ब्रेकिंग
बिलासपुर: कार्य की धीमी गति पर कंपनी के साथ जिम्मेदार अधिकारियों पर भी की जानी चाहिए थी कार्यवाही, स... बिलासपुर: महादेव और रेड्डी अन्ना बुक के सटोरियों पर पुलिस की बड़ी कार्यवाही बिलासपुर: जूनी लाइन स्थित सुरुचि रेस्टोरेंट के पास रहने वाले कृष्ण कुमार वर्मा के बड़े बेटे श्रीकांत ... बिलासपुर में UP65/ EC- 4488 नँबर की कार से जब्त हुए 5 लाख नकद बिलासपुर: सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़ की बैठक में संगठन की मजबूती पर चर्चा बिलासपुर: शैलेश, अर्जुन, रामशरण और विजय ने कहा- पूर्व मंत्री अमर अग्रवाल के कार्यकाल में भाजपा के पू... बिलासपुर: मुफ्त वैक्सीन के लिए अब केवल 7 दिन शेष, कलेक्टर ने की अपील, सभी लगवा लें टीका बिलासपुर: मोपका और चिल्हाटी के 845/1/न, 845/1/झ, 1859/1, 224/380, 1053/1 खसरा नँबरों की शासकीय भूमि ... बिलासपुर: क्या अमर अग्रवाल की बातों को गंभीरता से लेंगे कलेक्टर सौरभ कुमार? नेहरू चौक में लगी थी राज... बिलासपुर: इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के द्वारा नर्सिंग और गैर नर्सिंग स्टाफ़ के व्यक्तित्व विकास एवं कम्...

क्या अपनी विधायक सीट बचा पाएंगे लहरिया ?

बिलासपुर। लोक कलाकार से नेता बने दिलीप लहरिया वर्तमान में कांग्रेस से मस्तूरी विधानसभा सीट के विधायक हैं। लहरिया की निष्क्रियता के चर्चे मस्तूरी विस के ज्यादातर गांवों में उबाल में है।  मस्तूरी में घर होने के बावजूद लहरिया यहां से 20 किलोमीटर दूर राजकिशोर नगर में रहते हैं, विधायक से कोई काम है, तो लोगों को लंबी दूरी तय करके घर आना पड़ता है। यहां भी लहरिया के घर में ना होने से लंबी दूरी तय करना निरर्थक हो जाता है। जरूरत पड़ने पर भी लहरिया से बात नहीं होती, वे ज्यादातर मोबाइल उठाते ही नहीं यह ग्रामीणों की शिकायत है।
इस तरह मस्तूरी विधायक दिलीप लहरिया के कार्यकाल का यहां की जनता में घोर विरोध है।मिली जानकारी के अनुसार उनके गृहग्राम बकरकुदा का सरपंच उनकी शह पर करोड़ों का घोटाला कर चुका है। बताते हैं कि लहरिया कि यहां नहीं चलती, जनता की उम्मीदो पर विधायक दिलीप लहरिया नाकाफी साबित हुए हैं। सूत्र बताते हैं कि लहरिया के छूटभैया नेता व समर्थक छोटे-छोटे काम के लिए ताबड़तोड़ वसूली करते हैं। कुल मिलाकर यहां का हाल अंधेर नगरी चौपट राजा की तरह हो गया है। यही नहीं मस्तूरी क्षेत्र में अवैध क्रेशर, खनन खदानों का काला कारोबार भी बेलगाम है, इस पर भी लगाम लगाने में लहरिया नाकाम साबित हुए।
लहरिया छत्तीसगढ़ के सुप्रसिद्ध लोक गायकों में से एक हैं। यह छत्तीसगढ़ के प्रथम मुख्यमंत्री अजीत जोगी के नजदीकी भी रहे, लहरिया कांग्रेस से मस्तूरी के विधायक बने। वहीं यहां की जनता उनके कार्यकाल को दुर्भाग्यपूर्ण मानती है, क्योंकि उनके कार्यकाल में करोड़ों की धांधली हुई, जनता के विकास कार्यों का कोई भी काम नहीं हुआ।  इन सब के बाद यह सवाल उठना लाजमी है कि इस विधानसभा चुनाव में क्या लहरिया अपनी विधायक सीट बचा पाएंगे ?
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772