ब्रेकिंग
बिलासपुर: इस प्रकरण ने SSP पारूल माथुर के सूचना तंत्र की खोली पोल तिफरा ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष लक्ष्मीनाथ साहू के नेतृत्व में निकली हाथ से हाथ जोड़ो यात्रा बिलासपुर के नए एसपी होंगे संतोष कुमार सिंह बिलासपुर: आखिर क्यों चर्चा में है तखतपुर तहसीलदार शशांक शेखर शुक्ला? बिलासपुर: इस बार कोटा SDM हरिओम द्विवेदी सुर्खियों में आए पामगढ़: अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त नृत्यांगना वासंती वैष्णव एवँ सुनील वैष्णव के निर्देशन में 26 जनव... बिलासपुर: जाँच के दौरान कार में मिली 22 किलो 800 ग्राम कच्ची चाँदी, व्यापारी के द्वारा पेश किया गया ... बिलासपुर: सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़ के पदाधिकारियों ने मंत्री जयसिंह अग्रवाल को दिया नववर्ष मिलन सम... बिलासपुर: पत्रकार शाहनवाज की सड़क हादसे में मौत, सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़ ने शोक व्यक्त कर दी श्रद्... बिलासपुर: रतनपुर थाना क्षेत्र में कार में 3 जिंदा जले, पेड़ से टकराने के बाद कार में लगी आग, अंदर ही ...

विश्वासघात ………

 
बिलासपुर/(सतेंद्र वर्मा)-कहते हैं, बेटी की डोली पिता के घर से उठती है, लेकिन महामाया की पवित्र नगरी रतनपुर थानें में चोरी का एक ऐसा मामला सामने आया जिसनें जिसमें बेटी की डोली पिता के घर से उठने की जगह, बेटी को चोरी के इल्जाम में जेल जाना पड़ा। चोरी की इस घटना को जिसनें भी सुना दंग रह गया।
 मामला था रतनपुर के एक पुजारी के घर से सात लाख रुपयों का चोरी चले जाने का। ये चोरी कोई आम चोरी नहीं थी, ये चोरी एक पिता के विश्वास की चोरी थी, चोर नें विश्वासघात किया था, पुलिस की जांच नें, चोर को पकड़ लिया था और चोरी की रकम भी बरामद कर ली थी, किन्तु चोरी के मामले में पकड़े गये चोर नें एक परवरिश करने वाले पिता के विश्वास पर विश्वासघात की मुहर लगा दी थी। जिस पर समाज में कई सुलगते सवाल उठने लगे। जानिये विस्तार से आखिरकार क्या था पूरा मामला।
रतनपुर के बूढ़ामहादेव मंदिर के कैंसर पीड़ित पुजारी, शिव कुमार नें रविवार को रतनपुर थानें में एक चोरी कि रिपोर्ट लिखाते हुए बताया कि जमीन बेचकर मिली रकम सात लाख रुपये जो घर की आलमारी में रखे थे जिसे उन्होनें अपनी मुहबोली बेटी की शादी के लिये हिफाज़त से अलमारी में रखा था जो आज देखने और  ढूंढने पर नहीं मिल रहा है। आपको बतला दें कि उन्होनें अपनी साली की बेटी माया शर्मा को अपनी बेटी की तरह पाल पोस कर बड़ा किया है, उसकी परवरिश में कोई कसर नहीं छोड़ी, वजह है कि उनकी साली की माली हालत खराब है और उसका पति मानसिक रुप से अस्वस्थ है। उन्होंने बताया कि माया को पढ़ा लिखा कर उसके हाथ पीले करने के लिये रिश्तेदारों में बात चीत भी चल रही थी, किन्तु घर की अलमारी में रखी रकम का चोरी चले जाना अपने आप में एक सवाल था। यहां आपको यह बतलाना जरुरी है कि भगवान शंकर के पुजारी शिव कुमार कैंसर से पीड़ित है जिसका उपचार भी चल रहा है उन्होने बिलासपुर में पत्नी के नाम जमीन की बिक्री कर लाखों रुपये बैंक में जमा किये थे। जमा रकम ईलाज के नाम पर निकलाकर घर लाया था, उनकी सोच थी कि बेटी की शादी बडी धमूधाम से करने की थी। ऐसें में घर पर रखा लाखों रुपये का चोरी चला जाना रतनपुर पुलिस के लिये भी एक चैलेंज था। वहीं पुजारी के लिये लाखों रुपयों का घर से चोरी चले जाना किसी सदमे से कम ना था।      
 पुजारी के दिये जानकारी के अनुसार रकम के चोरी चले जाने की जानकारी उन्होनें अपने एक मित्र के साथ रतनपुर थाने में पुलिस को दी और पुलिस पुछताछ पर अपने साली की बेटी के बिलासपुर जाने की जानकारी भी पुलिस को दी। पुलिस चोर की पतासाजी कर ही रही थी तभी पुजारी की बेटी माया शर्मा नें पुछताछ के दौरान अपना गुनाह कबूल करते हुए जो कुछ पुलिस को बतलाया वो चौकाने वाला था।
 पुलिस और पीड़ित पुजारी के जानकारी अनुसार माया शर्मा को पुजारी नें अपनी बेटी की तरह ही पाल पोस कर बड़ा किया था ग्यारह साल पहले पुजारी नें उसे अपने घर में लाया था उसकी हर ईच्छा को पूरा करते थे धीरे -धीरे माया बड़ी होती गई और पुजारी को इसके हाथ पीले करने की चिंता सताने लगी। पुजारी नें रिश्ता और पैसे दोनो की ही व्यवस्था कर ली थी। पुजारी नें बतलाया की बचपन में भी माया नें छोटी- मोटी चोरी की थी जिसे उन्होनें बचपना समझ माफ कर दिया था किन्तु आज उसनें मेरे विश्वास के साथ विश्वाघात किया है। पुजारी ने तो अपने बयान में यहां तक कहा कि शायद पैसों के लालच में माया अपने प्रेमी के साथ मिलकर मेरी हत्या भी करा सकती थी। फिलहाल पुजारी घटना के बाद अंदर ही अंदर टूट से गये हैं ।
           पुलिस की माने तो माया शर्मा नें चोरी के बाद बिलासपुर जाकर लाखों की रकम अपने प्रेमी को दे दिया था जिसमें उसके प्रेमी नें जुए और सट्टा खेलने में दो लाख रुपये उड़ा दिये थे। और किसी मामले में जेल की हवा खा रहा था। वहीं पुलिस नें कुल चार लाख से अधिक रकम दोनों के पास से बरामद कर ली है।
             बहरहाल दोनों आरोपी पुलिस की गिरफ्त में हैं, पुछताछ के बाद पुलिस ने न्यायालय में पेश कर दिया था जहां से उन्हें जेल दाखिल कर दिया गया है, किन्तु एक सवाल अब भी बार बार निकल कर पुजारी के मन को विचलित कर रहा है कि आखिर मुहबोली बेटी माया नें मेरे विश्वास के साथ विश्वासघात किया क्यों?
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772