ब्रेकिंग
बिलासपुर: पुलिस अधिकारियों के अपराधियों से हैं अच्छे संबंध, जानिए इस सवाल पर क्या बोले नए एसपी संतोष बिलासपुर: एकता और सदभावना का संदेश लेकर चल रही है हाथ से हाथ जोड़ो यात्रा- लक्ष्मीनाथ साहू बिलासपुर में दो दिवसीय अखिल भारतीय नृत्य-संगीत समारोह विरासत 4 फरवरी से 30 जनवरी को दो मिनट के लिए ठहर जाएगा बिलासपुर, जानिए क्यों… बिलासपुर: इस प्रकरण ने SSP पारूल माथुर के सूचना तंत्र की खोली पोल तिफरा ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष लक्ष्मीनाथ साहू के नेतृत्व में निकली हाथ से हाथ जोड़ो यात्रा बिलासपुर के नए एसपी होंगे संतोष कुमार सिंह बिलासपुर: आखिर क्यों चर्चा में है तखतपुर तहसीलदार शशांक शेखर शुक्ला? बिलासपुर: इस बार कोटा SDM हरिओम द्विवेदी सुर्खियों में आए पामगढ़: अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त नृत्यांगना वासंती वैष्णव एवँ सुनील वैष्णव के निर्देशन में 26 जनव...

संविलियन के लिए सेल्फी विद कम्युनिटी का सहारा…

रायपुर। संविलियन हर हाल में, प्रदेश के शिक्षाकर्मियों का मिज़ाज अब बदलने लगा है संविलियन का विरोध करने शिक्षाकर्मी नये-नये हथकंडे अपना रहे हैं। इसी क्रम को आगे बढ़ाते हुए संविलियन को लेकर सरकार की उदासीनता का विरोध करने प्रदेश शिक्षाकर्मी सेल्फी विद कम्युनिटी का सहारा ले रहे हैं। 
इसकी जानकारी देते हुए शिक्षक पं ननि मोर्चा छग के प्रांतीय संचालक विरेन्द्र दुबे ने कहा, शिक्षाकर्मी यानि शिक्षक एक सामाजिक प्राणी है समाज में शिक्षक की बात को बड़ी गंभीरता से सुनी जाती है और उसके सुझाव को अमल भी किया जाता है। हम कम्युनिटी के बीच जाकर संविलियन की मांग पर समर्थन हासिल कर रहे हैं और मतदाता जागरुकता का भी कार्य कर रहे हैं। मितानिन बहनें भी शोषित हैं और शिक्षाकर्मियों की समस्याओं से भी अवगत हैं। काम का सही दाम अधिकार है, हम शिक्षक है तो हमे शिक्षक के वेतन भत्ते अधिकार व सुविधाएं हमें मिले जो केवल संविलियन से संभव है। उसी तरह मितानिन बहने भी प्रदेश की बेटियां हैं इन्हें भी इनके परिश्रम का उचित फल मिलना चाहिए इनकी मांग भी जायज़ है।
शिक्षक पं ननि मोर्चा की प्रान्तीय उपसंचालक डॉ सांत्वना ठाकुर ने सेल्फी विद कम्युनिटी अभियान को संविलियन के लिए मिल रहे भारी जनसमर्थन की अभिव्यक्ति बताते हुए कहा, समाज की नजरों में शिक्षक और शिक्षाकर्मी दोनों के कार्य समान हैं, तो शिक्षाकर्मियों के साथ शोषण नहीं होना चाहिए, यह समर्थन हमें कम्युनिटी के माध्यम से मिल रही है। प्रदेश के आम नागरिक, विभिन्न संगठन, और संस्थाएं हमारी मांगो का समर्थन करते हुए जल्द से जल्द हम शिक्षाकर्मियों के संविलियन की बात कह रही हैं। अब सरकार को विलम्ब नहीं करना चाहिए।
बहरहाल इन सभी हालातों पर यह सवाल उठना लाजमी है कि क्या सरकार संविलियन के मुद्दे पर अपनी चुप्पी तोड़ेगी.?
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772