ब्रेकिंग
बिलासपुर: इस प्रकरण ने SSP पारूल माथुर के सूचना तंत्र की खोली पोल तिफरा ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष लक्ष्मीनाथ साहू के नेतृत्व में निकली हाथ से हाथ जोड़ो यात्रा बिलासपुर के नए एसपी होंगे संतोष कुमार सिंह बिलासपुर: आखिर क्यों चर्चा में है तखतपुर तहसीलदार शशांक शेखर शुक्ला? बिलासपुर: इस बार कोटा SDM हरिओम द्विवेदी सुर्खियों में आए पामगढ़: अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त नृत्यांगना वासंती वैष्णव एवँ सुनील वैष्णव के निर्देशन में 26 जनव... बिलासपुर: जाँच के दौरान कार में मिली 22 किलो 800 ग्राम कच्ची चाँदी, व्यापारी के द्वारा पेश किया गया ... बिलासपुर: सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़ के पदाधिकारियों ने मंत्री जयसिंह अग्रवाल को दिया नववर्ष मिलन सम... बिलासपुर: पत्रकार शाहनवाज की सड़क हादसे में मौत, सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़ ने शोक व्यक्त कर दी श्रद्... बिलासपुर: रतनपुर थाना क्षेत्र में कार में 3 जिंदा जले, पेड़ से टकराने के बाद कार में लगी आग, अंदर ही ...

काफिले के साथ अचानकमार टाइगर रिजर्व पहुंचकर धर्मजीत सिंह ने विधिविधान से खुलवाया रास्ता….

बिलासपुर। हाईकोर्ट द्वारा अचानकमार टाईगर रिजर्व के आम रास्ते को लोगों के लिए खोलने का आदेश जारी किए जाने के बाद पूर्व विधानसभा उपाध्यक्ष के नेतृत्व में जोगी कांग्रेस नेताओं का काफिला अचानकमार टाइगर रिजर्व पहुंचा। वहां धरमजीत ने उच्च न्यायालय का आदेश दिखाकर वाहनों के आवागमन के लिए विधिविधान से रास्ता खुलवाया। पूर्व विधानसभा उपाध्यक्ष ने फारेस्ट गार्डों को हाईकोर्ट की कापी के साथ गुलाब का फूल भी भेंट किया। इसके बाद वादे के अनुसार धरमजीत सिंह परिवार के साथ मां नर्मदा का दर्शन करने अमरकंटक रवाना हो गए।
आपकों बता दें कि वन प्रबंधन के निर्देश पर बिलासपुर कलेक्टर ने करीब एक साल पहले अचानकमार टाइगर रिजर्व से गुजरने वाले आम रास्ता को बंद कर दिया था। प्रशासन का मानना था कि अचानकमार टाईगर रिजर्व है। वाहनों और आम लोगों के आवागमन से जीव और खासकर टाइगर समेत अन्य वन्य प्राणियों को नुकसान होता है, वहीं राहगीरों को भी खतरा है। कलेक्टर के आदेश के बाद अचानकमार के रास्ते को बंद कर दिया गया। हाईकोर्ट में जनहित याचिका पेशकर रास्ता खोलने की माग जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जे नेता धर्मजीत सिंह व मणिशंकर पाण्डेय ने की थी। उन्होंने दावा किया था कि अचानकमार में टाइगर है या नहीं वन प्रबंधन को भी स्पष्ट नहीं है। हाईकोर्ट ने याचिका पर सुनवाई करते हुए 7 मार्च 2018 को आदेश पारित करते हुए कलेक्टर के आदेश को निरस्त कर दिया। हाईकोर्ट ने कहा है कि आमजन की आवाजाही के लिए यह रास्ता खोला जाए। याचिका पर सुनवाई जस्टिस संजय के अग्रवाल के न्यायालय में हुई। मामले में पैरवी अधिवक्ता सतीशचन्द्र वर्मा ने की है।

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772