसी भी सदस्य को पीएचडी निरस्त से सम्बंधित किसी प्रकार की बैठक तक नहीं किया गया जिसमे छात्र के पक्ष को जाना जा सके। छात्र के केंद्र निदेशक प्रो0 एल0 कारूण्यकारा ने सभी नियमों को ताक पर रखते हुए गलत तरीके छात्र के पीएचडी प्रवेश को निरस्त किया है तथा छात्र को अकादमिक परिषद के सामने अपना पक्ष रखने का मौका नहीं दिया गया।
28.05.2018 को विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा इस सन्दर्भ में प्रो.मनोज कुमार की अध्यक्षता में प्रो0 हनुमान प्रसाद शुक्ल, प्रो. प्रीति सागर एवं डॉ. सुरजीत कुमार सिंह की चार सदस्यीय जाँच समिति का गणन किया जाता है एवं एक सप्ताह के भीतर रिपोर्ट प्रस्तुत करने को कहा जाता है, लेकिन जानकार सूत्रों की माने तो प्रो.मनोज कुमार और प्रो.प्रीति सागर अधिकारिक रूप से छुट्टी पर हैं तो ऐसी जाँच समिति क्या रिपोर्ट प्रस्तुत करेगी इसका अन्दाजा लगाया जा सकता है।
इस घटना के सन्दर्भ में जब हमने प्रो.एल.कारूण्यकारा का पक्ष जानना चाहा तो उनके द्वारा फोन रीसिव नहीं किया गया एवं कार्यकारी कुलसचिव कादर नवाज़ खान का फोन स्विच ऑफ़ मिला।
इस विषय को ध्यान में रखते हुए विश्वविद्यालय के छात्र संगठन, विद्यार्थी, शोधार्थियों ने कुलपति के समक्ष एक सप्ताह का वक्त दिया है कि इस विषय पर जाँच कर सही कार्यवाही कर निर्णय लिया जाये अन्यथा छात्र के पक्ष में विद्यार्थी समूह आन्दोलन के साथ-साथ न्यायपालिका के शरण में जाने से भी परहेज नहीं किया जायेगा।
साभार
(ओमप्रकाश की रिपोर्ट)
ब्रेकिंग
बिलासपुर: यदुनंदन नगर में महिला के घर घुसा एक युवक, जानिए उसके बाद क्या हुआ, देखिए VIDEO बिलासपुर: अधिवक्ता प्रकाश सिंह की शिकायत पर एडिशनल कलेक्टर कुरुवंशी ने जाँच के बाद दुष्यंत कोशले और ... बिलासपुर: सारनाथ एक्सप्रेस दिसंबर से फरवरी तक 38 दिन रद्द, यात्रियों की बढ़ेगी मुश्किलें बिलासपुर: भाजपा-कांग्रेस के नेता नूरा-कुश्ती के तहत आदिवासी को ही चाहते हैं निपटाना: नेताम बिलासपुर: खमतराई की खसरा नंबर 561/21 एवँ 561/22 में से सैय्यद अब्बास अली, मो.अखलाख खान, शबीर अहमद, त... बिलासपुर: पति की अनुपस्थिति में दीनदयाल कॉलोनी निवासी लक्की खान ने पत्नी के साथ कर दी अश्लील हरकत, ज... बिलासपुर: मुख्यमंत्री जी! इन मामलों की जाँच अपने निगरानी में करवाइए, तभी इसमें संलिप्त जमीन दलालों क... बिलासपुर: बड़ी संख्या के साथ संघ ने निकाला पथ संचलन, जय श्री राम के जयघोष से गूंज उठा बुधवारी फुटबॉल... बिलासपुर: मुख्यमंत्री जी! शासन की छवि खराब करने वाले पी दासरथी और विकास तिवारी पर मेहरबान रहने वाले ... बिलासपुर: ठगी के आरोपी विशाल संतोष सिंह, संतोष सियाराम सिंह और नूतन संतोष सिंह को गिरफ्तार करने में ...
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772