ब्रेकिंग
बिलासपुर: पुलिस अधिकारियों के अपराधियों से हैं अच्छे संबंध, जानिए इस सवाल पर क्या बोले नए एसपी संतोष बिलासपुर: एकता और सदभावना का संदेश लेकर चल रही है हाथ से हाथ जोड़ो यात्रा- लक्ष्मीनाथ साहू बिलासपुर में दो दिवसीय अखिल भारतीय नृत्य-संगीत समारोह विरासत 4 फरवरी से 30 जनवरी को दो मिनट के लिए ठहर जाएगा बिलासपुर, जानिए क्यों… बिलासपुर: इस प्रकरण ने SSP पारूल माथुर के सूचना तंत्र की खोली पोल तिफरा ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष लक्ष्मीनाथ साहू के नेतृत्व में निकली हाथ से हाथ जोड़ो यात्रा बिलासपुर के नए एसपी होंगे संतोष कुमार सिंह बिलासपुर: आखिर क्यों चर्चा में है तखतपुर तहसीलदार शशांक शेखर शुक्ला? बिलासपुर: इस बार कोटा SDM हरिओम द्विवेदी सुर्खियों में आए पामगढ़: अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त नृत्यांगना वासंती वैष्णव एवँ सुनील वैष्णव के निर्देशन में 26 जनव...

जेल में ईंट, कैदियों की सुरक्षा पर सवाल ?

 

  बिलासपुर /एक कहावत हमने बचपन से सुन रखी है, कि जेल के भीतर परिंदा भी पर् नहीं मार सकता। लेकिन ये कहावत महज एक जुमला साबित हो रही है, केन्द्रीय जेल बिलासपुर के लिये,जहां सुरक्षा दावों के बीच जेल के भीतर बंद हजारों कैदियों की सुरक्षा में लगे जेल प्रबंधन के सामनें ही एक कैदी ने दुसरे कैदी पर गमझे में बांध रखे ईंट से प्राणघातक हमला कर दिया। ऐसे में सवाल उठना लाजमी है कि आखिरकार जेल के भीतर ईंट आई कहां से? वहीं हमलें में ईंट का प्रयोग किया जाना जेल प्रबंधन द्वारा जेल में सुरक्षा के मानको का पालन कराने में की गई गंभीर चूक का नतीजा माना जा रहा है। 

पुलिस और जेल सूत्रों की माने तो प्राणघातक हमले का आरोपी कैदी अशोक घीवर किसी तांत्रिक क्रिया के दौरान नरबली हत्या मामले के आरोप में उम्र कैद की सजा काट रहा है, वहीं मोहन नामक कैदी जो जेल पुजारी के नाम से जाना जाता है भी अपनी पत्नी की हत्या के आरोप में उम्र कैद की सजा काट रहा था जेल बैरक में खाना खाने के दौरान कैदी अशोक ने कैदी मोहन पर गमझे में बांध रखे ईट से कैदी पर पीछे से प्राण घातक हमला किया। जिससे कैदी का सर फट गया और वह बेहोश गया आस पास के कैदी कुछ समझ पाते उससे पहले ही बेहोश कैदी पर आरोपी कैदी ने चेहरे पर ताबड़तोड़ हमला कर दिया। कैदियों ने बीच बचाव कर कैदी को जेल से तत्काल उपचार हेतु सिम्स रवाना किया गया जानकारी के अनुसार कैदी की गंभीर हालत को देखते हुए उसे अपोलो रिफर कर दिया गया है जहां कल शाम उसके आपरेशन किये जाने की जानकारी सामने आई है।

 सूत्रों की माने तो अजीवन कारावास की सजा भोग रहे ईंट के हमले के आरोपी कैदी को, अब जेल प्रबंधन मानसिक रोगी बता, खूद को बचाने का कुप्रयास कर रहा है। इस प्रयास में जेल प्रबंधन कितना सफल होता है ये तो निपष्क्ष जांच के बाद ही पता चल पायेगा।

बहरहाल केन्द्रीय जेल में हाल ही में किये गये जिला प्रशासन की रुटीन जांच के बाद ,हुए इस घटना ने जेल सुरक्षा पर कई ज्वलंत सवाल खड़े कर दिये हैं, ऐसें में जेल के भीतर एक हत्या की सजा काट रहे कैदी के पास प्राण घातक हमले के लिये ईंट का पाया जाना भी जेल प्रबंधन की सुरक्षा दावों की पोल खोलता नजर आता है। 

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772