ब्रेकिंग
बिलासपुर: पुलिस अधिकारियों के अपराधियों से हैं अच्छे संबंध, जानिए इस सवाल पर क्या बोले नए एसपी संतोष बिलासपुर: एकता और सदभावना का संदेश लेकर चल रही है हाथ से हाथ जोड़ो यात्रा- लक्ष्मीनाथ साहू बिलासपुर में दो दिवसीय अखिल भारतीय नृत्य-संगीत समारोह विरासत 4 फरवरी से 30 जनवरी को दो मिनट के लिए ठहर जाएगा बिलासपुर, जानिए क्यों… बिलासपुर: इस प्रकरण ने SSP पारूल माथुर के सूचना तंत्र की खोली पोल तिफरा ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष लक्ष्मीनाथ साहू के नेतृत्व में निकली हाथ से हाथ जोड़ो यात्रा बिलासपुर के नए एसपी होंगे संतोष कुमार सिंह बिलासपुर: आखिर क्यों चर्चा में है तखतपुर तहसीलदार शशांक शेखर शुक्ला? बिलासपुर: इस बार कोटा SDM हरिओम द्विवेदी सुर्खियों में आए पामगढ़: अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त नृत्यांगना वासंती वैष्णव एवँ सुनील वैष्णव के निर्देशन में 26 जनव...

सीएमएचओ को पत्र लिखकर कर्मचारी संघ अध्यक्ष रविन्द्र ने पूछा-पदमुक्त के बावजूद बिल्हा व मस्तूरी बीपीएम से क्यों लिया जा रहा काम…..

 

बिलासपुर। छग प्रदेश स्वास्थ्य कर्मचारी संघ ने सीएमएचओ को पत्र लिखकर सेवा से पृथक किए गए बिल्हा एवं मस्तूरी से शासकीय कार्य एवं वित्तीय प्रबंधन संपादित कराए जाने के लिए शासन से प्राप्त आदेश व निर्देश की प्रति उपलब्ध कराने की मांग की है। वहीं कागजात उपलब्ध नहीं होने की स्थिति में दोषियों के खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई करने को कहा है।

संघ के अध्यक्ष रविन्द्र तिवारी ने पत्र के जरिए कहा है कि मिशन संचालक राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन छत्तीसगढ़ रायपुर ने सीएमएचओ, जिला कार्यक्रम प्रबंधक बिलासपुर व खंड चिकित्सा अधिकारी सहित संबंधितों को प्रेषित पत्र में बिलासपुर जिला से बीपीएम बिल्हा एवं मस्तूरी का कार्य ठीक नहीं होने के कारण 31 दिसंबर तक सेवा कार्य के लिए नोटिस जारी किया था। वहीं आगे कार्य सही पाए जाने पर सेवा वृद्धि आगे बढ़ाए जाने के लिए नोटिस दिया गया था। दिसंबर 2017 तक कार्य सुधार नहीं पाए जाने के कारण पत्र से मिशन संचालक द्वारा 1 जनवरी 18 से उन्हें सेवा वृद्धि नहीं दिया गया। इससे स्पष्ट है कि दोनों बीपीएम बिल्हा एवं मस्तूरी की सेवा समाप्त 1 जनवरी 18 से हो गया है। उन्होंने पत्र के जरिए कहा है संघ जानना चाहता है कि इस आदेश के बावजूद दोनों सेवामुक्त बीपीएम से वित्तीय प्रबंधन का कार्य क्यों लिया जा रहा है। यहां तक उन्हें दो माह का वेतन भुगतान भी किया गया है। यदि सेवा वृद्धि के लिए कोई आदेश मिशन संचालक से प्रसारित नहीं हुआ है तो उच्चाधिकारी के आदेश की अवहेलना करते हुए आर्थिक अनियमितता को संरक्षण दिया गया। सेवा से मुक्त कर्मचारियों से नियम विरूद्ध कार्य लेने एवं वेतन भुगतान करने के दोषी अधिकारी के खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई कर संघ को अवगत कराने तथा दोनों बीपीएम द्वारा सेवामुक्त होने की तिथि से अब तक किए वित्तीय प्रबंधन कार्य की जांच कराने की मांग की गई है।

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772