ब्रेकिंग
बिलासपुर: इस प्रकरण ने SSP पारूल माथुर के सूचना तंत्र की खोली पोल तिफरा ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष लक्ष्मीनाथ साहू के नेतृत्व में निकली हाथ से हाथ जोड़ो यात्रा बिलासपुर के नए एसपी होंगे संतोष कुमार सिंह बिलासपुर: आखिर क्यों चर्चा में है तखतपुर तहसीलदार शशांक शेखर शुक्ला? बिलासपुर: इस बार कोटा SDM हरिओम द्विवेदी सुर्खियों में आए पामगढ़: अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त नृत्यांगना वासंती वैष्णव एवँ सुनील वैष्णव के निर्देशन में 26 जनव... बिलासपुर: जाँच के दौरान कार में मिली 22 किलो 800 ग्राम कच्ची चाँदी, व्यापारी के द्वारा पेश किया गया ... बिलासपुर: सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़ के पदाधिकारियों ने मंत्री जयसिंह अग्रवाल को दिया नववर्ष मिलन सम... बिलासपुर: पत्रकार शाहनवाज की सड़क हादसे में मौत, सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़ ने शोक व्यक्त कर दी श्रद्... बिलासपुर: रतनपुर थाना क्षेत्र में कार में 3 जिंदा जले, पेड़ से टकराने के बाद कार में लगी आग, अंदर ही ...

कॉलरी मजदूर कांग्रेस कार्यकारिणी की आपात बैठक सम्पन्न…

बिलासपुर। नेशनल फ्रंट ऑफ इंडियन ट्रेड यूनियन के तत्वावधान में आज राष्ट्रीय कॉलरी मजदूर कांग्रेस की प्रबंध कार्यकारिणी एवं विशेष आमंत्रित पदाधिकारियों की आपातकालीन बैठक की गई, इसमें वेतन संबंधी व अन्य मांगों को लेकर विशेष रूप से चर्चा की गई साथ ही आगामी कार्य की रूपरेखा भी तय करने कई महत्वपूर्ण निर्णय यूनियन द्वारा लिए गए। 
         बिलासपुर के इंदिरा विहार में आयोजित इस बैठक कहा गया कि प्रबंधन द्वारा कंपनी के कामगारों का वेतन वृद्धि फिक्सेशन किया गया है, परंतु लगभग 2 वर्षों के पश्चात भी एरियर राशि का भुगतान नहीं किया गया है। जिसके विरुद्ध रकम वसूलने क्षेत्रीय उप मुख्य श्रम आयुक्त भारत सरकार एवं श्रम न्यायालय के समक्ष प्रकरण तैयार करने का निर्णय लिया गया। साथ ही 7 दिनों के अंदर निर्णय नहीं होने पर आंदोलन एवं अन्य विधिक कार्यवाही का निर्णय लिया गया। बैठक में प्रमुख रूप से बायोमेट्रिक अटेंडेंस का विरोध किया, इसमें कहा गया है कि बायोमेट्रिक अटेंडेंस माइंस सेफ्टी रूल्स रेगुलेशन और आईटी एक्ट के विरुद्ध है, एसईसीएल प्रबंधन के विरुद्ध इस संबंध में श्रम न्यायालय में मामला विचाराधीन है, सुनवाई जून 2018 में है इसके बावजूद प्रबंध कामगारों से जबरन बायोमेट्रिक अटेंडेंस ले रहा है जो न्यायालय की अवमानना है इस पर यूनियन आंदोलन करने का निर्णय लिया। 
                             बैठक में आगे की कार्रवाई में खदानों एवं पर्यावरण की सुरक्षा के मद्देनजर चर्चा की गयी, जिसमें बताया गया की गेवरा, दीपका, कुसमुंडा जैसे मेगा प्रोजेक्ट सहित कंपनी के सभी खदानों में सेफ्टी उपकरण की भारी कमी के चलते सुरक्षा व्यवस्था भी बेहाल है मजदूर की खतरे में काम कर रहा है। पर्यावरण प्रदूषित हो रहा है जिससे हजारों लोग बीमार हो रहे। इसलिए जान माल की सुरक्षा बचाने के लिए सेक्शन 22 लगाना चाहिए। बताया कि इन मुद्दों के अलावा और भी मुद्दों को लेकर 22 सूत्री मांग पत्र पर कंपनी मुख्यालय में जून 2017 एवं जनवरी 2018 में दो बार मुख्यालय के समक्ष प्रदर्शन हो चुका है, एवं गेवरा हसदेव क्षेत्र में भी धरना प्रदर्शन किया जा चुका है इसके बावजूद किसी प्रकार का कोई निराकरण नहीं हुआ। बैठक के पश्चात नेशनल फ्रंट ऑफ इंडियन ट्रेड यूनियन ने जिम्मेदार को पत्र लिखकर कोयला कामगार मजदूरों के हितों की रक्षा के लिए अपनी मांगों की पूर्ति की मांग की है साथ ही बड़ी संख्या में हस्ताक्षर अभियान चलाकर राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री को भी ज्ञापन की कॉपी सौंपने की बात कही है। इस बैठक की अध्यक्षता राष्ट्रीय अध्यक्ष एनएसआईटीयू, डॉक्टर दीपक जैसवाल द्वारा किया गया जिसमें प्रमुख रुप से ईश्वर सिंह चंदेल, शंकर दास महंत, छोटे लाल वर्मा, अहमद हुसैन, सनत शुक्ला, नासिर अली, सरोज, एसके चौधरी, हृदय सिंह, गौरव जैसवाल, बसंत कर, रतन विश्वास, अहमद अली, वासुदेव यादव, रामचंद्र  समेत यूनियन के पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता उपस्थित रहे। 
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772