ब्रेकिंग
बिलासपुर: महादेव और रेड्डी अन्ना बुक के सटोरियों पर पुलिस की बड़ी कार्यवाही बिलासपुर: जूनी लाइन स्थित सुरुचि रेस्टोरेंट के पास रहने वाले कृष्ण कुमार वर्मा के बड़े बेटे श्रीकांत ... बिलासपुर में UP65/ EC- 4488 नँबर की कार से जब्त हुए 5 लाख नकद बिलासपुर: सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़ की बैठक में संगठन की मजबूती पर चर्चा बिलासपुर: शैलेश, अर्जुन, रामशरण और विजय ने कहा- पूर्व मंत्री अमर अग्रवाल के कार्यकाल में भाजपा के पू... बिलासपुर: मुफ्त वैक्सीन के लिए अब केवल 7 दिन शेष, कलेक्टर ने की अपील, सभी लगवा लें टीका बिलासपुर: मोपका और चिल्हाटी के 845/1/न, 845/1/झ, 1859/1, 224/380, 1053/1 खसरा नँबरों की शासकीय भूमि ... बिलासपुर: क्या अमर अग्रवाल की बातों को गंभीरता से लेंगे कलेक्टर सौरभ कुमार? नेहरू चौक में लगी थी राज... बिलासपुर: इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के द्वारा नर्सिंग और गैर नर्सिंग स्टाफ़ के व्यक्तित्व विकास एवं कम्... बिलासपुर: गौरांग बोबड़े हत्याकांड के आरोपी रहे किशुंक अग्रवाल के पास से जब्त हुए 20 लाख

देह व्यापार में संलिप्त आरोपियों के खिलाफ की गई पुलिस कार्रवाई पर उठ रहे हैं सवाल, CCTV फुटेज की हो जांच


बिलासपुर: देह व्यापार में संलिप्त  2 युवकों और एक युवती को शहर के एक बड़े होटल से गिरफ्तार किया तो हड़कंप मच गया। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि तीनों आरोपी दूसरे राज्यों से यहां देह व्यापार के लिए आए थे। पुलिस इनके पास से आपत्तिजनक सामान भी बरामद किया है। पुलिस ने चारों के खिलाफ पीटा एक्ट के तहत जुर्म दर्ज भी किया है लेकिन इस कार्रवाई के बाद पुलिस को वाहवाही मिलने के बजाए सवाल उठने लगे हैं। 


पुलिस कार्रवाई पर उठ रहे सवाल

पुलिस ने इस कार्रवाई से जुड़ी जो बातें कहीं हैं उसके विपरीत एक सच समाने निकल कर आ रहा है। पुलिस शुरू से मामले को रफादफा करने में लगी थी। दरअसल पुलिस ने आरोपियों को रविवार के दिन ही होटल से गिरफ्तार किया था जबकि पुलिस सोमवार बताया। पुलिसकर्मी मामले को हल्के में ले रहे थे लेकिन मामला जब तूल पकड़ने लगा तो उच्च अधिकारियों के दबाव के कारण आरोपियों के खिलाफ  पीटा एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया। 


CCTV और लोकशन की जांच हो

इसके इतर पुलिस युवतियों को साई मंदिर के पास से हिरासत में लेने की बता कर रही है तो वहीं दोनों युवकों को पुराना बस स्टैंड के पास से एक एटीएम से पैसे निकालते वक्त हिरासत में लेना बता रही है। जाहिर है पुलिस कहीं न कहीं मामले को दबाने में लगी थी। इतना ही नहीं मामले सामने आने के बाद पुलिस होटल का नाम बताने में भी कतरा रही है ताकि होटल का नाम खराब ना हो। ऐसे में जरूरी है कि घटनास्थल की तमाम सीसीटीवी फुटेज की जांच हो और पुलिस अधिकारियों के लोकशन की भी जांच हो ताकि पुलिस कार्रवाई पर उठने वाले सवालों की सच्चाई सब के सामने आ सके। 

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772