जानिए क्या-क्या खूबियां हैं, बिलासपुर जोन के मुख्यालय में कैसे इसे बनाया गया…

बिलासपुर। वर्ष 1998 में रेल मंत्रालय द्वारा 07 नये रेलवे जोन सृजन करने की घोषणा की गई उनमें दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे बिलासपुर भी एक था। इस नये जोन का उद्घाटन तत्कालीन प्रधानमंत्री  अटल बिहारी बाजपेयी के द्वारा किया गया था।बिलासपुर इसके पहले मंडल का मुख्यालय हुआ करता था और जोनल मुख्यालय का संचालन करने के लिए बहुत कम आधारभूत संरचनाएं उपलब्ध थी, इस स्थिति में नये जोन का कार्य प्रारंभ करने के लिए वर्तमान भवन में ही थोड़ा बहुत बदलाव करके काम जारी रखा गया । दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के नए प्रशासनिक भवन का निर्माण सभी जरूरी सुविधाओं को ध्यान में रखकर करना अनिर्वाय था, लिहाज़ा इस प्रकार सुविधाओं को आकार प्रदान करने व वास्तु से संबंधी कार्य को पूरा करने के लिए एक प्रतिष्ठित सलाहकार एवं वास्तुविद को यह कार्य सौंपा गया था, जो स्थाननीय वास्तुविद एवं अधिकारियों द्वारा स्थानीय रूप से विकसित अनेक योजनाओं व विचारधाराओं को समाहित कर सके, जिसके कारण जोनल इंफ्रास्ट्रक्चर काम्प्लेक्स बेहतर तरीके से बना है, यह बिलासपुर शहर की एक पहचान बन गया है।
सर्वसुविधायुक्त व भूकंपरोधी है द्पुमरे का जोनल मुख्यालय
सभी सुविधाओं को ध्यान में रखकर इस जोनल मुख्यालय भवन को बनाया गया है, यह भूकंप रोधी है जो बेसमेट सहित 6 मंजिल का है, इसके नींव में आरसीसी फ्रेम्डा स्ट्रक्चर वाले थ्रू राफ्ट स्लैब का उपयोग किया गया है, इस थ्रू राफ्ट स्लैब के होने से चिकनी मिट्टी पर पड़ने वाले एक साथ अत्यधिक लोड के फैलाव से डिफ्रेंसियल सेटलमेंट की जोखिम कम हो जाता है। 30 मीटर ऊंचे भवन की बाहरी पेंटिंग रिनोवो प्लास्टर से किया गया है, जो एक टिकाऊ तथा वाटर रिपेलेंट प्रापर्टी वाले आधुनिक भवन सामग्री है।
इस पेंटिंग की लाइफ लगभग 12.15 वर्ष की है जो इस भवन को आकर्षक लुक प्रदान करती है। प्राकृतिक प्रकाश एवं वेंटिलेशन को बढ़ाने के लिए भवन के ब्लॉकों में अलग.अलग ऊंचाईयों में वेंटिलेशन की व्यस्था की गई है। भवन के कुछ हिस्सोंं में पर्याप्त प्राकृतिक प्रकाश के लिए ग्लानस ब्रिक्स का उपयोग किया गया है, इससे अधिकाधिक बिजली ऊर्जा की बचत हुई तथा कार्यालय परिसर में एक सुखद कार्य स्थल का अनुभव होता है ।
भवन का इंटीरियर डिजाइन का कार्य भी नवीनतम भवन उपकरणों व सामग्रियों के साथ बखूबी जांच परख कर किया गया है। भवन स्थित सभी चेंबरों एवं हाल में बतौर फ्लोरिंग उच्च गुणवत्ता वाले विट्रीफाइड टाइल्स का इस्तेमाल किया गया है साथ ही कॉरिडोर एवं पैसेज को स्मूथ एवं ग्ले जी फिनिशिंग के लिए प्रदान करने के लिए मिरर पॉलिशयुक्त कोटा स्टोकन टाइल्स लगाया गया है।फ्लोरिंग की सुंदरता को बढ़ाने के लिए ऑयल बाउंड डिस्टेंपर से इंटीरियर पेंटिंग की गई है, भवन की सुंदरता बढ़ाने के लिए पूरे भवन में पर्फोरेटेड फाल्स एल्युेमिनियम सिलिंग लगाया गया है भित्ति चित्र एवं पेंटिंग स्थापनीय एवं अमूर्त कला ने भवन की सुंदरता को और बढ़ा दिया है। 
नया जोनल भवन के मुख्य प्रवेश द्वार का आंतरिक दृश्य
