ब्रेकिंग
बिलासपुर: इस प्रकरण ने SSP पारूल माथुर के सूचना तंत्र की खोली पोल तिफरा ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष लक्ष्मीनाथ साहू के नेतृत्व में निकली हाथ से हाथ जोड़ो यात्रा बिलासपुर के नए एसपी होंगे संतोष कुमार सिंह बिलासपुर: आखिर क्यों चर्चा में है तखतपुर तहसीलदार शशांक शेखर शुक्ला? बिलासपुर: इस बार कोटा SDM हरिओम द्विवेदी सुर्खियों में आए पामगढ़: अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त नृत्यांगना वासंती वैष्णव एवँ सुनील वैष्णव के निर्देशन में 26 जनव... बिलासपुर: जाँच के दौरान कार में मिली 22 किलो 800 ग्राम कच्ची चाँदी, व्यापारी के द्वारा पेश किया गया ... बिलासपुर: सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़ के पदाधिकारियों ने मंत्री जयसिंह अग्रवाल को दिया नववर्ष मिलन सम... बिलासपुर: पत्रकार शाहनवाज की सड़क हादसे में मौत, सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़ ने शोक व्यक्त कर दी श्रद्... बिलासपुर: रतनपुर थाना क्षेत्र में कार में 3 जिंदा जले, पेड़ से टकराने के बाद कार में लगी आग, अंदर ही ...

SC में सामान्य तरीके से हुआ न्यायिक कामकाज……..

नई दिल्ली। उच्चतम न्यायालय में सोमवार को प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा और उनके खिलाफ आवाज मुखर करने वाले चारों न्यायाधीशों के न्यायालय में न्यायिक कामकाज सामान्य ढंग से हुआ। न्यायालय के चार वरिष्ठतम न्यायाधीशों की 12 जनवरी की अप्रत्याशित प्रेस काफ्रेंस के बाद आज शीर्ष अदालत में कामकाज का पहला दिन था।

प्रधान न्यायाधीश सहित सभी न्यायाधीशों ने अपने अपने न्यायालय कक्षों में खंडपीठों की अध्यक्षता की है हालांकि शीर्ष अदालत के गलियारों में यह अटलकें जोरों पर थीं कि अब देखना यह है कि प्रधान न्यायाधीश और चारों न्यायाधीश इस संकट का समाधान कैसे करते हैं। प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली खंडपवीठ के न्यायालय कक्ष में बड़ी संख्या में वकील, वादी-प्रतिवादी और पत्रकार न्यायालय की कार्यवाही देखने के लिये मौजूद थे जो वकील आर पी लूथरा द्वारा एक मामले का उल्लेख करने के साथ शुरू हुयी थी। लूथरा चाहते से प्रेस काफ्रेंस करने वाले न्यायाधीशों के खिलाफ कार्रवाई की जाये।

न्यायालय संख्या दो में न्यायमूॢत जे चेलामेश्वर की अध्यक्षता वाली पीठ ने शांतिपूवर्क काम किया और करीब 60 मामलों को देखा। इसी तरह न्यायमूॢत गोगोई, न्यायमूॢत लोकूर और न्यायमूॢत कुरियन ने भी क्रमश: न्यायालय संख्या तीन, चार और पांच में खंडपीठों की अध्यक्षता की। इनके समक्ष क्रमश: 49, 41 और 53 मामले सूचीबद्ध थे।

अटार्नी जनरल के. के. वेणुगोपाल ने कहा कि न्यायाधीशों के बीच सारा विवाद सुलझ गया है और वे सामान्य न्यायिक कामकाज मे व्यस्त हैं।

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772