ब्रेकिंग
बिलासपुर: पुलिस अधिकारियों के अपराधियों से हैं अच्छे संबंध, जानिए इस सवाल पर क्या बोले नए एसपी संतोष बिलासपुर: एकता और सदभावना का संदेश लेकर चल रही है हाथ से हाथ जोड़ो यात्रा- लक्ष्मीनाथ साहू बिलासपुर में दो दिवसीय अखिल भारतीय नृत्य-संगीत समारोह विरासत 4 फरवरी से 30 जनवरी को दो मिनट के लिए ठहर जाएगा बिलासपुर, जानिए क्यों… बिलासपुर: इस प्रकरण ने SSP पारूल माथुर के सूचना तंत्र की खोली पोल तिफरा ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष लक्ष्मीनाथ साहू के नेतृत्व में निकली हाथ से हाथ जोड़ो यात्रा बिलासपुर के नए एसपी होंगे संतोष कुमार सिंह बिलासपुर: आखिर क्यों चर्चा में है तखतपुर तहसीलदार शशांक शेखर शुक्ला? बिलासपुर: इस बार कोटा SDM हरिओम द्विवेदी सुर्खियों में आए पामगढ़: अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त नृत्यांगना वासंती वैष्णव एवँ सुनील वैष्णव के निर्देशन में 26 जनव...

कृषि वैज्ञानिक की अग्रिम जमानत याचिका स्वीकृत…..

बिलासपुर। नौकरी लगाने के नाम पर धोखाधड़ी की आरोपी कृषि विज्ञान केंद्र की वैज्ञानिक ने अग्रिम जमानत याचिका उच्च न्यायालय में पेश की थी, जिस पर उच्च न्यायालय द्वारा याचिका स्वीकृत करने का फैसला लिया गया है, इस फैसले से पूर्व में भी उच्च न्यायालय द्वारा एक प्रकरण में आरोपी को अग्रिम जमानत दी गई थी।

इस मामले के शिकायतकर्ता दीपेश शुक्ला और सविता साहू समेत अन्य ने आरोप लगाया था कि कृषि विज्ञान केंद्र में वैज्ञानिक के पद पर कार्यरत शिल्पा कौशिक ने नौकरी लगाने के नाम पर ठगी का आरोप लगाया था, उन्होंने कृषि केंद्र वैज्ञानिक के खिलाफ चकरभाठा थाने में इसकी शिकायत दर्ज कराई थी, इसके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अग्रिम जमानत आवेदन पेश किए गए थे, जस्टिस अरुण मिश्रा और जस्टिस उदय उमेश ललित की डीबी ने दर्ज प्रकरण में 2012- 13 में लेंन देंन होना बताया है जबकि इसकी रिपोर्ट 2017 में दर्ज कराई गई है, आवेदक को अग्रिम जमानत का लाभ प्रदान करने के आदेश उच्च न्यायालय ने जारी किए हैं, ज्ञातव्य है कि चीफ जस्टिस हाई कोर्ट ने पूर्व में एक प्रकरण में अग्रिम जमानत प्रदान की है।

शिकायतकर्ताओं ने जो आरोप कृषि केंद्र की वैज्ञानिक शिल्पा कौशिक पर लगाए थे, उसके मजबूत साक्ष्य अब तक नहीं मिल सके हैं। उच्च न्यायालय में भी अबतक इस मसले से सम्बंधित किसी भी प्रकार का ऐसा साक्ष्य सामने नहीं आया है जो मामले के आरोप को बल दे, बहरहाल उच्च न्यायालय ने शिल्पा कौशिक की जमानत याचिका को स्वीकृति दे दी है।

कोर्ट के निर्णय पर पीड़ित के पिता ने कहा की यह मामला वर्षों पुराना है जिसे उच्च न्यायालय द्वारा गम्भीरता से लेते हुए जमानत देने का फैसला लिया गया है। उनके पूरे परिवार ने उच्च न्यायालय के इस आदेश के बाद राहत की सांस ली है, पीड़ित के पिता ने कहा की उनके खिलाफ झूठे आरोप लगाकर उन्हें फंसाने की साजिश की जा रही है, सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट में जमानत मिलने से उन सब को बड़ा झटका लगा है, जिन्होंने कृषि वैज्ञानिक शिल्पा कौशिक को फंसाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़े थे, न्यायालय का यह निर्णय उन सब के गाल पर करारा तमाचा है जिन्होंने उनके खिलाफ साजिश की थी।

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772