ब्रेकिंग
बिलासपुर: पुलिस अधिकारियों के अपराधियों से हैं अच्छे संबंध, जानिए इस सवाल पर क्या बोले नए एसपी संतोष बिलासपुर: एकता और सदभावना का संदेश लेकर चल रही है हाथ से हाथ जोड़ो यात्रा- लक्ष्मीनाथ साहू बिलासपुर में दो दिवसीय अखिल भारतीय नृत्य-संगीत समारोह विरासत 4 फरवरी से 30 जनवरी को दो मिनट के लिए ठहर जाएगा बिलासपुर, जानिए क्यों… बिलासपुर: इस प्रकरण ने SSP पारूल माथुर के सूचना तंत्र की खोली पोल तिफरा ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष लक्ष्मीनाथ साहू के नेतृत्व में निकली हाथ से हाथ जोड़ो यात्रा बिलासपुर के नए एसपी होंगे संतोष कुमार सिंह बिलासपुर: आखिर क्यों चर्चा में है तखतपुर तहसीलदार शशांक शेखर शुक्ला? बिलासपुर: इस बार कोटा SDM हरिओम द्विवेदी सुर्खियों में आए पामगढ़: अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त नृत्यांगना वासंती वैष्णव एवँ सुनील वैष्णव के निर्देशन में 26 जनव...

जिले के किसी भी पैथोलॉजी लैब में नहीं होगी कोरोना की जॉंच, सजग रहें निवासी

कोरोना की जॉंच की सुविधा छत्तीसगढ़ में केवल रायपुर के एम्स में, निःशुल्क होती है जॉंच

कोरोना वायरस को लेकर फैल रही भ्रांतियों के बीच आज जिले के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉक्टर बी.बी. बोर्डे ने स्पष्ट किया है कि कोरोना की जॉंच के लिये कोरबा जिले में कोई भी निजी या शासकीय पैथोलॉजी लैब अधिकृत नहीं है न ही जिले की किसी भी पैथोलॉजी लैब में कोई व्यवस्था या इंतजाम नहीं है। कोरोना की जॉंच के लिये सैम्पल लेने की प्रक्रिया भी केवल जिला अस्पताल में ही होगी, किसी अन्य पैथोलॉजी लैब द्वारा कोरोना जॉंच के लिये सैम्पल कलेक्षन भी नहीं किया जा सकेगा। उन्होंने बताया कि कोरोना की जॉंच शहर या ग्रामीण क्षेत्रों की किसी भी लैब में नहीं हो सकती है। इसीलिये कोरोना की जॉंच कराने को लेकर लोगों को किसी भी प्रकार से किसी भी व्यक्ति के झांसे में आने की आवष्यकता नहीं है। डॉक्टर बोर्डे ने बताया कि राज्य एवं केन्द्र सरकार ने इस महामारी की रोकथाम एवं नियंत्रण के लिये दिषा-निर्देष जारी किये हैं और संदिग्धों तथा कोरोना संक्रमितों के आइसोलेषन से लेकर जॉंच और ईलाज तक की पूरी प्रक्रिया निर्धारित की गई है। दिषा-निर्देषों में कोरोना वायरस के फैलाव की रोकथाम और नियंत्रण के लिये भी सभी जरूरी उपाय शामिल किये गये हैं।

            डॉक्टर बोर्डे ने बताया कि कोरोना की जॉंच के लिये उच्च स्तरीय उपकरणों और रसायनों की जरूरत होती है, जो कि छत्तीसगढ़ राज्य में केवल रायपुर के एम्स मेडिकल कॉलेज में ही उपलब्ध है। उन्होंने यह भी बताया कि यह जॉंच पूरी तरह से निः शुल्क होती है। जिसके लिये किसी प्रकार की कोई राशि या पैसा मरीज से नहीं लिया जाता है।

बोर्डे ने बताया कि पूरे राज्य से कोरोना के संदिग्धों के गले एवं नाक से सैम्पल लेने के लिये केवल संबंधित जिले की जिला अस्पतालों को ही अधिकृत किया गया है। जिला अस्पताल में लिये गये सैम्पल को जॉंच के लिये अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स रायपुर ही भेजा जाता है। जहॉं से लगभग दो दिनों में रिपोर्ट मिलती है।

डॉक्टर बोर्डे ने यह भी बताया है कि किसी भी निजी पैथोलॉजी लैब द्वारा कोरोना के सैम्पल कलेक्षन की न तो अनुमति है न ही वे ऐसा कर सकते हैं। कोरोना के संदिग्धों का विधिवत जॉंच के लिये सैम्पल केवल शासकीय जिला अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड या क्वारंेटाईन केन्द्रों में शासकीय डॉक्टर द्वारा ही लिया जायेगा।

सीएमएचओ ने किसी भी भ्रामक सूचना पर या संदेह होने पर भी प्राइवेट पैथोलॉजी लैबों में जाकर जॉंच कराने का प्रयास नहीं करने की अपील लोगों से की है और ऐसे किसी भी व्यक्ति या संस्था के झांसे में न आने की भी अपील की है। उन्होंने यह भी बताया है कि अनाधिकृत व्यक्तियों या पैथोलॉजी लैबों द्वारा कोरोना वायरस की जॉंच की कोशिश  भी करने पर उनके विरूद्ध भारतीय दण्डविधान की धारा-188 और महामारी अधिनियम के तहत् कार्यवाही की जायेगी।

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772