ब्रेकिंग
बिलासपुर: इस प्रकरण ने SSP पारूल माथुर के सूचना तंत्र की खोली पोल तिफरा ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष लक्ष्मीनाथ साहू के नेतृत्व में निकली हाथ से हाथ जोड़ो यात्रा बिलासपुर के नए एसपी होंगे संतोष कुमार सिंह बिलासपुर: आखिर क्यों चर्चा में है तखतपुर तहसीलदार शशांक शेखर शुक्ला? बिलासपुर: इस बार कोटा SDM हरिओम द्विवेदी सुर्खियों में आए पामगढ़: अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त नृत्यांगना वासंती वैष्णव एवँ सुनील वैष्णव के निर्देशन में 26 जनव... बिलासपुर: जाँच के दौरान कार में मिली 22 किलो 800 ग्राम कच्ची चाँदी, व्यापारी के द्वारा पेश किया गया ... बिलासपुर: सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़ के पदाधिकारियों ने मंत्री जयसिंह अग्रवाल को दिया नववर्ष मिलन सम... बिलासपुर: पत्रकार शाहनवाज की सड़क हादसे में मौत, सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़ ने शोक व्यक्त कर दी श्रद्... बिलासपुर: रतनपुर थाना क्षेत्र में कार में 3 जिंदा जले, पेड़ से टकराने के बाद कार में लगी आग, अंदर ही ...

संसदीय सचिवों को पूर्व में मिली सुविधाओं की होनी चाहिए रिकवरी : मनीशंकर…..

बिलासपुर। संसदीय सचिव पर उच्च न्यायालय के फैसले पर जोगी जनता कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता मनीशंकर पांडे ने एक प्रेस नोट जारी किया है, इस प्रेस नोट में हाइकोर्ट के फैसले पर संसदीय सचिव की नियुक्ति में पदस्थ सचिव को पद लाभ ना दिए जाने की बात कही गयी है।
इस सम्बंध में मनीशंकर ने संदेह जारी करते हुए कहा कि 13 अप्रैल को हुए उच्च न्यायालय के आदेश के बाद रमन सिंह सरकार और संसदीय सचिवों को पूर्व में दिए गए, लाभ व सुविधा देने में खर्च की गई राशियों को क्या वसूल करेगी?
उन्होंने आगे कहा उच्च न्यायालय ने कहा कि संसदीय सचिवों की नियुक्ति सही है, पर उन्हें लाभ नहीं दिया जा सकता उन्होंने बताया कि पहले भी उच्च न्यायालय ने उनकी सारी सुविधाओं और लाभ पर रोक लगा रखी थी। इस तरह से उन्हें लाभ से वंचित किया गया है पर संसदीय सचिव के पद पर बने रहेंगे, इस से साफ जाहिर हो गया कि उच्च न्यायालय ने उन्हें दिए जाने वाले सुविधाओं को लाभ का माना है इस तरह जब से विधायक संसदीय सचिव बने हैं, तब से शासन से लाभ ले रहे हैं देखने वाली बात यह कि पूर्व मे लिए सुविधाओं व लाभ की वसूली क्या रमन सरकार अब करेगी यह प्रश्न मनीशंकर ने सचिवों से किया है?
प्रेस विज्ञप्ति जारी करते हुए जनता कांग्रेस जे के प्रदेश प्रवक्ता मनीशंकर पांडे ने रमन सरकार से मांग की है कि उच्च न्यायालय के आदेश को देखते हुए संसदीय सचिवों को पूर्व में दिए गए सारी सुविधा तत्काल वापस लेनी चाहिए, और पूर्व में दिए सुविधा के लाभ की आज तक की पूरी रिकवरी वसूली सचिवों से करनी चाहिए ।
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772