ब्रेकिंग
तखतपुर क्षेत्र की तीन नाबालिग छात्राओं को दो युवकों ने झांसे में लिया और अरब सागर ले गए, जानिए उसके ... CG: स्वामी आत्मानंद शासकीय इंग्लिश स्कूल की छात्रा रितिका ध्रुव का इसरो में चयन बिलासपुर: नगर निगम कमिश्नर अजय कुमार त्रिपाठी को मिली भिलाई-चरौदा की कमान, SDM तुलाराम भारद्वाज को भ... बिलासपुर: जिला पंचायत सभापति अंकित गौरहा को प्रदेश युवा संगठन चुनाव में मिली नई जिम्मेदारी बिलासपुर: मुख्यमंत्री जी! क्लेक्टर सौरभ कुमार को इस सड़क में हुआ भ्रष्टाचार नहीं आ रहा नजर. प्रियंका ... बिलासपुर: टिकरापारा मन्नू चौक निवासी रिशु घोरे को पुलिस ने चाकू के साथ किया गिरफ्तार बिलासपुर: पावर लिफ्टर निसार अहमद एवं अख्तर खान रविंद्र सिंह के हाथों हुए सम्मानित बिलासपुर: भाजपा पार्षद दल ने पुलिस ग्राउण्ड में जिला प्रशासन से रावण दहन की मांगी अनुमति बिलासपुर तहसीलदार अतुल वैष्णव का सक्ति और ऋचा सिंह का रायगढ़ हुआ ट्रांसफर बिलासपुर: आरोपी अमित भारते, जितेंद्र मिश्रा और संदीप मिश्रा को नहीं पकड़ पा रही है SSP पारूल माथुर की...

सबसे ऊंची दुर्गा प्रतिमा से पूरे देश में आकर्षण का केंद्र बना बिलासपुर

“पश्चिम बंगाल के 24 कारीगरों ने 3 महीने 24 घंटे आठ-आठ घण्टों की दो शिफ्ट में काम करके इस प्रतिमा को आकार दिया है। 1 लाख 25 हज़ार की लागत से माता के परिधान को विशेष रूप से सूरत के साड़ी निर्माताओं ने बनाया है। गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड और लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में संपूर्ण भारतवर्ष में सबसे विशाल माँ दुर्गा प्रतिमा के रूप में बिलासपुर की प्रतिमा को पहचान दिलाने समिति ने दोनों रिकॉर्ड के लिए आवेदन भी दे दिया है। इससे पहले भी व्यापार विहार गणेश उत्सव समिति के नाम पर सबसे विशालकाय गणेश प्रतिमा विराजित करने का रिकॉर्ड, लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज है।”

व्यापार विहार गणेश उत्सव समिति द्वारा सन् 2010 से इसकी शुरुआत की, उस समय से ही देश के सबसे ऊंचे गजानन की प्रतिमा की प्रतिमा 65 फीट ऊंची 40 फीट चौड़ी यहां विराजित होती है। 8 वर्षों से यह क्रम अनवरत जारी है। इस वर्ष नवरात्र में माँ दुर्गा की प्रतिमा भी 65 फीट ऊंची 40 फीट चौड़ी विराजित की गई है। इसे देखने दूर-दूर से लोग बिलासपुर के व्यापार विहार में पहुंच रहे हैं। यह पूरे देश में चर्चा का विषय बना हुआ है। प्रतिमा निर्माण के लिए विशेष रूप से 20 हाईवा मिट्टी कोलकाता से रोड के रास्ते यहां मंगाई गई है। पश्चिम बंगाल के 24 कारीगरों ने आठ-आठ घंटे की शिफ्ट कर इस मूर्ति को आकार दिया है। समिति आयोजक ने बताया कि इससे पहले संपूर्ण भारतवर्ष में कालीबाड़ी कोलकाता में 45 फिट ऊंची दुर्गा प्रतिमा विराजित होती है। जबकि बिलासपुर की दुर्गा प्रतिमा 65 फिट की है।

माँ दुर्गा की भव्य प्रतिमा को बनाने के लिए ग्यारह लाख खर्च किया गया है। सवा लाख रुपये की साड़ी माँ दुर्गा के लिए विशेष रूप से सूरत के कारीगरों से बनवाई गई है। समिति ने अवसर को और विशेष बनाने के लिए पंडाल क्षेत्र में मीना बाजार भी आयोजित किए हैं। रंगारंग कार्यक्रम का आयोजन नौ दिन अलग-अलग किया गया है। जिसमें देवी देवताओं के स्वरूप में नृत्य करने वाले, हरियाणा, मुंबई के कलाकारों को बिलासपुर बुलाया गया है। इसमें विशेष “शैलेश ग्रुप एंड कंपनी” द्वारा अपनी प्रस्तुति देवी-देवताओं के विभिन्न रूपों के अलग-अलग दिनों में दी जा रही है। इसे देखने भी विशेषकर लोग यहां पहुंच रहे हैं।

समिति संयोजक अजय शुक्ला ने बताया कि नवरात्रि को शहरवासियों के लिए खास बनाने के उद्देश्य से यहां पूरे देश की सबसे ऊंची दुर्गा प्रतिमा विराजित की गई है। इससे पहले भी समिति ने लगातार 65 फीट ऊंची गणेश प्रतिमा विराजित करने का रिकॉर्ड लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में अपने नाम दर्ज कराया है। माँ दुर्गा की 65 फीट ऊंची और 40 फीट चौड़ी प्रतिमा के दर्शन के लिए बड़ी संख्या में दूर-दूर से भक्तगण रोज पंडाल पहुंच रहे हैं। हमारा आयोजन सफल हो रहा है। अजय शुक्ला ने बताया कि विसर्जन के लिए फायर ब्रिगेड मंगाकर बिना प्रकृति को हानि पहुंचाये। मूर्ति विसर्जित की जाती है, इसके पश्चात बची हुई मिट्टी को ट्रक के माध्यम से निजी तालाब में विसर्जित किया जाता है। अजय ने बताया कि समिति द्वारा नदी तालाबों के संरक्षण को बढ़ावा देने के उद्देश्य से ऐसा किया जा रहा है।

गणपति की विशाल प्रतिमा भी दुर्गा प्रतिमा के सामने विराजित

अजय शुक्ला ने बताया कि दूर-दराज के श्रद्धालु नवरात्र के समय माँ दुर्गा का दर्शन करने शहर भ्रमण पर आते हैं। गणेश के समय ऐसा नहीं होता। इस उद्देश्य से कि देश की सबसे विशाल गणेश की प्रतिमा भी श्रद्धालु कर देख सके। समिति ने गणेश प्रतिमा विसर्जित न करने का निर्णय लिया और माँ दुर्गा की विशालकाय प्रतिमा के सामने गणेश की विशाल प्रतिमा को विराजित किया है। ताकि जो श्रद्धालु गणेश प्रतिमा का दर्शन नहीं कर पाए, उन्हें देश की सबसे ऊंची गणेश प्रतिमा का दर्शन मिल सके।

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772