आबकारी निरीक्षक बना मानवता का पुजारी…..

बिलासपुर। मामला यह है कि कुछ दिन पूर्व एक आबकारी निरीक्षक ने शराब दुकान में कुछ ही दिन पहले काम पर लगे एक कर्मचारी को थप्पड़ मार दिया था, इसके कारण उसके एक कान का पर्दा फट गया और दूसरे कान का पर्दा 20 प्रतिशत तक प्रभावित हो गया, जिससे उसे सुनने में कठिनाई हो रही है, इसकी रिपोर्ट लगातार न्यूज़ हब इनसाइट की टीम प्रकाश में लाया, इसके बाद  निरीक्षक पीड़ित का इलाज करवाने तैयार हो गया है, पूरी घटना शराब दुकान में लगे सीसी टीवी में कैद हो गई थी, मामले की रिपोर्ट पीड़ित  ने सिरगिट्टी  थानें में दर्ज करा दी है इसकी जांच भी पुलिस ने शुरू कर दी है। जांच के डर और विभागीय कार्रवाई के भय में आबकारी निरीक्षक की मानवता फुट पड़ी है।
आबकारी निरीक्षक अनिल मित्तल मानवता दिखाते हुए पीड़ित का उपचार कराने के लिए तैयार हो गया है, वहीं इस घटना के बाद में उसने पीड़ित के साथ मारपीट किए जाने जैसी घटना से साफ तौर से साफ इंकार किया था और शराब दुकान के सीसी टीवी फुटेज में कैद घटना की विडियो को झुठलाते हुए अपने खिलाफ षड्यंत्र बताया था। ऐसे में सवाल उठना लाजमी है की आबकारी का एक छोटा सा निरीक्षक के खिलाफ आखिरकार एक प्राईवेट नौकरी करने वाला कर्मचारी झुठा आरोप क्यों लगाएगा.?
वहीं पीड़ित का आरोप है कि अधिकारी बार-बार उससे थाने से शिकायत वापस लेने लिखित राजीनामा पत्र थाना में जमा करने का दबाव बना रहे है। जबकि पीडित का कहना है कि अधिकारी पहले मेरा उपचार करा दें मैं ठीक हो जाउं फिर थानें से शिकायत वापस ले ली जायेगी।
इससे साफ जाहिर हो रहा कि निरीक्षक की करतूत से पीड़ित भी अच्छी तरह वाकिफ़ है कि अभी अधिकारी अपने आपको बचाने के लिये मानवता का चोला ओढ़  रहा है, उसे डर है कि शिकायत वापस लेते ही बदल गया तो मेरा क्या होगा। ऐसे में भी एक बार फिर सवाल का उठना लाजमी है कि आखिरकार जब पीड़ित के साथ मारपीट जैसी कोई घटना कारित ही नही हुई तो आबकारी निरीक्षक उसका ईलाज अपोलों अस्पताल में क्यों करा रहे है।
पूरे घटनाक्रम में अगर पैनी नजर डाली जाए तो आपसी साठगांठ का संदेह होता है कि सबकी मिलीभगत से ही ऐसा हो रहा है, घटना के बाद पीड़ित जब शिकायत दर्ज कराने थाना गया तो वहां से उसे इधर-उधर के नियमों का हवाला देकर घुमाया गया। उसके बाद हॉस्पिटल की मुलाहिजा की रिपोर्ट को भी झूठा बता दिया गया। साथ ही बार-बार आरोपी से पीड़ित को समझौता करने पर दबाव बना रहे हैं।
बहरहाल अब देखना ये होगा कि आखिर इस मामले में जिम्मेदार अधिकारियों द्वारा क्या कार्रवाई की जाती है, क्या पीड़ित विजय अनंत को इंसाफ मिलेगा, क्या अनिल मित्तल को उसके किए की सजा मिलेगी या ऐसा भी हो सकता है कि पीड़ित द्वारा इलाज कराने के पहले यदि शिकायत वापस ले लिया गया तो  आबकारी निरीक्षक उसका इलाज कराने के पहले ही मुकर जाए…?
ब्रेकिंग
बिलासपुर: यदुनंदन नगर में महिला के घर घुसा एक युवक, जानिए उसके बाद क्या हुआ, देखिए VIDEO बिलासपुर: अधिवक्ता प्रकाश सिंह की शिकायत पर एडिशनल कलेक्टर कुरुवंशी ने जाँच के बाद दुष्यंत कोशले और ... बिलासपुर: सारनाथ एक्सप्रेस दिसंबर से फरवरी तक 38 दिन रद्द, यात्रियों की बढ़ेगी मुश्किलें बिलासपुर: भाजपा-कांग्रेस के नेता नूरा-कुश्ती के तहत आदिवासी को ही चाहते हैं निपटाना: नेताम बिलासपुर: खमतराई की खसरा नंबर 561/21 एवँ 561/22 में से सैय्यद अब्बास अली, मो.अखलाख खान, शबीर अहमद, त... बिलासपुर: पति की अनुपस्थिति में दीनदयाल कॉलोनी निवासी लक्की खान ने पत्नी के साथ कर दी अश्लील हरकत, ज... बिलासपुर: मुख्यमंत्री जी! इन मामलों की जाँच अपने निगरानी में करवाइए, तभी इसमें संलिप्त जमीन दलालों क... बिलासपुर: बड़ी संख्या के साथ संघ ने निकाला पथ संचलन, जय श्री राम के जयघोष से गूंज उठा बुधवारी फुटबॉल... बिलासपुर: मुख्यमंत्री जी! शासन की छवि खराब करने वाले पी दासरथी और विकास तिवारी पर मेहरबान रहने वाले ... बिलासपुर: ठगी के आरोपी विशाल संतोष सिंह, संतोष सियाराम सिंह और नूतन संतोष सिंह को गिरफ्तार करने में ...
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772