भगवान शिव क्यों लगाते हैं अपने तन पर भस्म?

भगवान भोले शिवजी के हर रूप के पीछे कोई ना कोई रहस्य छिपा है। हिन्दू कथाओं के अनुसार कई जगह शिवजी को भस्म का प्रयोग करते हुए पाया गया है। वे अपने शरीर पर भस्म लगाते थे, ऐसा दावा किया जाता है।

भस्म यानि कुछ जलाने के बाद बची हुई राख, लेकिन यह किसी धातु या लकड़ी को जलाकर बची हुई राख नहीं है। शिव जली हुई चिताओं के बाद बची हुई राख को अपने तन पर लगाते थे, लेकिन क्यों! इसका अर्थ पवित्रता में छिपा है, वह पवित्रता जिसे भगवान शिव ने एक मृत व्यक्ति की जली हुई चिता में खोजा है। जिसे अपने तन पर लगाकर वे उस पवित्रता को सम्मान देते हैं। कहते हैं शरीर पर भस्म लगाकर भगवान शिव खुद को मृत आत्मा से जोड़ते हैं।

उनके अनुसार मरने के बाद मृत व्यक्ति को जलाने के पश्चात बची हुई राख में उसके जीवन का कोई कण शेष नहीं रहता। ना उसके दुख, ना सुख, ना कोई बुराई और ना ही उसकी कोई अच्छाई बचती है। इसलिए वह राख पवित्र है, उसमें किसी प्रकार का गुण-अवगुण नहीं है, ऐसी राख को भगवान शिव अपने तन पर लगाकर सम्मानित करते हैं। किंतु ना केवल भस्म के द्वारा वरन् ऐसे कई उदाहरण है जिसके जरिए भगवान शिव खुद में एवं मृत व्यक्ति में संबंध को दर्शाते हैं। साथ ही शिवभक्त भी राख को अपने माथे पर तिलक के रूप में लगाते हैं.

लेकिन क्या आप इसके पीछे के महत्व को जानते हैं। वास्तव में ‘शिवपुराण’ में इस सम्बध में एक कथा मिलती है। जिसके अनुसार जब सती ने स्वंय को अग्नि में समर्पित कर दिया था, तो उनकी मृत्यु का संदेश पाकर भगवान शिव क्रोध और शोक में अपना मानसिक संतुलन खो बैठे। वे अपनी पत्नी के मृत शव को लेकर इधर-उधर घूमने लगे, कभी आकाश में, तो कभी धरती पर। जब श्रीहरि ने शिवजी के इस दुख एवं उत्तेजित व्यवहार को देखा तो उन्होंने शीघ्र से शीघ्र कोई हल निकालने की कोशिश की। अंतत: उन्होंने भगवान शिव की पत्नी के मृत शरीर का स्पर्श कर इस शरीर को भस्म में बदल दिया। हाथों में केवल पत्नी की भस्म को देखकर शिवजी और भी चितिंत हो गए, उन्हें लगा वे अपनी पत्नी को हमेशा के लिए खो चुके हैं। अपनी पत्नी से अलग होने के दुख को शिवजी सहन नहीं पर पा रहे थे, लेकिन उनके हाथ में उस समय भस्म के अलावा और कुछ नहीं था। इसलिए उन्होंने उस भस्म को अपनी पत्नी की अंतिम निशानी मानते हुए अपने तन पर लगा लिया, ताकि सती भस्म के कणों के जरिए हमेशा उनके साथ ही रहें।

दूसरी ओर एक अन्य पौराणिक कहानी के अनुसार भगवान शिव ने साधुओं को संसार और जीवन का वास्तविक अर्थ बताया था जिसके अनुसार राख या भस्म ही इस संसार का अंतिम सत्य है। सभी तरह की मोह-माया और शारीरिक आर्कषण से ऊपर उठकर ही मोक्ष को पाया जा सकता है।

ब्रेकिंग
बिलासपुर: कोतवाली सीएसपी पूजा कुमार को सौंपा गया लाइन अटैच आरक्षकों की जांच का जिम्मा बिलासपुर: छत्तीसगढ़ से दो हजार किसान जाएंगे दिल्ली बिलासपुर: कमीशन वसूल करवाने वाला शख्स विक्रम कौन...? बिलासपुर: प्रदेश का सबसे बड़ा पत्रकार संघ "सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़" के प्रतिनिधि मंडल से दूसरी बार... बिलासपुर: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, प्रभारी मंत्री जय सिंह अग्रवाल, कमिश्नर संजय अलंग, सांसद अरुण साव,... बिलासपुर: ताइक्वांडो नेशनल रैफरी सेमिनार एवँ Award का हुआ समापन बिलासपुर: कौन है यह विक्रम..? -अंकित बिलासपुर: भाजयुमो ने किया बिजली ऑफिस का घेराव बिलासपुर: शहीद की माता को पेंशन दिलाने महिला आयोग मुख्य सचिव और डीजीपी को लिखेगा पत्र बिलासपुर: यदुनंदन नगर में महिला के घर घुसा एक युवक, जानिए उसके बाद क्या हुआ, देखिए VIDEO
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772