पारदर्शिता की अवधारणा को अपनाते हुए कार्य के अनुकूल का वातावरण तैयार करने के लिए सभी हाल में मॉड्यूलर फर्नीचर की व्यवस्था की गई है, इस भवन में लगभग 1000 कर्मचारियों की बैठने की व्यवस्था है, हाल के चारो ओर अधिकारियों के लिए 106 चेंबर बनाये गये हैं जिससे कर्मचारियों एवं अधिकारियों के बीच निकटता बनाए रखने के साथ-साथ समय की बचत भी होती है। 
जोनल मुख्यालय में 60 डेलीगेट्स की क्षमता वाला एक कॉफ्रेंस हाल बनाया गया है जो किसी भी उच्च स्तरीय सम्मेलन के लिए अपेक्षित होता है। इसके समान्तर ही एक कलात्म्क डायनिंग हाल भी बनाया गया है, सुंदर ढंग से सज्जित लंच रूम व अतिमहत्वभपूर्ण व्यक्तियों के साथ कोई भी उच्च स्तरीय बैठक कराने के लिए इसे डिजाइन किया गया है।
कांफ्रेस हॉल की दिवारों एवं टेबलों को मेलामाइन पॉलिश सहित वूडन वाल पैनलिंग किया गया है जो हॉल को भव्यता प्रदान करता है, इस हॉल में विशेष रूप से फाल्स सीलिंग किया गया है, 16 सीटों की क्षमता वाला एक छोटा सा हॉल भी यहां बनाया गया है। जिसे प्रकाश व्यवस्था की दृष्टि से सर्क्युलर सेंट्रल डोम सहित वूडन वाल पै‍नलिंग तथा मेलामाइन फिनिशिंग किया गया है। यह महाप्रबंधक के चेंबर से लगा हुआ है। दोनों कांफ्रेंस हॉल में विडियों कांफ्रेंसिंग की सुविधा है।
            
स्थानीय सम्मेलन के लिए बनाया गया है विशेष कक्ष
जोन मुख्यालय भवन परिसर में ही कर्मचारियों के लिए 105 स्क़वेयर मीटर के क्षेत्र में स्टाफ कैंटिन की व्यवस्था की गई है जिसमें स्टेहनलेस स्टील फर्नीचर की व्यवस्था है जहां कर्मचारियों के लिए सुब्सिडाइड भोजन की व्यवस्था की गई है, साथ ही साथ कैंपस में दुपहिया वाहन हेतु 816 स्वेयर मीटर के क्षेत्र में पार्किंग की व्यवस्था की गई है, 50 कारों की पार्किंग सुविधा हेतु वीवीआईपी एवं वीआईपी कार पार्किंग की व्यवस्था 420 स्क़वेयर फीट के एरिया में की गई है।
प्राकृतिक रहे वातावरण इसका रखा गया है विशेष ध्यान
भवन परिसर में बाग-बगीचों के रूप में हरियाली की व्यवस्था की गई है, कैंपस में मैक्सिकन ग्रास लैंडस्केबप, प्राकृतिक छटा प्रकृति के अनुकूल वातावरण तैयार किया गया है एवं रोड के किनारे हाई बॉटल पाम ट्री लगाये गए हैं। कर्मचारियों की सुरक्षा एवं सुविधा के लिए फायर फाइटिंग तथा लिफ्ट की व्यवस्था कराई गई है, बिलासपुर के अरपा नदी के उस पार से भी यह पांच तल का विशाल एवं भवन भव्य दिखाई देता है। 
ब्रेकिंग
बिलासपुर: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, प्रभारी मंत्री जय सिंह अग्रवाल, कमिश्नर संजय अलंग, सांसद अरुण साव,... बिलासपुर: ताइक्वांडो नेशनल रैफरी सेमिनार एवँ Award का हुआ समापन बिलासपुर: कौन है यह विक्रम..? -अंकित बिलासपुर: भाजयुमो ने किया बिजली ऑफिस का घेराव बिलासपुर: शहीद की माता को पेंशन दिलाने महिला आयोग मुख्य सचिव और डीजीपी को लिखेगा पत्र बिलासपुर: यदुनंदन नगर में महिला के घर घुसा एक युवक, जानिए उसके बाद क्या हुआ, देखिए VIDEO बिलासपुर: अधिवक्ता प्रकाश सिंह की शिकायत पर एडिशनल कलेक्टर कुरुवंशी ने जाँच के बाद दुष्यंत कोशले और ... बिलासपुर: सारनाथ एक्सप्रेस दिसंबर से फरवरी तक 38 दिन रद्द, यात्रियों की बढ़ेगी मुश्किलें बिलासपुर: भाजपा-कांग्रेस के नेता नूरा-कुश्ती के तहत आदिवासी को ही चाहते हैं निपटाना: नेताम बिलासपुर: खमतराई की खसरा नंबर 561/21 एवँ 561/22 में से सैय्यद अब्बास अली, मो.अखलाख खान, शबीर अहमद, त...
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772