शहर में भारी वाहनों की नो-एंट्री, कलेक्टर ने जारी किए निर्देश….

बिलासपुर। अब सुबह 5 से रात 11 बजे तक भारी वाहनों को शहर में प्रतिबंधित कर दिया गया है. इन वाहनों में कैप्सूल, ट्रेलर, कोयला परिवहन वाहन जैसे भारी वाहनों का बिलासपुर नगर निगम की सीमा में प्रवेश पूर्ण रूप से प्रतिबंधित किया गया है, कलेक्टर के आदेश के पश्चात तत्काल प्रभाव से इसे लागु कर दिया गया है.
इस संदर्भ में कलेक्टर श्री पी. दयानंद ने बिलासपुर शहर के भीतर भारी वाहनों के प्रवेश पर प्रतिबंध करने के निर्देश जारी किए हैं. इस अवधि में आवश्यक वस्तु जैसे पीडीएस, सब्जी, फल, दूध, गैस सिलेण्डर, डीजल-पेट्रोल एवं सार्वजनिक वितरण प्रणाली के आवश्यक वस्तुओं के वितरण में लगे वाहनों को सुबह 11 बजे से दोपहर 3 बजे तक शहर में प्रवेश की अतिरिक्त अनुमति दी गई है.
बता दें कि महाराणा प्रताप चौक पर फ्लाई ओवर निर्माण में लगे वाहनों को डीपीएस स्कूल से जेपी वर्मा काॅलेज तक शहर में प्रवेश की अनुमति मुख्य अभियंता, नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग रायपुर द्वारा मांगी गई है.
इस सम्बंध में भी शासकीय निर्माण कार्य को जनहित के समयानुसार पूर्ण करने की दृष्टि से उक्त वाहनों को सुबह 9 बजकर 45 से 10 बजकर 45 तक एवं शाम 5 से शाम 6 बजे तक अवधि में प्रवेश की अनुमति दी गई है. इसके लिए अनुमति पत्र की प्रति संबंधित वाहनों की विंड स्क्रीन पर चस्पा करना अनिवार्य होगा. साथ ही वाहन का उपयोग शासकीय कार्य के लिए किए जाने का उल्लेख करना होगा.
ब्रेकिंग
बिलासपुर: प्रदेश का सबसे बड़ा पत्रकार संघ "सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़" के प्रतिनिधि मंडल से दूसरी बार... बिलासपुर: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, प्रभारी मंत्री जय सिंह अग्रवाल, कमिश्नर संजय अलंग, सांसद अरुण साव,... बिलासपुर: ताइक्वांडो नेशनल रैफरी सेमिनार एवँ Award का हुआ समापन बिलासपुर: कौन है यह विक्रम..? -अंकित बिलासपुर: भाजयुमो ने किया बिजली ऑफिस का घेराव बिलासपुर: शहीद की माता को पेंशन दिलाने महिला आयोग मुख्य सचिव और डीजीपी को लिखेगा पत्र बिलासपुर: यदुनंदन नगर में महिला के घर घुसा एक युवक, जानिए उसके बाद क्या हुआ, देखिए VIDEO बिलासपुर: अधिवक्ता प्रकाश सिंह की शिकायत पर एडिशनल कलेक्टर कुरुवंशी ने जाँच के बाद दुष्यंत कोशले और ... बिलासपुर: सारनाथ एक्सप्रेस दिसंबर से फरवरी तक 38 दिन रद्द, यात्रियों की बढ़ेगी मुश्किलें बिलासपुर: भाजपा-कांग्रेस के नेता नूरा-कुश्ती के तहत आदिवासी को ही चाहते हैं निपटाना: नेताम
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772