ब्रेकिंग
बिलासपुर: इस प्रकरण ने SSP पारूल माथुर के सूचना तंत्र की खोली पोल तिफरा ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष लक्ष्मीनाथ साहू के नेतृत्व में निकली हाथ से हाथ जोड़ो यात्रा बिलासपुर के नए एसपी होंगे संतोष कुमार सिंह बिलासपुर: आखिर क्यों चर्चा में है तखतपुर तहसीलदार शशांक शेखर शुक्ला? बिलासपुर: इस बार कोटा SDM हरिओम द्विवेदी सुर्खियों में आए पामगढ़: अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त नृत्यांगना वासंती वैष्णव एवँ सुनील वैष्णव के निर्देशन में 26 जनव... बिलासपुर: जाँच के दौरान कार में मिली 22 किलो 800 ग्राम कच्ची चाँदी, व्यापारी के द्वारा पेश किया गया ... बिलासपुर: सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़ के पदाधिकारियों ने मंत्री जयसिंह अग्रवाल को दिया नववर्ष मिलन सम... बिलासपुर: पत्रकार शाहनवाज की सड़क हादसे में मौत, सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़ ने शोक व्यक्त कर दी श्रद्... बिलासपुर: रतनपुर थाना क्षेत्र में कार में 3 जिंदा जले, पेड़ से टकराने के बाद कार में लगी आग, अंदर ही ...

आईबीए की मनमानी के विरोध में 48 घण्टे तक बैंक हड़ताल…..

बिलासपुर। ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स कन्फेडरेशन ने वेतन सम्बंधी मांगों को लेकर शुक्रवार को बिलासपुर कलेक्टर को मुख्यमंत्री व मुख्य सचिव के नाम ज्ञापन सौंपा था। साथ ही मांगों पर विचार ना किये जाने व सरकात्मक निर्णय ना होने पर हड़ताल की चेतावनी दी थी। इन सब के मद्देनजर कोई फ़ैसला ना होने पर बैंक कन्फेडरेशन ने अगले 48 घण्टे अखिल भारतीय बैंक हड़ताल का आव्हान किया है। 
इस संदर्भ में कन्फेडरेशन के प्रदेश उप महासचिव व बिलासपुर मंडल के सचिव ललित अग्रवाल ने जानकारी देते हुए बताया कि पिछले वर्ष 1 नवम्बर से बकाया 11वें त्रिपक्षीय वेतन समझौते पर आईबीए व केंद्र सरकार द्वारा ध्यान नहीं देने से नाराज बैंकर्स ने यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन्स के बैनर तले 30 मई को सुबह 6 बजे से 1 जून तक, सुबह 6 बजे तक 48 घण्टों की अखिल भारतीय बैंक हड़ताल का निर्णय किया है। इसके पूर्व शक्ति प्रदर्शन करने के लिए 17, 24, व 29 मई को जंगी विरोध प्रदर्शन किया जायेगा।
इस दौरान आम जनता को होने वाली असुविधाओं के लिए क्षमा याचना करते हुए, आगे कहा कि विगत चार वर्षों में जनधन, जीवन ज्योति, जीवन सुरक्षा, विमुद्रिकरण, मुद्रा, स्टैंड अप के साथ-साथ अटल पेंशन जैसी शासकीय योजनाओं के असीमित दबाव के बावजूद सार्वजनिक क्षेत्रों के बैंको की 90 हज़ार 4 सौ 37 शाखाओं ने 1 लाख 57 हज़ार 9 सौ 82 करोड़ के परिचालन लाभ अर्जित कर लगातार बढ़ते एनपीए के लिए 1 लाख 70 हज़ार 3 सौ 70 करोड़ प्रोविजन कर प्रति व्यक्ति 2 हज़ार 7 सौ 30 लाख का व्यवसाय करने के बाद भी 5 साल बाद मात्र 2% की बढ़ोतरी से व्यथित है। उन्होंने इसका जिम्मेदार सरकार की पॉलिसी दोषी हैं को ठहराया। साथ ही ग्राहकों से अपने बैंकिंग कार्य 30 मई के पूर्व निष्पादित कर हड़ताल को समर्थन देने की अपील की। 
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772