प्रदेश सरकार विपक्ष से बदला लेने की पटकथा लिख चुकी है–शैलेष …….

रायपुर/कांग्रेस सरकार के प्रति आक्रामक तेवर अपनाए हुए है और लगातार हमले किये जा रही है।पत्रकार वार्ता मेंकांग्रेस के महामंत्री शैलेश नितिन त्रिवेदीने सरकार पर आरोप लगाया कि सरकार विपक्ष से बदला लेने की स्क्रिप्ट लिख रही है। जिस राजनीतिक उद्देश्य को राजस्व, सहकारिता, कृषि और ईओडब्ल्यू के माध्यम से प्राप्त नहीं किया जा सका, उसे अब सीबीआई के जरिए पाने की कोशिश की जा रही है। कांग्रेस शुरू से ही सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश की निगरानी में सीडी कांड की सीबीआई या एसआईटी जांच की मांग कर रही है, लेकिन सरकार ने इसे नजरअंदाज कर दिया। हमारी मांग नहीं मानी गई। इसके परिणाम दिखने शुरू हो गए हैं। झीरम की तरह ही षड़यंत्र के पहलू को छोड़कर विपक्ष से बदला लेने की स्क्रिप्ट लिखी जा चुकी है।त्
रिवेदी कहा कि 2013 में ब्रम्हास्त्र चलने की बात हुई तो झीरम घाटी की घटना हुई। ब्रम्हास्त्र चलता है तो बहुतों को मारकर आता है। झीरम में यही हुआ। झीरम में हमने देखा शहीद परिवारों के निवेदन के बाद भी झीरम के षड़यंत्र के पहलू के बाद भी मामले जांच नहीं हो रही है। सीडी कांड में भी अनेकों पत्रकारों को नोटिस दिया गया। एक पत्रकार विनोद वर्मा 2 महीने से जेल में हैं। सीडी कांड में कौन मौजूद थे। यह पूछा जा रहा है। सीडी किसने बनाई। सीडी महीनों से लेकर कौन घूम रहे थे। यह पता नहीं चलने के कारण आशंका है कि जांच निष्पक्ष नहीं हो रही है। वह भाजपा नेता, जिसका सीडी कांड में नाम आया है। वह सीएम आवास भी जाता रहा है, इसका रिकार्ड में उल्लेख है। जांच की दिशा से स्पष्ट है कि, हमने क्यों न्यायाधीश की निगरानी में जांच की मांग की थी। 156,( 3) का आवेदन विनोद वर्मा ने देकर कहा था कि झीरम की कई जानकारियां मेरे पास है। सीडी बनाने की साजिश करने वालों की जांच नहीं की जा रही है। सीडी के संज्ञान में होने का उल्लेख कांग्रेस ने किया। उन्होंने आरोप लगाया कि वर्मा के घर एसआईटी के लोग एक थैले में सीडी लेकर गए थे। प्रकाश बजाज को किसने फोन किया यह अब तक पब्लिक डोमेन में नहीं आया है। कांग्रेस फिर से मांग करती है न्यायाधीश की देखरेख में जांच की जाए। बीजेपी की दोनों सरकारों से मांग है असली षड़यंत्रकारी को पकड़ा जाए। पत्रकारों से चर्चा करना अपराध नहीं है। 
थैला और कार्टून की भी सीबीआई जांच हो–किरणमयी                                                                              
पूर्व महापौर किरणमयी नायक ने आरोप लगाते हुए कहा कि एडवोकेट ने 156,(3 )के आवेदन में सीसीटीवी फुटेज दी थी। इसमे थैला और कार्टून का उल्लेख है। इसका जवाब अब तक नहीं आया। केवल नकारा गया है। सीसीटीवी की फुटेज आवेदन के साथ अदालत में जमा है। इसकी जांच भी सीबीआई नहीं कर रही है। अन्तागढ़ और झीरम की जानकारी विनोद वर्मा के पास थी। 26 अक्टूबर से दो दिन पहले बीजेपी नेता ने विनोद वर्मा से दिल्ली में मुलाकात की। यह प्लान क्रिमिनल अफेन्स है। बीजेपी नेता के पीछे मंत्री हैं या कौन है यह पता चलना चाहिए। इस मौेके परकांग्रेस नेता ज्ञानेश शर्मा भी पत्रकार वार्ता में मौजूद रहे।
 
ब्रेकिंग
बिलासपुर: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, प्रभारी मंत्री जय सिंह अग्रवाल, कमिश्नर संजय अलंग, सांसद अरुण साव,... बिलासपुर: ताइक्वांडो नेशनल रैफरी सेमिनार एवँ Award का हुआ समापन बिलासपुर: कौन है यह विक्रम..? -अंकित बिलासपुर: भाजयुमो ने किया बिजली ऑफिस का घेराव बिलासपुर: शहीद की माता को पेंशन दिलाने महिला आयोग मुख्य सचिव और डीजीपी को लिखेगा पत्र बिलासपुर: यदुनंदन नगर में महिला के घर घुसा एक युवक, जानिए उसके बाद क्या हुआ, देखिए VIDEO बिलासपुर: अधिवक्ता प्रकाश सिंह की शिकायत पर एडिशनल कलेक्टर कुरुवंशी ने जाँच के बाद दुष्यंत कोशले और ... बिलासपुर: सारनाथ एक्सप्रेस दिसंबर से फरवरी तक 38 दिन रद्द, यात्रियों की बढ़ेगी मुश्किलें बिलासपुर: भाजपा-कांग्रेस के नेता नूरा-कुश्ती के तहत आदिवासी को ही चाहते हैं निपटाना: नेताम बिलासपुर: खमतराई की खसरा नंबर 561/21 एवँ 561/22 में से सैय्यद अब्बास अली, मो.अखलाख खान, शबीर अहमद, त...
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772