ब्रेकिंग
बिलासपुर: पुलिस अधिकारियों के अपराधियों से हैं अच्छे संबंध, जानिए इस सवाल पर क्या बोले नए एसपी संतोष बिलासपुर: एकता और सदभावना का संदेश लेकर चल रही है हाथ से हाथ जोड़ो यात्रा- लक्ष्मीनाथ साहू बिलासपुर में दो दिवसीय अखिल भारतीय नृत्य-संगीत समारोह विरासत 4 फरवरी से 30 जनवरी को दो मिनट के लिए ठहर जाएगा बिलासपुर, जानिए क्यों… बिलासपुर: इस प्रकरण ने SSP पारूल माथुर के सूचना तंत्र की खोली पोल तिफरा ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष लक्ष्मीनाथ साहू के नेतृत्व में निकली हाथ से हाथ जोड़ो यात्रा बिलासपुर के नए एसपी होंगे संतोष कुमार सिंह बिलासपुर: आखिर क्यों चर्चा में है तखतपुर तहसीलदार शशांक शेखर शुक्ला? बिलासपुर: इस बार कोटा SDM हरिओम द्विवेदी सुर्खियों में आए पामगढ़: अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त नृत्यांगना वासंती वैष्णव एवँ सुनील वैष्णव के निर्देशन में 26 जनव...

भाजपा नेता ने कहा- छग सरकार के खिलाफ याचिका पर हाईकोर्ट ने थमाया नोटिस, भाजपा में मची खलबली…

https://youtu.be/8k8MHmwhqXE
बिलासपुर। भाजपा के एक नेता ने अपनी सरकार के खिलाफ बात करके खलबली मचा दी है। यहां तक आदिवासियों के मुद्दे पर उन्होंने सरकार के खिलाफ हाईकोर्ट में याचिका दायर करने तथा हाईकोर्ट ने सरकार को नोटिस जारी करने का दावा किया। तेंदूपत्ता टेंडर 50 फीसदी कम दर पर स्वीकार किए जाने से दस लाख आदिवासी परिवार को नुकसान होने पर भाजपा के अजजा मोर्चा के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य बेहद खफा है।

पत्रकारों से बात करते हुए भाजपा नेता व आदिवासी विकास परिषद के प्रदेश अध्यक्ष संतकुमार नेताम ने कहा कि सरकार ने इस बार तेंदूपत्ता टेंडर 50 फीसदी कम रेट में स्वीकार किया है। इसकी जानकारी लघु वनोपज महासंघ के जरिए प्राप्त हुई। प्राप्त आंकड़ा के आधार पर बीते साल के बोनस से अगले साल के बोनस में करीब दस लाख आदिवासी परिवार को नुकसान होगा। उन्होंने कहा कि आदिवासियों को बोनस के रूप में 300 करोड़ प्राप्त हो रहा था, वह अब नहीं मिलेगा। प्रति परिवार को 30 हजार मिलता, वह अब नहीं मिल पाएगा। उन्होंने कहा कि चुनावी वर्ष के कारण सरकार ने बोनस को लाभांश के रूप में बांट दिया। सरकार का यह कृत्य आदिवासी विरोधी है। ऐसा लगता है राज्य सरकार आदिवासियों के खिलाफ काम कर रही है। उन्होंने सरकार के इस निर्णय का विरोध करते हुए कहा कि आदिवासी हित मे काम करना हमारा धर्म है। इसके रास्ते में यदि हमारी ही सरकार आए तो हम उसे भी नहीं छोड़ेंगे। श्री नेताम ने कहा कि इस मामले को लेकर हमनें हाईकोर्ट में सरकार के खिलाफ एक याचिका दायर किया है। हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस ने हमारी बात को समझकर स्वीकार किया और राज्य सरकार को नोटिस भेजा है। इसके अलावा लघु वनोपज महासंघ को भी अपनी बात रखने के लिए नोटिस भेजा है। मामले की सुनवाई 21 मार्च को है। आदिवासियों की ओर से अधिवक्ता सुधीर श्रीवास्तव मामले की पैरवी कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि सरकार आदिवासियों का अहित कर रही है। पहले आदिवासियों की जमीन में विधेयक लाकर नुकसान करने की कोशिश की और अब तेंदूपत्ता टेंडर कम रेट में स्वीकार कर अहित किया गया है।

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772