रायपुर /छत्तीसगढ़ राज्य के भीतर होने वाले माल के परिवहन के लिए ई-वे बिल प्रणाली आगामी एक जून 2018 से लागू होने जा रही है। वाणिज्यिक कर विभाग द्वारा इस प्रणाली से व्यवसायी और परिवहनकर्ताओं को परिचत कराने के लिए आगामी 8 एवं 9 मई को विभाग के संभागीय कार्यालयों एवं 11 से 20 मई तक विकासखंड स्तर पर प्रशिक्षण का आयोजन किया जा रहा है। इस संबंध में सभी व्यवसायी संगठनों एवं ट्रांसपोर्टरों से ई-वे बिल प्रणाली की वेबसाइट में (ewaybillgst.gov.in) पंजीयन कराने की अपील की गई है।
       

उपायुक्त (वाणिज्यिक कर) विभाग से मिली जानकारी के अनुसार ई-वे बिल प्रणाली के तहत 50 हजार रूपए से अधिक मूल्य के कर योग्य मालों के ऐसे संचलन जिसका प्रारंभ एवं समापन छत्तीसगढ़ राज्य के भीतर होता है, उनके संचलन के लिए माल के कर बीजक या डिलवरी चालान के साथ ई-वे बिल (भौतिक/इलेक्ट्रानिक रूप में) रखना जरूरी होगा। अधिकारियों ने बताया कि अंतर्राज्यीय संचलन में ई-वे बिल के प्रावधानों से व्यवसायियों तथा परिवहनकर्ताओं को परिचित कराने के लिए वाणिज्य कर विभाग द्वारा प्रशिक्षण आयोजित किए जा रहे हैं। वाणिज्यिक कर विभाग के संभागीय कार्यालयों में 8 एवं 9 मई को प्रशिक्षण आयोजित किया जाएगा। इसी प्रकार विकासखंड स्तर पर व्यावसायियों को ई-वे बिल प्रणाली से जोड़ने के लिए प्रशिक्षण एवं पंजीयन शिविर 11 मई से 20 मई तक आयोजित किया जाएगा।