ब्रेकिंग
बिलासपुर: इस प्रकरण ने SSP पारूल माथुर के सूचना तंत्र की खोली पोल तिफरा ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष लक्ष्मीनाथ साहू के नेतृत्व में निकली हाथ से हाथ जोड़ो यात्रा बिलासपुर के नए एसपी होंगे संतोष कुमार सिंह बिलासपुर: आखिर क्यों चर्चा में है तखतपुर तहसीलदार शशांक शेखर शुक्ला? बिलासपुर: इस बार कोटा SDM हरिओम द्विवेदी सुर्खियों में आए पामगढ़: अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त नृत्यांगना वासंती वैष्णव एवँ सुनील वैष्णव के निर्देशन में 26 जनव... बिलासपुर: जाँच के दौरान कार में मिली 22 किलो 800 ग्राम कच्ची चाँदी, व्यापारी के द्वारा पेश किया गया ... बिलासपुर: सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़ के पदाधिकारियों ने मंत्री जयसिंह अग्रवाल को दिया नववर्ष मिलन सम... बिलासपुर: पत्रकार शाहनवाज की सड़क हादसे में मौत, सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़ ने शोक व्यक्त कर दी श्रद्... बिलासपुर: रतनपुर थाना क्षेत्र में कार में 3 जिंदा जले, पेड़ से टकराने के बाद कार में लगी आग, अंदर ही ...

कवयित्री कमला को गूगल ने डूडल बनाकर दी श्रद्धांजलि……

मशहूर कवयित्री कमला दास को गूगल ने डूडल बनाकर दी श्रद्धांजलि

आज गूगल का डूडल कमला दास के नाम है. कमला दास भारत की नामचीन कवयित्री और मलयालम लेखिका थीं. दास ने महिलाओं की सेक्सुअल जिंदगी और शादी-ब्याह से जुड़ी परेशानियों को अपनी रचनाओं में उकेरा. भारत के इतिहास में दास शायद पहिला लेखिका थीं जिन्होंने नारी विमर्श पर खुलकर बहुत कुछ लिखा.

कमला दास पैदा तो हिंदू परिवार में हुईं लेकिन 68 साल की उम्र में इस्लाम कबूल किया और तब से इन्हें कमला सुरैया के नाम से जाना जाने लगा.

केरल के त्रिचूर जिले में 31 मार्च 1934 को कमला दास का जन्म हुआ. मशहूर अखबार मातृभूमि के कार्यकारी संपादक वीएम नायर और नालापत बलमानी अम्मा के घर में इनका जन्म हुआ. बलमानी अम्मा खुद भी मलयाली कवयित्री थीं. दास का बचपन कलकत्ता में गुजरा जहां इनके पिता वॉलफोर्ड ट्रांसपोर्ट कंपनी में काम करते थे. दास ने भी अपनी मां की तरह लिखना शुरू किया. इनके चाचा नालापत नारायण मेनन भी प्रसिद्ध लेखक थे जिनका असर कमला दास की जिंदगी पर पड़ा. कविताओं के प्रति दास का आकर्षण इतना बढ़ा कि बहुत कम उम्र से ही उन्होंने लिखने-पढ़ने का काम शुरू कर दिया.

15 साल की उम्र में दास की शादी माधव दास से हुई जो कि पेशे से बैंकर थे. उनके पति ने लिखने के लिए प्रेरित किया और आगे चलकर उनकी रचनाएं अंग्रेजी और मलयालम दोनों भाषाओं में छपने लगीं. सन 1976 में कमला दास ने अपनी आत्मकथा-माई स्टोरी रिलीज की. दास की रचनाएं हों या उनकी खुद की जिंदगी, उनमें एक खास तरह की दिलेरी देखी जाती है.

उत्तर औपनिवेशिक काल में कमला दास ने नारीवादी लेखकों में अपना अलग मुकाम हासिल किया. उनकी कई पुस्तकें ऐसी हैं जिसमें उन्होंने महिलाओं की समस्याओं को केंद्र में रख कर नारीवादी विषय उठाए. नतीजतन घरेलू और सेक्सुअल हिंसा से परेशान महिलाओं ने कमला दास को अपना आदर्श माना. कविता की दुनिया में दास के योगदान को देखते हुए देश ने उन्हें ‘मदर ऑफ मॉडर्न इंडियन इंग्लिश पोएट्री’ से नवाजा. दास की रचनाएं आज भी महिलाओं के लिए आदर्श साबित हो रही हैं.

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772