ब्रेकिंग
बिलासपुर: पावर लिफ्टर निसार अहमद एवं अख्तर खान रविंद्र सिंह के हाथों हुए सम्मानित बिलासपुर: भाजपा पार्षद दल ने पुलिस ग्राउण्ड में जिला प्रशासन से रावण दहन की मांगी अनुमति बिलासपुर तहसीलदार अतुल वैष्णव का सक्ति और ऋचा सिंह का रायगढ़ हुआ ट्रांसफर बिलासपुर: आरोपी अमित भारते, जितेंद्र मिश्रा और संदीप मिश्रा को नहीं पकड़ पा रही है SSP पारूल माथुर की... बिलासपुर: कलेक्टर सौरभ कुमार ने सरकार हित में सरकारी जमीन बचाने वाले अधिवक्ता प्रकाश सिंह के साथ किय... बिलासपुर: उस्लापुर के रॉयल पार्क में नजर आएगी गरबा की धूम, थिरकने के लिए तैयार हैं शहरवासी बिलासपुर: कार्य की धीमी गति पर कंपनी के साथ जिम्मेदार अधिकारियों पर भी की जानी चाहिए थी कार्यवाही, स... बिलासपुर: महादेव और रेड्डी अन्ना बुक के सटोरियों पर पुलिस की बड़ी कार्यवाही बिलासपुर: जूनी लाइन स्थित सुरुचि रेस्टोरेंट के पास रहने वाले कृष्ण कुमार वर्मा के बड़े बेटे श्रीकांत ... बिलासपुर में UP65/ EC- 4488 नँबर की कार से जब्त हुए 5 लाख नकद

बिलासपुर: इन तस्वीरों को देखकर लगता है कि कलेक्टर सौरभ कुमार और एसडीएम तुलाराम भारद्वाज ने इन नेताओं को व्यवस्था बिगाड़ने की दी खुली छूट

बिलासपुर। मिली जानकारी के अनुसार, छत्तीसगढ़ प्रदेश भारतीय जनता युवा मोर्चा के आव्हान पर जिला भारतीय जनता युवा मोर्चा बिलासपुर द्वारा 18 अगस्त गुरूवार को प्रातः 11 बजे नेहरू चौक में बेरोजगारों को रोजगार देने, बेरोजगारी भत्ता देने आदि की मांग को लेकर धरना प्रदर्शन किया.

यहाँ तक तो ठीक है, विपक्ष में बैठे हैं तो सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर सकते हैं, पर इस तरह के विरोध प्रदर्शन से जनता परेशान हो और सरकारी रूल की अवहेलना हो तो जनता के बीच में आक्रोश पनपना लाज़मी है.

आपको बता दें कि जिले में किसी भी तरह का भी कोई आयोजन करना है तो उसके लिए एक सरकारी प्रक्रिया बनी है. आयोजनकर्ता उसी के तहत शासन के द्वारा बनाए गए एक फ़ॉर्मेट को फुलफिल करके संबंधित क्षेत्र के एसडीएम को देता है. उसके बाद एसडीएम क्षेत्र की व्यवस्था को देखकर शर्तों के साथ अनुमति प्रदान करता है.

 

अब आप लोग सोच रहे होंगे कि जब इस तरह के नियम बने हैं तो फिर राजनीति से जुड़े समझदार नेता केवल सूचना देकर अपना आयोजन संपन्न कर लेते हैं और उन पर किसी तरह की कोई कार्यवाही एसडीएम के द्वारा नहीं की जाती है, तो आपको इन प्रश्नों का ठोस जवाब इन अधिकारियों के पास नहीं मिलेगा; क्योंकि ये अपनी कमजोरियों को छिपाते हुए तथ्यहीन जवाब देते हैं.

आज जिस स्थान पर युवा मोर्चा ने सभा का आयोजन किया था, वहाँ एक बस स्टॉप और फ़ूड शॉप है, जो सभा में लगे टेंट से ढक गया था. इससे उन यात्रियों को भी परेशानी हुई जो इस बस स्टॉप में बैठकर अपनी-अपनी बसों का इंतजार करते हैं और साथ ही अन्य दिनों की अपेक्षा फ़ूड संचालक की बिक्री भी कम रही.

आज के सभा स्थल में बिना अनुमति के लगे टेंट को देखकर ऐसा लग रहा था कि कलेक्टर सौरभ कुमार और एसडीएम तुलाराम भारद्वाज इन लोगों के सामने पावर लेस हो गए हैं, तभी तो इन जैसे नेताओं के हौसले बुलंद रहते हैं. जिसका जीता जागता उदाहरण ये तस्वीरें हैं.

इसके लिए पूर्णरूप से कलेक्टर और एसडीएम जिम्मेदार हैं. इसे भूपेश सरकार को गंभीरता से लेना चाहिए, तभी व्यवस्था सुधरेगी और आम जनता को परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ेगा.

भाजयुमो के द्वारा कलेक्टर कार्यालय घेराव की सूचना शासन के द्वारा बनाए गए फार्मेट में नहीं दी गई है. 

………तुलाराम भारद्वाज (बिलासपुर एसडीएम)

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772