ब्रेकिंग
बिलासपुर: पावर लिफ्टर निसार अहमद एवं अख्तर खान रविंद्र सिंह के हाथों हुए सम्मानित बिलासपुर: भाजपा पार्षद दल ने पुलिस ग्राउण्ड में जिला प्रशासन से रावण दहन की मांगी अनुमति बिलासपुर तहसीलदार अतुल वैष्णव का सक्ति और ऋचा सिंह का रायगढ़ हुआ ट्रांसफर बिलासपुर: आरोपी अमित भारते, जितेंद्र मिश्रा और संदीप मिश्रा को नहीं पकड़ पा रही है SSP पारूल माथुर की... बिलासपुर: कलेक्टर सौरभ कुमार ने सरकार हित में सरकारी जमीन बचाने वाले अधिवक्ता प्रकाश सिंह के साथ किय... बिलासपुर: उस्लापुर के रॉयल पार्क में नजर आएगी गरबा की धूम, थिरकने के लिए तैयार हैं शहरवासी बिलासपुर: कार्य की धीमी गति पर कंपनी के साथ जिम्मेदार अधिकारियों पर भी की जानी चाहिए थी कार्यवाही, स... बिलासपुर: महादेव और रेड्डी अन्ना बुक के सटोरियों पर पुलिस की बड़ी कार्यवाही बिलासपुर: जूनी लाइन स्थित सुरुचि रेस्टोरेंट के पास रहने वाले कृष्ण कुमार वर्मा के बड़े बेटे श्रीकांत ... बिलासपुर में UP65/ EC- 4488 नँबर की कार से जब्त हुए 5 लाख नकद

एक छात्रा की मौत से दुखी होकर जोगी ने मंत्री को लिखा पत्र

रायपुर /छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री एवं जनता छत्तीसगढ़ कांग्रेस(जे) के अध्यक्ष अजीत जोगी ने आदिम जाति कल्याण मंत्री प्रेमसाय सिंह टेकाम को एक पत्र लिखा है । इस पत्र में उन्होंने लिखा है कि कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय गौरेला में कक्षा छठवीं में अध्ययनरत छात्रा वृंदा नायक की मौत के मामले एवं  प्रीमैट्रिक आदिवासी कन्या छात्रावास अकोला पेंड्रा तथा प्रीमैट्रिक आदिवासी कन्या छात्रावास रूम का मरवाही के संचालन में अधीक्षकों द्वारा लापरवाही मामले में न्यायिक जांच कराने को लेकर छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने आदिम जाति कल्याण मंत्री को एक पत्र लिखा है।                   

अजीत जोगी ने पत्र में लिखा है कि मरवाही में स्थित छात्रावासों के संचालन सुरक्षा में लापरवाही की शिकायत सामने आई है ।  छात्रावास के प्रबंधन और संचालन में लापरवाही की वजह से  5 जनवरी को कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय गौरेला में कक्षा छठवीं में अध्ययनरत छात्र वृंदा नायक की मौत हो गई। जानकारी के मुताबिक यह छात्रा गौरेला वि.खं. के बोकरामुडा की रहने वाली थी । बीते 4 जनवरी की शाम उसकी तबियत खराब होने की वजह से उसे हॉस्टल की रसोई या सेनेटोरियम लेकर गई तथा रात में वापस ले गई। रात में तबीयत बिगड़ने पर सुबह उसे फिर सेनेटोरियम इलाज हेतु लाया गया पर इलाज के दौरान लगभग सुबह 11:30 बजे उसकी मौत हो गई । छात्रा वृंदा नायक की मौत में हॉस्टल प्रबंधन की लापरवाही मालूम हो रही है।
                   

वहीं छात्रावासों के अन्य मामलों में प्राप्त शिकायत के सन्दर्भ में अजीत जोगी ने लिखा कि प्री मैट्रिक आदिवासी कन्या छात्रावास सकोला वि.ख. पेण्ड्रा में प्री मैट्रिक आदिवासी कन्या छात्रावास रूमगा वि.ख. मरवाही के संचालन में अधीक्षक द्वारा लापरवाही बरती जा रही है। प्री मैट्रिक आदिवासी कन्या छात्रावास सकोला पेंड्रा के संबंध में शिकायत है कि अधीक्षिका  एवं सुरक्षा गार्ड शीतकालीन अवकाश के बाद 2 जनवरी तक छात्रावास में कर्तव्य पर उपस्थित नहीं रही। मीडिया द्वारा इस तथ्य को उजागर करने के बाद अधीक्षिका द्वारा मीडियाकर्मियों पर ही मनगढ़ंत आरोप लगाकर पुलिस चौकी में शिकायत कर उन्हें फंसाने की कोशिश भी की गई । प्री मैट्रिक आदिवासी कन्या छात्रावास सकोला के संबंध में शिकायत है कि अधीक्षिका कर्तव्य से अक्सर गायब रहती है तथा रसोइए के भरोसे उन्हें छोड़ दिया जाता है, साथ ही छात्राओं की सुरक्षा भगवान भरोसे रहती है । 
                   

प्रीमैट्रिक आदिवासी कन्या छात्रावास रूमगा मरवाही की भी है। यहां की अधीक्षिका  द्वारा छात्राओं को विगत 1 माह से रोज खाने में आलू की सब्जी और दाल चावल दिया जा रहा है जबकि नाश्ते का कोई प्रबंध नहीं किया जा रहा है, साथ ही अधीक्षिका रोज शाम को सिर्फ 1 घंटे के लिए ही आती है और छात्राओं को रसोइए के भरोसे छोड़ कर चली जाती है। यहां पर उल्लेखित है कि पूर्व में मरवाही के ग्राम करहनी स्थित प्रीमैट्रिक आदिवासी कन्या छात्रावास में अधीक्षिका द्वारा देर रात तक डीजे पार्टी आयोजित की गई थी जिसमें पुरुष अधीक्षक भी सम्मिलित थे। प्रशासन द्वारा सरपंच की शिकायत पर करहनी में छात्रावास में देर रात छापा मारकर आपत्तिजनक सामग्री डीजे सहित जबकि गई थी, बाद में आदिवासी विकास विभाग द्वारा मामले में लीपापोती कर दी गई। इस तरह मेरे क्षेत्र में स्थित आदिवासी छात्रावास एवं आवासीय विद्यालयों के संचालन में अनियमितता एवं लापरवाही बरती जा रही है जिसका खामियाजा गरीब आदिवासी छात्र छात्राओं को भोगना पड़ रहा है।
अजीत जोगी ने पूर्व में हुई घटनाओं का जिक्र करते हुए लिखे कि  छात्रावासों के संचालन में लापरवाही के कारण ही कांकेर जिले के झालियामारी आदिवासी आश्रम में अबोध बच्चों के शोषण की घटना घटित हुई थी जिसे भूलना ठीक नहीं होगा। 

इस संबंध में उन्होंने आदिम जाति कल्याण मंत्री प्रेमसाय सिंह टेकाम से आग्रह है किया है कि पूरे मामले की न्यायिक जांच कराते हुए आदिवासी छात्रावासों एवं आवासीय विद्यालयों में सुव्यवस्थित संचालन एवं सुरक्षा सुनिश्चित कराई जाए ।

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772