ब्रेकिंग
बिलासपुर: इस प्रकरण ने SSP पारूल माथुर के सूचना तंत्र की खोली पोल तिफरा ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष लक्ष्मीनाथ साहू के नेतृत्व में निकली हाथ से हाथ जोड़ो यात्रा बिलासपुर के नए एसपी होंगे संतोष कुमार सिंह बिलासपुर: आखिर क्यों चर्चा में है तखतपुर तहसीलदार शशांक शेखर शुक्ला? बिलासपुर: इस बार कोटा SDM हरिओम द्विवेदी सुर्खियों में आए पामगढ़: अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त नृत्यांगना वासंती वैष्णव एवँ सुनील वैष्णव के निर्देशन में 26 जनव... बिलासपुर: जाँच के दौरान कार में मिली 22 किलो 800 ग्राम कच्ची चाँदी, व्यापारी के द्वारा पेश किया गया ... बिलासपुर: सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़ के पदाधिकारियों ने मंत्री जयसिंह अग्रवाल को दिया नववर्ष मिलन सम... बिलासपुर: पत्रकार शाहनवाज की सड़क हादसे में मौत, सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़ ने शोक व्यक्त कर दी श्रद्... बिलासपुर: रतनपुर थाना क्षेत्र में कार में 3 जिंदा जले, पेड़ से टकराने के बाद कार में लगी आग, अंदर ही ...

भाजपा मण्डल अध्यक्ष पर इंदिरा आवास की राशि गबन किये जाने का आदिवासियों ने लगाया आरोप….

बिलासपुर : भाजपा सरकार के मण्डल अध्यक्ष पर राष्ट्रपति के दत्तक पुत्रों के नाम पर स्वीकृत इंदिरा आवास योजना की राशि हड़प किये जाने का हितग्रहियों नें गम्भीर आरोप लगाया गया है, इसकी शिकायत उन्होंने जिम्मेदार अधिकारियों से की है।
न्यायधानी बिलासपुर के जनपद पंचायत कोटा अंतर्गत ग्राम पंचायत खोंगसरा में निवासरत बैगा आदिवासियों के नाम वर्ष 2013-14 में 22 इंदिरा आवास स्वीकृत किया गया था, किंतु तत्कालीन महिला सरपंच कलेशिया बाई खुसरो के पति शिवमान सिंह खुसरो जो वर्तमान में भारतीय जनता पार्टी से बेलगहना मंडल अध्यक्ष के पद पर हैं, आदिवासियों ने उनपर उनके आवास पूर्ण न कराए जाने और आवास के पैसों को गबन करने का आरोप लगाया है।
हितग्राहियों ने बताया कि बैगा आदिवासियों के नाम स्वीकृति इंदिरा आवास की राशि आवास बना कर देने के नाम पर हड़प ली गई है, उन्होंने सरपंच पति पर भरोसा किया किंतु आवास नही बना। उन्होंने बताया कि मंडल अध्यक्ष ने शिकायत किये जाने पर उन्हें जान से मारने की धमकी दी है, आज भी उनके आवास टूटे-फूटे आधे-अधूरे हैं, संविधान में संरक्षित बैगा आदिवासियों ने इस मसले पर अपने अधूरे आशियाने को प्रशासन द्वारा पूरा कराये जाने का इंतजाम किए जाने की गुहार लगाई है, उन्होंने बताया कि जिम्मेदार अधिकारी भी पूरी तरह निश्चिन्त हैं, उनके द्वारा किसी भी प्रकार की कार्रवाई नहीं की जा रही है।
मसलन उनके बताए अनुसार यह कहा जा सकता है कि संविधान में संरक्षित बैगा जाति को विशेष जनजाति का दर्जा प्राप्त है इनकी जाति विलुप्त हो रही है, उन्हें संरक्षित करने और उनके कल्याण और उन्नति की योजना का लाभ दिलाने सरकार ही जवाबदार है, तो फिर जिला और जनपद अधिकारियों ने संरक्षित बैगा आदिवासियों को योजना का लाभ दिलाने कोई ठोस कदम क्यों नही उठाया, यह सबसे बड़ा सवाल है।
ऐसी घटना बताती है की बैगा आदिवासियों के कल्याण और उन्नति के लिए बनी योजना का लाभ दिलाने जिला प्रशासन पूरी तरह नाकाम है, ऐसे में सबका साथ, सबका विकास का नारा बुलंद करने वाली भाजपा सरकार के दावों पर भी प्रश्नचिन्ह है…?
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772