ब्रेकिंग
बिलासपुर: महादेव और रेड्डी अन्ना बुक के सटोरियों पर पुलिस की बड़ी कार्यवाही बिलासपुर: जूनी लाइन स्थित सुरुचि रेस्टोरेंट के पास रहने वाले कृष्ण कुमार वर्मा के बड़े बेटे श्रीकांत ... बिलासपुर में UP65/ EC- 4488 नँबर की कार से जब्त हुए 5 लाख नकद बिलासपुर: सदभाव पत्रकार संघ छत्तीसगढ़ की बैठक में संगठन की मजबूती पर चर्चा बिलासपुर: शैलेश, अर्जुन, रामशरण और विजय ने कहा- पूर्व मंत्री अमर अग्रवाल के कार्यकाल में भाजपा के पू... बिलासपुर: मुफ्त वैक्सीन के लिए अब केवल 7 दिन शेष, कलेक्टर ने की अपील, सभी लगवा लें टीका बिलासपुर: मोपका और चिल्हाटी के 845/1/न, 845/1/झ, 1859/1, 224/380, 1053/1 खसरा नँबरों की शासकीय भूमि ... बिलासपुर: क्या अमर अग्रवाल की बातों को गंभीरता से लेंगे कलेक्टर सौरभ कुमार? नेहरू चौक में लगी थी राज... बिलासपुर: इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के द्वारा नर्सिंग और गैर नर्सिंग स्टाफ़ के व्यक्तित्व विकास एवं कम्... बिलासपुर: गौरांग बोबड़े हत्याकांड के आरोपी रहे किशुंक अग्रवाल के पास से जब्त हुए 20 लाख

उइके के भाजपा प्रवेश पर भगत का बयान,कहा -वजूद बना कर रखें

 

 

रायपुर आदिवासी कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अमरजीत भगत ने कांग्रेस छोड़कर भाजपा प्रवेश करने वाले रामदयाल उइके को शुभकामना भेजी है, और संदेश भी दिया है। रामदयाल उइके को शुभकामना तो मीठी लग सकती है पर शुभकामना के साथ दिया संदेश रामदयाल को तीखा लग सकता है।

कांग्रेस छोड़ भाजपाई हो चुके  उइके को लेकर अमरजीत भगत ने कहा है “शुभकामना हमारी, जिस पार्टी में रहें जहाँ रहे विश्वसनीयता और निष्ठा के साथ रहें, वजूद बना कर रखें। बार-बार दल बदलने से विश्वसनीयता पर हमेशा प्रश्नचिन्ह लगा रहता है।”

कांग्रेस में रहते हुए रामदयाल  ने पुरज़ोर माँग रखी थी कि, प्रदेश में नेतृत्व आदिवासी के हाथ होना चाहिए। 

अब इस मुद्दे पर ही आदिवासी कांग्रेस के अध्यक्ष अमरजीत भगत ने रामदयाल  को सलाह दी है। अमरजीत भगत ने इस मसले का उल्लेख किया और कहा “मेरी सलाह है जिस प्रकार कांग्रेस पार्टी में रहकर के आदिवासी मुख्यमंत्री की माँग रखी अगर आप सही में आदिवासियो के हितैषी हैं तो जिस दल में गए है वहाँ भी इस माँग को पूरी दमदारी से रखें और ना केवल रखें बल्कि बनकर भी दिखाएँ।”

आदिवासी कांग्रेस के अध्यक्ष अमरजीत भगत ने कहा है कि कांग्रेस से अलग होने की “दूर-दूर तक कोई संभावना नहीं, राजनीति कैसे करना है और कहाँ करना है मैं जानता हूँ, मूल सिद्धांत और पार्टी से जो भटक गया उसको क्या ज़िल्लत सहनी पड़ती है, मैने करीब से देखा है।” उइके के भाजपा प्रवेश मसले पर तब अमरजीत ने बग़ैर कुछ कहे सब कुछ कह दिया जब आदिवासी कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अमरजीत ने यह कहा “वे आयातित नेता थे, जिस तरह से और जहाँ से आए थे, उसी तरह से वे वहाँ वापस पहुँच गए हैं।”

कांग्रेस छोड़ भाजपाई हो चुके रामदयाल  को लेकर अमरजीत भगत ने कहा है “शुभकामना हमारी, जिस पार्टी में रहें जहाँ रहे विश्वसनीयता और निष्ठा के साथ रहें, वजूद बना कर रखें। बार-बार दल बदलने से विश्वसनीयता पर हमेशा प्रश्नचिन्ह लगा रहता है।”

कांग्रेस में रहते हुए उइके ने पुरज़ोर माँग रखी थी कि, प्रदेश में नेतृत्व आदिवासी के हाथ होना चाहिए। 

अब इस मुद्दे पर ही आदिवासी कांग्रेस के अध्यक्ष अमरजीत भगत ने रामदयाल  को सलाह दी है। अमरजीत भगत ने इस मसले का उल्लेख किया और कहा “मेरी सलाह है जिस प्रकार कांग्रेस पार्टी में रहकर के आदिवासी मुख्यमंत्री की माँग रखी अगर आप सही में आदिवासियो के हितैषी हैं तो जिस दल में गए है वहाँ भी इस माँग को पूरी दमदारी से रखें और ना केवल रखें बल्कि बनकर भी दिखाएँ।”

 अमरजीत भगत ने कहा है कि कांग्रेस से अलग होने की “दूर-दूर तक कोई संभावना नहीं, राजनीति कैसे करना है और कहाँ करना है मैं जानता हूँ, मूल सिद्धांत और पार्टी से जो भटक गया उसको क्या ज़िल्लत सहनी पड़ती है, मैने करीब से देखा है।” उईके के भाजपा प्रवेश मसले पर तब अमरजीत ने बग़ैर कुछ कहे सब कुछ कह दिया जब  अमरजीत ने यह कहा “वे आयातित नेता थे, जिस तरह से और जहाँ से आए थे, उसी तरह से वे वहाँ वापस पहुँच गए हैं।”

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772