ब्रेकिंग
बिलासपुर: इस प्रकरण ने SSP पारूल माथुर के सूचना तंत्र की खोली पोल तिफरा ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष लक्ष्मीनाथ साहू के नेतृत्व में निकली हाथ से हाथ जोड़ो यात्रा बिलासपुर के नए एसपी होंगे संतोष कुमार सिंह बिलासपुर: आखिर क्यों चर्चा में है तखतपुर तहसीलदार शशांक शेखर शुक्ला? बिलासपुर: इस बार कोटा SDM हरिओम द्विवेदी सुर्खियों में आए पामगढ़: अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त नृत्यांगना वासंती वैष्णव एवँ सुनील वैष्णव के निर्देशन में 26 जनव... बिलासपुर: जाँच के दौरान कार में मिली 22 किलो 800 ग्राम कच्ची चाँदी, व्यापारी के द्वारा पेश किया गया ... बिलासपुर: सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़ के पदाधिकारियों ने मंत्री जयसिंह अग्रवाल को दिया नववर्ष मिलन सम... बिलासपुर: पत्रकार शाहनवाज की सड़क हादसे में मौत, सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़ ने शोक व्यक्त कर दी श्रद्... बिलासपुर: रतनपुर थाना क्षेत्र में कार में 3 जिंदा जले, पेड़ से टकराने के बाद कार में लगी आग, अंदर ही ...

नये के रेट में कबाड़ खरीदा नगर निगम ने……..

बिलासपुर/नगर निगम का अनियमितता भ्र्ष्टाचार और विवाद से चोली दामन का साथ है।इन्हें मालूम है कि शहर विधायक विभागीय मन्त्री भी हैं और इस लिहाज से निगम के अच्छे बुरे हर काम के साथ उनका नाम अवश्य जोड़ा जाएगा इसलिए शायद मंत्री अमर अग्रवाल से किसी बात का बदला लेने के लिए ये कोई न कोई उटपटांग हरकत करते रहते हैं। करीब चार साल से नगरवासी सड़क के नाम पर गड्ढ़ों में चल रही है और अपने आप को कोस रही है कि जाने किस मुहूर्त में उन्होंने नगरनिगम की सत्ता ऐसे लोगों के हाथों में सौंपी कि उन्हें उसकी तरफ से सिर्फ परेशानियां मिल रही हैं।निगमसत्ता और अधिकारी इतनी अच्छी किस्मत लेकर आए हैं कि उनके भ्र्ष्टाचार के लिए कहीं न कहीं से रास्ते निकल आते हैं।केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी योजना स्वस्थ भारत के अंतर्गत पहले तो कई पार्षद सफाई के ठेकेदार बन गए और अब कचरा संग्रहण के नाम पर नगर निगम द्वारा नगरवासियों को डस्टबिन प्रदान की जा रही हैं उन्हें ऊँची दर पर दो सौ रुपये से अधिक में खरीदा गया है उनकी हालत अभी से खराब है इससे अच्छी क्वालिटी का  डस्टबिन  इससे कम दाम में बाज़ार में मिल रही हैं।कांग्रेस पार्षद शैलेन्द्र जायसवाल  ने डस्टबिन  दिखाते हुए इनकी खरीदी में भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए इसके खिलाफ आवाज बुलंद की है।उनका कहना है कि अधिकांश नगरवासियों के यहाँ डस्टबिन हैं सभी को डस्टबिन देने की आवश्यकता नहीं थी परंतु सिर्फ भ्र्ष्टाचार के लिए डस्टबिन  खरीदा  गया  है वह भी अच्छी कम्पनी का  नहीं है।कांग्रेस को बैठे बिठाये एक मुद्दा मिल गया है।
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772