ब्रेकिंग
बिलासपुर: नियमित योग अभ्यास करने से जीवन में होता है सकारात्मक बदलाव: रविन्द्र सिंह बिलासपुर: पुलिस अधिकारियों के अपराधियों से हैं अच्छे संबंध, जानिए इस सवाल पर क्या बोले नए एसपी संतोष बिलासपुर: एकता और सदभावना का संदेश लेकर चल रही है हाथ से हाथ जोड़ो यात्रा- लक्ष्मीनाथ साहू बिलासपुर में दो दिवसीय अखिल भारतीय नृत्य-संगीत समारोह विरासत 4 फरवरी से 30 जनवरी को दो मिनट के लिए ठहर जाएगा बिलासपुर, जानिए क्यों… बिलासपुर: इस प्रकरण ने SSP पारूल माथुर के सूचना तंत्र की खोली पोल तिफरा ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष लक्ष्मीनाथ साहू के नेतृत्व में निकली हाथ से हाथ जोड़ो यात्रा बिलासपुर के नए एसपी होंगे संतोष कुमार सिंह बिलासपुर: आखिर क्यों चर्चा में है तखतपुर तहसीलदार शशांक शेखर शुक्ला? बिलासपुर: इस बार कोटा SDM हरिओम द्विवेदी सुर्खियों में आए

यात्रा हो मंगलमय, इसलिए दपूमरे करती है ये जतन……

बिलासपुर। दक्षिण पूर्व मध्य रेल्वे अपनी गौरवशाली परंपरा के अनूरूप अपनी छवि को बनाये रखने के लिए हमेशा से ही संरक्षा को सर्वोच्च प्राथमिकता देते आई है, यहां संरक्षा के विषय पर समझौता या लापरवाही कभी बर्दास्त नही की जाती है । परिचालन ईंजीनियरिंग यांत्रिक संरक्षा सिग्नल एवं दूर संचार विभाग एवं विद्युत विभाग के सीधे ट्रेनों के परिचालान से जुड़े होने के कारण। ये विभाग निरंतर एक दूसरे से संपर्क मे रहते हैं ताकी नियम या निर्देशों का पालन करते हुए सुरक्षित एवं संरक्षित परिचालन सुनिश्चित की जा सके।इसके लिए हमारे रेलवे के रेल खण्डों से गुज़रते हुए ट्रेन के लोकोपाइलट, सहायक लोकोपाइलट एवं गार्ड, गेटमेन, पेंट्समेन, स्टेशन मास्टर आदि पर रात्री कालीन ड्यूटी करते समय विशेष निगरानी रखने की व्यवस्था के तहत गहन रूप से नाईट फुटप्लेट इन्स्पेक्सन की जाती है।इन बातों को ध्यान मे रखते हुये दक्षिण पूर्व मध्य रेल्वे से प्रत्येक रात लगभग 12 बजे से 4 बजे तक हर खंड से गुजरने वाली सभी गाड़ियों मे हर दिन एक अधिकारी लोको पाइलट, सहायक एवं लोको पाइलट एवं गार्डों के साथ एक निश्चित दूरी तक सफर भी करते हैं एवं रेल खण्डों पर जांच कर रहे होते है।इस दौरान अधिकारी द्वारा सम्बंधित गाडी पर एवं सेक्सन पर ड्यूटीरत लोको पाइलट, सहायक लोको पाइलट गार्ड, गेटमेन पाईंट्समेन स्टेशन मास्टर आदि समस्त कर्मचारियों की ड्यूटी के प्रति मुस्तैदी की जांच करते है और यह भी देखा जाता है कि वे सभी नियमानुसार एवं निर्देशानुसार कार्य को अंजाम दे रहे है की नहीं, अगर नहीं तो क्यों, इन सभी बातों की जाँच आधिकारी रात के समय लगभग 12 बजे से 4 बजे तक करता है और उनके साथ सफर करते हुये उनकी रिपोर्ट बनाता है एवं उच्चाधिकारियों को रिपोर्ट देता है।इन रिपोर्ट मे गाड़ी चालाते समय अगर किसी बात की परेशानी दिखाई दे जाती है तो तुरंत अधिकारी संबंधित कार्यालय मे संपर्क कर उस समस्या का निदान करता है व परेशानियों को भी दर्ज करते हुए दूर करवाता है।इसके साथ ही जाँच के दौरान गाडी परिचालन से जुड़े विभाग अपने से संबंधित औज़ारों, मशीनों प्रणालियों व नियमों आदि का सतत पालन हो यह भी सुनिश्चित करते है। तयशुदा मानकों व निर्देशों के अनुरूप कार्य हो रही है कि नहीं इस बात पर भी सतत निगरानी रखी जाती है ।बड़े से बड़ा मशीन व औजार हो या छोटी से छोटी टूल्स को भी एक निश्चित अंतराल मे ओवर.हाउलिंग कर उसकी कार्य क्षमता भी इन जांच में परखी जाती है । इन्हें अपनी ड्यूटी के समय पूरी महारत के साथ उपयोग कर सकने योग्य प्रशिक्षण देने के साथ नियमों की जानकारी हेतु काउंसिलिंग भी की जाती है   इस प्रकार दक्षिण पूर्व मध्य रेल्वे अपने कार्यक्षेत्र से गुजरने वाली सभी गाड़ियों की एवं समस्त रेल खंडो पर ड्यूटीरतसभी कर्मचारियों की मुस्तैदी की जाँच संरक्षा की दृष्टि से हर मौसम में रात एक अधिकारी द्वारा जाँच करवाती है और सुरक्षा एवं संरक्षा सुनिश्चित करते हुए ट्रेनों का सुरक्षित परिचालन सुनिश्चित करती है ।
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772